Meerut Weather Forecast: साफ आसमान पर तेज धूप के साथ गर्मी और उमस से ही होगा सामना

सोमवार को साफ आसमान पर तेज सूरज के कारण उमस बरकरार रहेगी।
Publish Date:Mon, 28 Sep 2020 06:40 AM (IST) Author: Prem Bhatt

मेरठ, जेएनएन। Meerut Weather Forecast रविवार को हालांकि कुछ समय के लिए मौसम खुशनुमा बना गया था। सोमवार को साफ आसमान पर सूरज के तेज चमकने से दिन में गर्मी और उमस बने रहने की संभावना है। रविवार को लगा था कि एक बार तो बारिश आ जाएगी लेकिन ऐसा हुआ नहीं। कल सुबह सुबह बह रही ठंडी हवाओं और आसमान पर छाए हल्‍के बादलों ने दिनभर मौसम के खुशनुमा बने के संकेत तो दिए थे। लेकिन दिन में धूप निकलने के बाद गर्मी और उमस भी परेशान किया। इसके पूर्व शनिवार को दिन की शुरुआत तो तेज धूप के साथ ही हुई थी पर बाद आसमान में काले घने बादल छा गए थे। बारिश नहीं हुई, मौसम अच्‍छा बना रहा। हालांकि सितंबर का माह अब खत्‍म होने को है। उतनी बारिश हुई नहीं, जितना कि अनुमान लगाया जा रहा है।

गर्मी और उमस से राहत

इसके पूर्व गुरुवार की देररात मेरठ और आसपास के जिलों में हुई झमाझम बारिश से मौसम सुहावना हो गया था। मेरठ समेत सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, बुलंदशहर, शामली, बागपत और बुलंदशहर में गर्मी ने लोगों को काफी परेशान किया है। कड़ी धूप से मेरठ समेत आसपास के जिलों में लोग परेशान हैं। वहीं सहारनपुर के देवबंद में हुई झमाझ बारिश से वहां की सड़के लबालब हो गई। आसपास के लोगों को आने-जाने में काफी समस्‍या उठानी पड़ी। मेरठ में पिछले कई दिनों से बारिश नहीं होने से गर्मी के साथ-साथ अन्‍य समस्‍या भी आई है। यहां का तापमान भी काफी बढ़ गया है। पिछले साल की तुलना करें तो इस साल मेरठ में बारिश का घनत्‍व भी कम रहा है।

बारिश की थी संभावना

मौसम विभाग ने सितंबर माह में बारिश होने की संभावना जताई थी। इसके पूर्व रविवार के बाद सोमवार को भी आसमान के साफ नजर आने से तेज धूप निकली थी, रविवार की तरह ही सोमवार को गर्मी और उमस का सामना करना पड़ा। सितंबर के महीने में जिस प्रकार उम्‍मीद जताई जा रही थी कि बारिश होगी, ऐसा हो नहीं रहा है। शनिवार को पहले तो आसमान पर हल्‍के बादलों ने वर्षा की संभावना को बल दिया लेकिन बाद में तीखी धूप ने उमस और गर्मी को बढ़ा दिया था, ऐसा ही रविवार को दिन निकलते ही हुआ। रविवार को दिनभर गर्मी और उमस के बनी रही। इसके पूर्व शुक्रवार की सुबह आसमान पर छाए बादलों बारिश होने की कुछ उम्‍मीदें जगाई थी, कुछ देर बाद निकली धूप ने सारी संभावनाओं को खत्‍म कर दिया था।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.