Online Education: स्‍कूल बंद हुआ तो क्‍या... मेरठ के छात्र नए प्रयोगों से आनलाइन पढ़ाई का बढ़ा रहे दायरा

मेरठ के छात्र ऑनलाइन शिक्षा से बढ़ा रहे दायरा।

Online Education News आनलाइन पठन-पाठन के एक साल हो चुके हैं। छात्र-छात्राओं ने इस नए अनुभव व प्रयोग को आत्मसात किया। आनलाइन उपलब्ध शिक्षण के नए-नए प्लैटफार्म से अपने सिलेबस के अनुरूप कोर्स कंटेंट भी सर्च कर रहे हैं।

Himanshu DwivediFri, 23 Apr 2021 10:18 AM (IST)

मेरठ, जेएनएन। आनलाइन पठन-पाठन के एक साल हो चुके हैं। छात्र-छात्राओं ने इस नए अनुभव व प्रयोग को आत्मसात किया। आनलाइन उपलब्ध शिक्षण के नए-नए प्लैटफार्म से अपने सिलेबस के अनुरूप कोर्स कंटेंट भी सर्च कर रहे हैं। सीबीएसई, एनसीईआरटी, स्वयं, दीक्षा आदि सरकारी प्लैटफार्म के अलावा भी सैकड़ों कोचिंग संस्थानों, स्कूल-कालेजों की ओर से भी अपने शिक्षकों के वीडियो कंटेंट को वेबसाइट व यू-ट्यूब पर चैनल बनाकर अपलोड किए जा रहे हैं। इससे छात्र अपनी रुचि और एक से अधिक पसंदीदा स्कूलों के कंटेंट भी आनलाइन सर्च कर नोट तैयार कर रहे हैं। स्कूलों के शिक्षक भी छात्रों को सीधे वीडियो कंटेंट मुहैया कराने के साथ ही स्कूल की वेबसाइट और यू-ट्यूब पर भी अपलोड कर रहे हैं।

नेटवर्क अब भी है समस्या

आनलाइन शिक्षण में क्वालिटी में तो काफी हद तक सुधार हो रहा है लेकिन इंटरनेट नेटवर्क अब भी समस्या है। कमजोर नेटवर्क से क्लास बाधित होती है। धीमी आवाज और वीडियो स्ट्रीमिंग के कारण क्लास के दौरान बच्चे बार-बार शिक्षक से शिकायत रहते हैं जिससे 40 मिनट की क्लास में कुछ मिनट बच्चों को नेटवर्क समस्या को समझाने में ही निकल जाते हैं। इसके अलावा लगातार मोबाइल स्क्रीन पर देखने से आंख में दर्द और एकाग्रता भी नहीं रहती है। इसीलिए छात्र-छात्राएं आफलाइन क्लास को मिस करते हैं। छात्रों के अनुसार आनलाइन क्लास में थ्योरी वाले विषय तो ठीक से पढ़ पा रहे हैं लेकिन गणित सहित अन्य अंकीय विषयों की क्लास में समझने में दिक्कत होती है।

-आनलाइन क्लास चल रही है। विषय के अनुसार शिक्षक वीडियो कंटेंट भी भेजते हैं। एक बार आनलाइन क्लास और दूसरी बार वीडियो देखकर रिवीजन भी हो जाता है। अन्य कंटेंट भी आनलाइन आसानी से मिल जाते हैं। बावजूद इसके आफलाइन क्लास वाली बात नहीं आ रही है। क्लास में डाउट क्लीयर ठीक से नहीं हो पाता है। आफलाइन में पढ़ाई के प्रति रुचि अधिक रहती है।

-प्रथम सहगल, कक्षा 10वीं, आर्मी पब्लिक स्कूल

-स्कूल बंद रहने से आनलाइन क्लास अच्छी ही चल रही है। स्कूल से पढ़ने के लिए पर्याप्त कंटेंट मिलता है। इसके अलावा मैं गणित सहित कुछ अन्य यू-ट्यूब वीउियो, एनिमेशन वीडियो, वेबसाइट बनाने के कंटेंट आदि सर्च करती हूं। हालांकि लगातार आनलाइन पढ़ाई करने से मेरी आंख कमजोर हो गई है। नेटवर्क समस्या और एकाग्रता की कमी रहती है आनलाइन क्लास में।

-गार्गी गुप्ता, कक्षा नौवीं, एमआइईटी पब्लिक स्कूल

-आनलाइन क्लास तो मजबूरी में ही लेनी पड़ रही है लेकिन अब सहज महसूस करने लगी हूं। गणित की क्लास में थोड़ी दिक्कत होती है। थ्योरी क्लास में तो अच्छे से पढ़ाई हो जाती है। नोट बनाने के लिए अलग-अलग वेबसाइट पर कंटेंट सर्च करती हूं। आनलाइन कंटेंट की कमी नहीं है।

-प्रकृति सुहेरा, कक्षा 10वीं, केएल इंटरनेशनल स्कूल 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.