मेरठ के संतोष अस्पताल में आक्सीजन खत्म, आधी रात में कराए गए 65 मरीज शिफ्ट Meerut News

आधी रात को मेरठ के संतोष हॉस्पिटल में ऑक्‍सीजन खत्‍म हो गया।

आक्सीजन का जानलेवा संकट खड़ा होने लगा है। मंगलवार देर रात संतोष कोविड अस्पताल की आक्सीजन खत्म हो गई जहां से आनन-फानन में मरीजों को दूसरे अस्पतालों में शिफ्ट कराना पड़ा। सीएमओ डा. अखिलेश मोहन और एसीएमओ डा. पूजा शर्मा ने स्टाफ के साथ पहुंचकर हालात को जैसे-तैसे संभाला।

Himanshu DwivediWed, 21 Apr 2021 09:11 AM (IST)

मेरठ, जेएनएन। आक्सीजन का जानलेवा संकट खड़ा होने लगा है। मंगलवार देर रात संतोष कोविड अस्पताल की आक्सीजन खत्म हो गई, जहां से आनन-फानन में मरीजों को दूसरे अस्पतालों में शिफ्ट कराना पड़ा। सीएमओ डा. अखिलेश मोहन और एसीएमओ डा. पूजा शर्मा ने स्टाफ के साथ पहुंचकर हालात को जैसे-तैसे संभाला। कई मरीज आक्सीजन पर थे, जिनकी जान किसी तरह बचाई जा सकी।

प्रदेशभर के कई कोविड केंद्रों में आक्सीजन खत्म होने से मरीजों की जान सांसत में फंसी। मवाना के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती एक मरीज की आक्सीजन की कमी से मौत हुई, वहीं संतोष अस्पताल के कोविड वार्ड में भर्ती मरीजों के साथ हादसा होते-होते बचा। 100 बेडों वाले एल-2 कोविड वार्ड में भर्ती मरीजों के लिए आक्सीजन के पर्याप्त सिलेंडर नहीं पहुंच पाए थे, जिसका असर दोपहर बाद यहां की चिकित्सा व्यवस्था पर पड़ने लगा। अस्पताल प्रबंधन आक्सीजन का बंदोबस्त करने में जुटा था, लेकिन रात तक आक्सीजन गैस नहीं मिल पाई। इसी बीच, रात में आक्सीजन पर रखे गए मरीजों के लिए संकट खड़ा हो गया। किसी मरीज ने दम घुटने की शिकायत की, जहां पता चला कि सिलेंडर में आक्सीजन नहीं बची है। इसके बाद मरीजों के बीच अफरा-तफरी और भय का माहौल खड़ा हो गया। अस्पताल में आक्सीजन खत्म होने की सूचना पर सीएमओ डा. अखिलेश मोहन आधी रात 12 बजे तक मरीजों को शिफ्ट कराने में जुटे रहे। कई मरीजों को शिफ्ट करने के दौरान सांस के अटैक भी पड़े, लेकिन स्थिति संभाल ली गई। एनसीआर मेडिकल कालेज व आसपास के अस्पतलों में मरीजों को शिफ्ट किया गया। सुभारती के चिकित्सा अधीक्षक डा. कृष्णमूर्ति ने बताया कि सीएमओ ने रात में मरीजों को हमारे यहां शिफ्ट करने को कहा। हम 50 मरीज एडजस्ट करने के लिए तैयार हैं। रात करीब तीन बजे तक मरीज यहां नहीं पहुंचे हैं। 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.