Toll on Delhi Meerut Expressway: आपको दिल्‍ली जाने के लिए इतने रुपये करने होंगे खर्च, कंपनी को हैंडओवर हुए उपकरण

Toll on Delhi Meerut Expressway दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे पर टोल वसूली को परिवहन मंत्रालय से मिली मंजूरी। आठ दिसंबर से एक्‍सप्रेस वे पर टोल की वसूली शुरू होने जा रही है। दो दिन में उपकरण लगाकर ट्रायल किया जाएगा। तैयारियां हो चुकी हैं।

Prem Dutt BhattPublish:Fri, 03 Dec 2021 11:07 AM (IST) Updated:Fri, 03 Dec 2021 01:56 PM (IST)
Toll on Delhi Meerut Expressway: आपको दिल्‍ली जाने के लिए इतने रुपये करने होंगे खर्च, कंपनी को हैंडओवर हुए उपकरण
Toll on Delhi Meerut Expressway: आपको दिल्‍ली जाने के लिए इतने रुपये करने होंगे खर्च, कंपनी को हैंडओवर हुए उपकरण

मेरठ,जागरण संवाददाता। Toll on Delhi Meerut Expressway दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे पर टोल वसूली आठ दिसंबर से शुरू हो जाएगी। यह देश का पहला एक्सप्रेस-वे है, जिस पर आटोमेटिक नंबर प्लेट रीडर (एएनपीआर) के जरिए फास्टैग से टोल कटौती होगी। उससे एक दिन पहले टोल दर व अन्य नियमों की अधिसूचना जारी होगी।

हैंडओवर की प्रक्रिया पूरी

टोल वसूली के लिए चयनित कंपनी पाथ लिमिटेड के अधिकारी-कर्मचारियोंके साथ-साथ एनएचएआइ के अधिकारी भी गुरुवार को टोल प्लाजा पहुंचे। उपकरणों की हैंडओवर प्रक्रिया पूरी की गई। कुछ बूथों के पास फास्टैग रीडर नहीं लगा था। कुछ उपकरण भी लगाने बाकी हैं। इसके चलते गुरुवार को टोल वसूली का ट्रायल रन नहीं हो सका। दो दिन में उपकरण लगाकर ट्रायल किया जाएगा।

ऐसे होगी फास्टैग से शुल्क कटौती

टोल वसूली एएनपीआर की मदद से होगी। यह उपकरण प्रवेश व निकास के स्थानों की दूरी बताएगा, जिससे वाहन का पूरा विवरण सामने आ जाएगा। उसी आधार पर फास्टैग से शुल्क कटेगा। इस प्रक्रिया में वाहन चालक फास्टैग लगाने के मामले में गुमराह भी नहीं कर पाएंगे।

180 की रफ्तार में भी मशीनें कर लेंगी पहचान

180 किमी. प्रति घंटे की गति से दौड़ रहे वाहन की नंबर प्लेट को भी एएनपीआर पढ़ लेंगे। यहां लगे फास्टैग रीडर भी वाहन टैग को स्कैन करेंगे। फास्टैग रीडर ठीक से टैग को स्कैन करे, इसलिए टोल प्लाजा से लेकर सभी निकास-प्रवेश बूथों पर स्पीड ब्रेकर लगाए हैं।

दिल्ली मेरठ एक्सप्रेस-वे पर टोल की प्रस्तावित दरें

प्रवेश निकासी

सराय काले खां रसूलपुर सिकरोड़ा भोजपुर मेन प्लाजा (काशी)

हल्के वाहन 95 115 140

हल्के व्यावसायिक वाहन 150 190 225

बस व ट्रक 315 395 470

3-एक्सल वाहन 340 435 515

4-6 एक्सल वाहन

490 625 740

7 व अधिक एक्सल 600 760 900

प्रवेश निकासी

मेरठ (काशी) सराय काले खां इंदिरापुरम डूंडाहेड़ा डासना रसूलपुर भोजपुर

हल्के वाहन 140 95 75 60 45 20

हल्के व्यावसायिक वाहन 225 150 120 100 75 35

बस व ट्रक 470 320 255 210 155 75

3-एक्सल वाहन 515 345 275 230 170 80

4-6 एक्सल वाहन 740 500 400 330 245 115

7 व अधिक एक्सल 900 610 485 400 300 140

इनका कहना है

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय से टोल टैक्स वसूली की मंजूरी मिल गई है। दिल्ली में ट्रायल चल रहा है। मेरठ से अभी ट्रायल शुरू नहीं हो सका है। तैयारी पूरी कर जल्द ही टोल वसूली शुरू कर दी जाएगी।

- अरविंद कुमार, परियोजना निदेशक, एनएचएआइ।