रिलायंस जियो के 2000 एरियल पोल उखाड़ने को मेरठ नगर निगम ने कमर कसी, जानिए क्या है मामला

अपर नगर आयुक्त ने कहा है कि कंपनी को कई पत्र भेजकर किराया जमा करने अनुबंध के नवीनीकरण के लिए कहा गया। मेरठ शहर में एरियल पोलों की स्थापना की लोकेशन व नंबरिंग सूची भी मांगी लेकिन अभी तक कंपनी ने कोई जवाब नहीं दिया है।

Parveen VashishtaWed, 01 Dec 2021 11:21 PM (IST)
रिलायंस जियो के एरियल पोल उखाड़ेगा मेरठ नगर निगम

मेरठ, जागरण संवाददाता। रिलायंस जियो इन्फोकोम लिमिटेड ने नगर निगम क्षेत्र में लगाए गए एरियल पोल का किराया जमा नहीं किया है। अपर नगर आयुक्त ममता मालवीय ने कंपनी को चेतावनी नोटिस भेजा है। अगर वित्तीय वर्ष 2020-21 व 2021-22 का किराया तत्काल जमा नहीं किया तो 12 प्रतिशत ब्याज सहित बकाया किराया वसूली के लिए आरसी डीएम को भेजी जाएगी। एरियल पोलों को अवैध मानते हुए उन्हें उखड़वाया जाएगा।

44 लाख रुपये किराया बकाया

रिलायंस जियो इंफोकोम लिमिटेड के सिविल लाइंस स्थित कार्यालय में प्रबंधक को भेजे गए नोटिस में कहा है कि लगभग 2000 एरियल पोल नगर निगम क्षेत्र में कंपनी ने लगाए हैं। वर्ष 2020-21 व वित्तीय वर्ष 2021-22 का किराया नहीं जमा किया है। लगभग 44 लाख रुपये किराया बकाया है। अपर नगर आयुक्त ने कहा है कि कंपनी को कई पत्र भेजकर किराया जमा करने, अनुबंध के नवीनीकरण के लिए कहा गया। एरियल पोलों की स्थापना की लोकेशन व नंबरिंग सूची भी मांगी लेकिन अभी तक कंपनी ने कोई जवाब नहीं दिया है।

लखनऊ से पहुंची टीम के साथ स्मार्ट रोड को लेकर हुआ मंथन

मेरठ, जागरण संवाददाता। शहर की मुख्य सड़कों में शामिल हापुड़ अड्डे से तेजगढ़ी चौपले तक बनने वाली स्मार्ट रोड के संबंध में बुधवार को लोक निर्माण विभाग में महत्वपूर्ण बैठक हुई। इसमें लखनऊ से पहुंचे स्मार्ट सिटी के कंसल्टेंट संस्था की ओर से दो सदस्यीय टीम ने हिस्सा लिया। उन्होंने स्मार्ट रोड पर अपने सुझाव लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों से साझा किए।

हापुड़ अड्डे से तेजगढ़ी चौपले तक बनेगी स्मार्ट रोड

स्मार्ट सिटी के तहत हापुड़ अड्डे से तेजगढ़ी चौपले तक स्मार्ट रोड बनाई जाएगी। इसके लिए 2.77 किमी सड़क को विकसित करने में लगभग 40 करोड़ की लागत आएगी। बुधवार को स्मार्ट रोड की सुविधाओं व तकनीकी बिंदुओं पर चर्चा हुई। इसके लिए लखनऊ से स्मार्ट सिटी की कंसल्टेंट संस्था केपीएमजी से विशेषज्ञ के तौर पर वीरेंद्र व सरोज मेरठ में लोक निर्माण विभाग कार्यालय पहुंचे। उन्होंने प्रांतीय खंड कार्यालय में अधिशासी अभियंता अतुल कुमार के साथ बैठक करते हुए सुझाव दिए। टीम के सदस्यों ने कहा कि स्मार्ट रोड डीपीआर का आगणन मुख्यालय से नगर निगम को प्रेषित किया जाएगा। उन्होंने सुझाव रखा कि डिवाइडर को दो मीटर चौड़ा बनाया जाना चाहिए। इसके अलावा उन्होंने विद्युत विभाग के डिटेल एस्टीमेट को मंगाने के लिए भी कहा। अधिशासी अभियंता अतुल कुमार, सहायक अभियंता महेश कुमार व अवर अभियंता मुकुल तेवतिया बैठक में शामिल रहे। टीम के सदस्य गुरुवार को लोनिवि अधिकारियों के साथ साइट विजिट करेंगे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.