माफिया पर पुलिस प्रशासन का प्रहार, मेरठ में रमेश प्रधान की संपत्ति सील Meerut News

मेरठ में सोमवार को शराब माफिया रमेश प्रधान की संपत्ति कुर्क की गई।
Publish Date:Tue, 29 Sep 2020 09:30 AM (IST) Author: Prem Bhatt

मेरठ, जेएनएन। कुख्यात योगेश भदौड़ा और शराब माफिया रमेश प्रधान पर कार्रवाई के बाद कुख्यात बदमाशों की संपत्ति खंगाली जा रही है। पुलिस जेल में बंद बदमाशों और उनके गुर्गों की संपत्ति तलाश करने में जुटी है। ढाई लाख के इनामी हिस्ट्रीशीटर बदन सिंह बद्दो के नाम पुलिस कोई संपत्ति नहीं ढूंढ पाई। बद्दो की भाभी की संपत्ति कुर्क करने पर हाईकोर्ट ने रोक लगा दी है।

ये किया गया कुर्क

पुलिस ने योगेश भदौड़ा के कब्जे से ग्राम सभा का तालाब खाली कराया। शराब माफिया मंगतपुरा निवासी रमेश प्रधान के दो मकान और चार गाडिय़ां कुर्क की। पुलिस ने होटल मुकुट महल से फरार हुए बद्दो की संपत्ति की भी तलाश की। एसपी सिटी अखिलेश नारायण सिंह का कहना है कि बद्दो और उसके बेटे सिकंदर के नाम कोई संपत्ति नहीं मिली है। अब बद्दो की फरारी में सहयोग करने वाले लोगों की नामी और बेनामी संपत्ति जब्त की जाएगी। उनकी संपत्ति जुटाने का स्रोत भी तलाशा जा रहा है। गहन पड़ताल के बाद ही पुलिस सहयोगियों पर कार्रवाई करेगी। पुलिस ने जेल में बंद कुख्यात सुशील मूंछ, भूपेंद्र बाफर, उधम सिंह, सुमित जाट, मोनू जाट, भरतू नाई समेत 55 बदमाशों की संपत्ति की जांच भी शुरू कर दी है।

उधम के 32 गुर्गों की लिस्ट निकाली

उधम सिंह और योगेश भदौड़ा के गुर्गों की भी पुलिस ने सूची बना दी है। उधम सिंह के साथ 32 बदमाश काम करते हैं। उनकी भी संपत्ति का ब्योरा जुटाया जा रहा है। एसएसपी अजय साहनी का कहना है कि आर्थिक रूप से तोडऩे के लिए बदमाशों की संपत्ति कुर्क की जा रही है। जिले के सभी बदमाशों की सूची तैयार कर उनकी संपत्ति की पड़ताल की जा रही है। हथियार सप्लाई करने वाले केएलएफ सदस्य जावेद की करोड़ों की संपत्ति का भी विवरण जुटाया जा रहा है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.