Oxygen In Meerut: मेरठ में अब जून के अंतिम सप्ताह से बनेगी अपनी आक्सीजन, मेडिकल में जल्द शुरू होगा काम

Oxygen Will Be Made In Meerut मई गुजरा मवाना और दौराला सीएचसी के प्लांट अब जून में शुरू होंगे । जून में ही कुछ निजी अस्पतालों में बनने लगेगी आक्सीजन मेडिकल में जल्द शुरू होगा काम ।

Taruna TayalMon, 14 Jun 2021 06:06 PM (IST)
मेरठ में जून से बनेगी अपनी आक्सीजन।

मेरठ, जेएनएन। कोरोना की दूसरी लहर के दौरान आक्सीजन की मारामारी मची तो शासन से लेकर स्थानीय प्रशासन तक हर अस्पताल में आक्सीजन प्लांट लगाने के लिए दिनरात जुटा था। लेकिन अब जैसे ही कोरोना की स्पीड कम हुई वैसे ही आक्सीजन प्लांट की स्थापना का कार्य भी धीमा पड़ गया। मई में

शुरू होने वाले मवाना और दौराला सीएचसी के आक्सीजन प्लांट अब जून के अंतिम सप्ताह तक चालू हो सकेंगे। मेडिकल कालेज में टाटा एडवांस को प्लांट लगाने की जिम्मेदारी दी गई है। जिलाधिकारी का कहना है कि वहां अब जल्द काम शुरू होगा। जिला अस्पताल में प्लांट की क्षमता बढ़ाने का प्रस्ताव खारिज हो गया है।

जिसे नए सिरे से तैयार किया जा रहा है। लेकिन कई निजी अस्पताल जून महीने में ही अपनी आक्सीजन का निर्माण शुरू कर देने का दावा कर रहे हैं।

आक्सीजन संकट को देखते हुए मवाना सीएचसी में 45 एलपीएम (लीटर प्रति मिनट) आक्सीजन उत्पादन क्षमता का प्लांट जबकि दौराला सीएचसी में 200 एलपीएम क्षमता का प्लांट स्थापित करने का काम शुरू किया गया था। इन्हें मई महीने में ही शुरू करा देने की कोशिश थी जो कि सफल नहीं हो सकी। कारण देश भर में आक्सीजन प्लांट की मांग रहा। अब इन्हें जून के अंतिम सप्ताह तक चालू करके आक्सीजन का उत्पादन शुरू करने का दावा है। जिलाधिकारी के बालाजी की माने तो मवाना में प्लांट स्थापित हो चुका है। दौराला में प्लांट 15 जून तक पहुंच जाएगा। दोनों स्थानों पर पाइप लाइन की स्थापना का काम जारी है। वहीं किठौर अस्पताल में 50 बेड के लिए 250 एलपीएम क्षमता के आक्सीजन प्लांट की स्थापना के कार्य का आदेश दिया जा चुका है। एक ही फर्म को प्लांट स्थापना और पाइप लाइन लगाने की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

जिलाधिकारी ने बताया कि मेडिकल कालेज में 960 एलपीएम क्षमता के प्लांट की स्थापना का काम टाटा एडवांस को सौंपा गया है। कुछ पैसा भी जारी कर दिया गया है। वहां जल्द काम शुरू होगा। प्लारेलाल शर्मा जिला अस्पताल में आक्सीजन प्लांट की क्षमता वृद्धि का प्रस्ताव अस्वीकृत हो गया है। जिस नए सिरे से तैयार कराया जा रहा है।

सीएचसी खरखौदा, रोहटा, परीक्षितगढ़, हस्तिनापुर, सरधना, भूडबराल और माछरा में भी आक्सीजन प्लांट लगाने की तैयारी है। इनके शासन के मानक के मुताबिक नए सिरे से टेंडर मांगे गए हैं। माना जा रहा है कि जल्द इनका कार्यादेश जारी कर दिया जाएगा।

आक्सीजन प्लांट की अपडेट

स्थान क्षमता वर्तमान स्थिति

सीएचसी मवाना 45 एलपीएम प्लांट पूर्ण, पाइप लाइन का काम जारी

सीएचसी दौराला 200 एमपीएम प्लांट 15 तक आएगा, पाइप लाइन का काम जारी

किठौर 250एलपीएम कार्यादेश जारी

सीएचसी खरखौदा 200 एलपीएम तकनीकि बिड फइनल

सीएचसी रोहटा 200 एलपीएम तकनीकि बिड फइनल

सीएचसी परीक्षितगढ़ 150 एलपीएम जेम पोर्टल पर बिड अपलोड

सीएचसी हस्तिनापुर 150 एलपीएम जेम पोर्टल पर बिड अपलोड

सीएचसी सरधना 150 एलपीएम जेम पोर्टल पर बिड अपलोड

सीएचसी भूडबराल 150 एलपीएम जेम पोर्टल पर बिड अपलोड

सीएचसी माछरा 150 एलपीएम जेम पोर्टल पर बिड अपलोड

मेडिकल कालेज 960 एलपीएम अभी काम शुरू नहीं

पीएल शर्मा 960 एलपीएम क्षमतावृद्धि का प्रस्ताव अस्वीकृत

डफरिन अस्पताल 333 एलपीएम शासन से स्वीकृति का इंतजार

इन्होंने कहा...

मवाना और दौराला में आक्सीजन प्लांट की उपलब्धता में कुछ विलंब हुआ। जून अंतिम सप्ताह तक दोनों स्थानों पर प्लांट काम करने लगेंगे। सीएचसी में

आक्सीजन प्लांट की क्षमता को लेकर शासन से कई बार संशोधन हुआ। अब फाइनली टेंडर जारी कर दिए गए हैं। जिनकी टेक्निकल बिड खोली जा चुकी है। आगामी एक दो दिन में वित्तीय बिड भी खोल ली जाएगी।

- के. बालाजी, जिलाधिकारी

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.