मेरठ : बिजली विभाग के खिलाफ भाकियू ने परतापुर थाने में डेरा डाला, हाइवे किया जाम, यह रही वजह

मेरठ में बिजली विभाग की छापेमारी के बाद भारतीय किसान यूनियन में विभाग के खिलाफ आक्रोश है। शनिवार को भाकियू कार्यकर्ताओं ने बिजली विभाग पर किसानों का उत्पीडऩ करने का आरोप लगाते हुए परतापुर थाने में डेरा डाल लिया। बाद में किसान माने।

Prem Dutt BhattSat, 24 Jul 2021 11:00 PM (IST)
मेरठ में साढ़े तीन घंटे दिल्ली रोड पर लगा रहा जाम, रूट किया डायवर्ट।

मेरठ, जागरण संवाददाता। कंचनपुर घोपला और जैनपुर गांव में बिजली विभाग की छापेमारी के बाद भारतीय किसान यूनियन में विभाग के खिलाफ आक्रोश है। शनिवार को भाकियू कार्यकर्ताओं ने बिजली विभाग पर किसानों का उत्पीडऩ करने का आरोप लगाते हुए परतापुर थाने में डेरा डाल लिया। थाना परिसर में धरना देकर नारेबाजी की और प्रदर्शन किया। ढुलमुल रवैया देखकर थाने के बाहर हाइवे पर ट्रैक्टर ट्राली लगाकर जाम लगा दिया। पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बिजली विभाग के अधीक्षण अभियंता मौके पर पहुंचे और आश्वासन दिया। जिसके बाद किसानों का गुस्सा शांत हुआ।

यह लगाया आरोप

गुरुवार भोर में बिजली विभाग ने कंचनपुर घोपला व जैनपुर गांव में छापेमारी करते हुए बिजली चोरी के संबंध में 44 लोगों के विरूद्ध मुकदमा दर्ज कराया था। भाकियू नेता विजयपाल घोपला, संजय दौरालिया, मदन घोपला, दीपक घोपला, सुभाष घोपला व सतीश ईलम सिंह आदि शनिवार को कार्यकर्ताओं के साथ थाने पहुंचे और बिजली विभाग पर उत्पीडऩ का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि जो किसान कृषि कानूनों के विरोध में व शताब्दीनगर में जमीन के मुआवजे की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे हैं। उन किसानों को निशाना बनाकर बिजली विभाग ने छापेमारी की कार्रवाई की है। पक्षपातपूर्ण कार्रवाई व उत्पीडऩ का आरोप लगाते हुए किसानों ने कहा कि जान-बूझकर उनके खिलाफ बिजली चोरी के मामले दर्ज कर परेशान किया जा रहा है। किसानों ने कहा कि जब तक मुकदमे वापस नहीं होंगे, तब तक धरना प्रदर्शन जारी रहेगा। जितेंद्र घोपला, वीरपाल घोपला, पम्मी जंगेठी, हर्ष चौधरी, करन घोपला, मेहराज मलिक, अर्जुन जंगेठी, अनुराग व सुभाष आदि मौजूद रहे।

थाने के बाहर लगाया जाम, रूट किया डायवर्ट

धरना शुरू होने के एक घंटे बाद किसानों ने परतापुर थाने के बाहर हाइवे पर वाहनों को रोकते हुए ट्रैक्टर-ट्राली लगाकर जाम लगा दिया। सीओ ब्रहमपुरी अमित कुमार राय व एसीएम संदीप श्रीवास्तव मौके पर पहुंचे और किसानों को समझाने का भरसक प्रयास किया। इस दौरान पुलिसकर्मियों ने वाहनों को उद्योगपुरम, गगोल रोड व परतापुर के रास्ते डायवर्ट करा दिया। इस दौरान करीब साढ़े तीन घंटे तक दिल्ली रोड पर वाहन सवारों की परेशानी झेलनी पड़ी।

दस दिनों में निस्तारण के आश्वासन पर शांत हुए किसान

विद्युत वितरण मंडल प्रथम ग्रामीण अधीक्षण अभियंता एके सिंह करीब दो बजे किसानों के बीच पहुंचे। उन्होंने एसीएम व सीओ की मौजूदगी में किसानों से वार्ता करते हुए कहा कि सहानुभूति पूर्वक विचार करते हुए नियमानुसार जितना राजस्व बैठेगा। उसे जमा कराने के बाद ही मुकदमे वापस किए जाएंगे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.