नवरात्र पर प्रवाहित हुई भक्ति, आस्था और उत्साह की त्रिवेणी

नवरात्र पर प्रवाहित हुई भक्ति, आस्था और उत्साह की त्रिवेणी

देवी के महापर्व नवरात्र के पहले दिन भक्ति आस्था और उत्साह की त्रिवेणी प्रवाहित हुई।

JagranTue, 13 Apr 2021 10:45 PM (IST)

मेरठ,जेएनएन। देवी के महापर्व नवरात्र के पहले दिन भक्ति, आस्था और उत्साह की त्रिवेणी प्रवाहित होती रही। कोरोना के बढ़ते प्रकोप के चलते इस बार मंदिरों का परिदृश्य अलग रहा। मुंह पर मास्क लगाए भक्त मंदिरों में एक साथ नहीं पहुंचे। मंदिरों में भीड़ कम रही, लेकिन दर्शन करने वालों का क्रम लगातार बना रहा। शक्ति के उपासकों ने व्रत रखा। स्नान आदि कर घरों और मंदिरों में कलश स्थापना और पूजन का सिलसिला आरंभ हुआ। मंदिरों में देवी का अनुपम श्रंगार देखते ही बनता था। अक्षत, चंदन, धूप, दीप नैवेद्य से हुए देवी पूजन से वातावरण पुलकित होता रहा। भक्तों ने दुर्गा सप्तशती का पाठ किया। मुख्य मंदिरों के साथ कालोनियों के मंदिरों में देवी दर्शन के लिए लोगों तांता लगा रहा।

औघड़नाथ मंदिर में सुबह आठ बजे हवन हुआ। मंदिर समिति के महामंत्री सतीश सिंहल और अन्य ने आहुतियां अíपत कीं। पुजारी सुशील मिश्रा ने विधि विधान से पूजन कर घट स्थापना की और अखंड ज्योति प्रज्वलित की।

मनसा देवी मंदिर में दर्जनों महिलाएं कलश पूजन के लिए पहुंचीं। पुजारी भगवत गिरी ने बताया कि देवी के सम्मुख कलश की पूजा कर घरों में कलशों की स्थापना होगी। सुबह के समय मंदिर में हवन हुआ। दूर-दराज से दर्शन के लिए आने वाले भक्तों की सुविधा के लिए मंदिर के द्वार पूरे दिन खुले रहे। दर्शनाíथयों का तांता लगा रहा। न्यू मोहनपुरी स्थित दयालेश्वर महादेव मंदिर में देवी अपने नौ स्वरूपों में विराजमान हैं। पुजारी श्रवण झा ने प्रथम दिन नौ देवियों के समक्ष कलश स्थापना की। एक समय में पांच लोगों के प्रवेश के नियम के चलते यह अनुष्ठान दो भागों में किया गया। जयदेवी नगर स्थित गोल मंदिर में सुबह 6.30 बजे आरती की गई। देवी का दो बार सुबह और शाम को श्रंगार किया गया। श्रद्धालुओं ने देवी दर्शन किया। मंदिर में शारीरिक दूरी के अनुपालन के लिए घेरे बनाए गए हैं। मंदिर की व्यवस्था से जुड़े मनोज अग्रवाल ने बताया कि रात्रि क‌र्फ्यू के कारण नवरात्र में शाम को आरती सात की जगह 6.30 बजे होगी। ब्रह्मापुरी स्थित पुराना शिव मंदिर में ध्वजारोहण हुआ। राकेश गौड़, शिव कुमार, अमित शर्मा, राजीव शर्मा, अजय शर्मा, प्रदीप गुप्ता आदि मौजूद रहे।

छत्र यात्रा निकाली

सूरजकुंड स्थित बाबा मनोहरनाथ मंदिर में गुरु मां नीलिमानंद महाराज के सानिध्य में अठारह भुजी देवी की मूíत पर छत्र चढ़ाया गया। सम्राट पैलेस से भक्त छत्र लेकर फूलबाग कालोनी से होते हुए मंदिर परिसर पहुंचे। पूर्व महापौर हरिकांत अहलूवालिया और विपिन कुमार गोयल ने छत्र चढ़ाया। प्रिशेन रस्तोगी व लक्ष्मी रस्तौगी, मणी, प्रिसी, प्रियांशु, संजना, हिमांशु-राधिका, गौरांगी, शिवाय, काशवी, मुक्ता चौधरी, आचार्य विष्णु त्रिवेदी, आचार्य घनश्याम शास्त्री, रूद्र चौहान आदि मौजूद रहे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.