मेरठ में नगर निगम के ट्रक ने दो कांस्टेबलों को दो सौ मीटर तक घसीटा, भीड़ ने की तोड़फोड़ की कोशिश

truck crushed constable मेरठ में नगर निगम एक ट्रक ने शनिवर की रात को यूपी पुलिस के दो कांस्टेबलों को कुचल दिया इस हादसे में एक कांस्‍टेबल की मौत हो गई। जबकि दूसरा कांस्‍टेबल गंभीर हालत में अस्‍पताल में भर्ती है। हादसा देखकर मौके पर भगदड़ मच गई थी।

Prem Dutt BhattSun, 28 Nov 2021 07:21 AM (IST)
पुलिस कर्मियों को ट्रक के नीचे देखकर तेजगढ़ी चौक मची भगदड़।

मेरठ, जागरण संवाददाता। truck crushed constable शीशपाल और आनंद दोनों ही हेडकांस्टेबल अक्सर एक साथ ही ड्यूटी करते थे। दोनों मूलरूप से सहारनपुर के रहने वाले है। शनिवार को नगर निगम के ट्रक ने दोनों की बाइक को टक्कर मारी। उसके बाद करीब दो मीटर तक घसीटता हुआ तेजगढ़ी चौराहे को पार कर गया। पुलिस कर्मियों को ट्रक के नीचे से घसीटता देख आसपास के लोगों में भगदड़ मच गई। चौकी पर तैनात पुलिसकर्मी भी दौड़े। पुलिस कर्मियों की हालत को देखकर आसपास के लोगों की भीड़ ट्रक में तोडफ़ोड़ का प्रयास करने लगी। तभी चौकी पर तैनात पुलिस कर्मियों ने भीड़ को रोका और घायल हैडकांस्टबलों को अस्पताल पहुंचाया।

पांच साल पहले तैनाती

पांच साल से मेरठ में तैनात था शीशपाल सहारनपुर के नकुड़ थाना क्षेत्र के तिरपड़ी गांव निवासी शीशपाल की उम्र 50 साल थी। शीशपाल की तैनाती मेरठ में पांच साल पहले हुई थी। शीशपाल की पत्नी सुमन और तीन बेटे पुष्पेंद्र, जितेंद्र और पुष्कर हैं। तीनों हाल में पढ़ाई कर रहे है। शीशपाल ने सहारनपुर के दिल्ली रोड पर मकान बना लिया है, जहां पर पत्नी और तीनों बच्चे रहते है। अक्सर ट्रेन से शीशपाल बच्चों से मिलने चले जाते थे। शीशपाल की मौत के बाद पुलिस ने उनके भाई हरपाल को काल कर मामले की जानकारी दी। हरपाल ने शीशपाल की पत्नी सुमन से अभी हादसे को छिपाकर रखा है। रात में शीशपाल के तीनों बेटे भाई हरपाल और भतीजा अजीत मर्चरी पर पहुंच गए थे। उन्होंने बताया कि शीशपाल बाइक पर पीछे बैठे थे। बाइक हेडकांस्टेबल आनंद चला रहा था। आनंद की हालत भी गंभीर बनी हुई है। डाक्टरों ने आनंद को खतरे से बाहर बताया है।

शीशपाल की हुई मौत

पेट में घुस गई थी ट्रक की राड शीशपाल के शरीर के ऊपर से ट्रक का पहिया उतर गया। उसके बाद पेट में लोहे की राड घुस गई थी, जबकि आनंद के हाथ की हड्डी टूट गई है। शीशपाल को खून से लथपथ हालत में आनंद अस्पताल में भर्ती कराया गया। खून अधिक बहने के कारण शीशपाल को खून चढ़ाया गया है। आनंद अस्पताल के डाक्टर सुभाष यादव ने सर्जरी शुरू कर दी थी। इसी बीच शीशपाल की मौत हो गई। शीशपाल की मौत के बाद तीनों बेटों की आंखों से आंसू नहीं रुक रहे थे। एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने बताया कि ड्यूटी के दौरान ही हादसे में शीशपाल की मौत हुई है। पुलिस इस दुख की घड़ी में उनके परिवार के साथ है। 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.