Meerut Weather Update: बारिश ने बदला मौसम का मिजाज, सहारनपुर और मेरठ प्रदेश में सबसे ठंडे

Meerut Weather Update बारिश ने मौसम का मिजाज बदल दिया है। अभी और बूंदाबांदी के आसार हैं। मौसम विज्ञानी इसे ला-नीना का प्रभाव बता रहे हैं। कहीं-कहीं पर कोहरा भी दिखाई दिखा। आज बादलों के बीच हल्‍की धूप निकलने के आसार हैं।

Prem Dutt BhattPublish:Fri, 03 Dec 2021 07:19 AM (IST) Updated:Fri, 03 Dec 2021 07:19 AM (IST)
Meerut Weather Update: बारिश ने बदला मौसम का मिजाज, सहारनपुर और मेरठ प्रदेश में सबसे ठंडे
Meerut Weather Update: बारिश ने बदला मौसम का मिजाज, सहारनपुर और मेरठ प्रदेश में सबसे ठंडे

मेरठ, जागरण संवाददाता। Meerut Weather Update मेरठ जनपद में लगातार दूसरे दिन सूर्य देव के दर्शन नहीं हुए। शाम को बौछारों ने ठिठुरन बढ़ा दी। लोगों ने पहली बार दिन में कंपकंपी महसूस की। मौसम विभाग के आंकड़ों पर नजर डालें तो प्रदेश में सबसे कम अधिकतम तापमान सहारनपुर 19.5 दर्ज किया गया। वहीं मेरठ का अधिकतम तापमान 20 डिग्री रहा। यह सामान्य से पांच डिग्री कम था। वहीं मेरठ का न्यूनतम तापमान 12 डिग्री रहा, जबकि सहारनपुर का 13 डिग्री रहा।

पश्चिमी उत्तर प्रदेश का मौसम

अरब सागर से उठी चक्रवाती परिसंचरण साइक्लोनिक सर्कुलेशन के चलते नम हवाएं चल रही हैं। हिमालय पर सक्रिय हुए पश्चिम विक्षोभ और नम हवाओं के संयुक्त प्रभाव से पश्चिमी उत्तर प्रदेश का मौसम बदल गया है। बड़े क्षेत्र में बादल छाए रहे। मेरठ में दूसरे दिन भी बादल आसमान से नहीं हटे। शाम चार बजे ही अंधेरा छा गया। सड़कों पर वाहन चालकों को लाइट जलानी पड़ी। कुछ ही देर बाद बूंदाबांदी शुरू हो गई। दिल्ली रोड पर तेज बौछारें पड़ीं। जनपद के सभी भागों में कहीं तेज तो कम बारिश देखी गई। निजी मौसम एजेंसी स्काईमेट के उपाध्यक्ष महेश पलावत ने बताया कि शुक्रवार से मौसम साफ होना आरंभ हो जाएगा। पांच को एक और पश्चिम विक्षोभ सक्रिय होगा। जिससे पांच और छह को एनसीआर में बारिश की गतिविधियां और पर्वतीय इलाकों में बारिश और बर्फबारी हो सकती है।

दो दिसंबर को प्रमुख शहरों का अधिकतम तापमान (डिग्री सेल्सियस में)

सहारनपुर - 19.5

मेरठ - 20.0

बागपत - 21.0

मुजफ्फरनगर - 22.0

आगरा - 21.4

अलीगढ़ - 21.6

बरेली - 21.3बिजनौर - 20.4

वाराणसी - 25.6

कानपुर - 25.2

लखनऊ -25.6

दिल्ली - 19.8

ला-नीना का प्रभाव लग रहा

कृषि प्रणाली संस्थान के प्रधान मौसम विज्ञानी डा. एन सुभाष ने बताया कि प्रशांत महासागर की सतह के सामान्य से अधिक ठंडी होने से इस बार ला-नीना का प्रभाव है। ला-नीना इफेक्ट भारत समेत विश्व के मौसम पर अपना असर डालता है। मेरठ में नवंबर में भी इस बार अच्छी ठंड देखने को मिली है। पारे में इतनी गिरावट हुई है, 13 साल के अंतराल में इतनी कभी नहीं देखी गई है। औसत न्यूनतम तापमान 10 डिग्री दर्ज किया गया है, जबकि अधिकांशत: यह 11 और 12 के आसपास रहता था।