मेरठ : सीसीएसयू में प्रवेश के लिए 15 जून से कीजिए आवेदन, कई कोर्स में होंगे एडमिशन

मेरठ में विश्वविद्यालय ने सबसे पहले प्रवेश परीक्षा से होने वाले कोर्स के लिए आवेदन शुरू कर दिया है। 15 जून से 10 जुलाई तक संबंधित कोर्स में प्रवेश के लिए अभ्यर्थी ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। कोई भी छात्र वेबसाइट पर जाकर प्रवेश के लिए आवेदन कर सकता है।

Prem Dutt BhattPublish:Mon, 14 Jun 2021 03:20 PM (IST) Updated:Mon, 14 Jun 2021 03:20 PM (IST)
मेरठ : सीसीएसयू में प्रवेश के लिए 15 जून से कीजिए आवेदन, कई कोर्स में होंगे एडमिशन
मेरठ : सीसीएसयू में प्रवेश के लिए 15 जून से कीजिए आवेदन, कई कोर्स में होंगे एडमिशन

मेरठ, जेएनएन। मेरठ में चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय और संबद्ध महाविद्यालयों में प्रवेश की प्रक्रिया शुरू होने वाली है। जिसमें विश्वविद्यालय ने सबसे पहले प्रवेश परीक्षा से होने वाले कोर्स के लिए आवेदन शुरू कर दिया है। 15 जून से 10 जुलाई तक संबंधित कोर्स में प्रवेश के लिए अभ्यर्थी ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। विश्वविद्यालय और संबद्ध महाविद्यालयों में मेरिट और प्रवेश परीक्षा दोनों के माध्यम से छात्रों को प्रवेश दिया जाता है।

वेबसाइट पर जाना होगा

इसमें विश्वविद्यालय में सबसे पहले एमएड, बीपीएड, एलएलबी और एलएलएम जैसे पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए ऑनलाइन आवेदन करने की तिथि तय कर दी है। 15 जून से 10 जुलाई तक अभ्यर्थी विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर जाकर आवेदन कर सकेंगे। बीपीएड और एमपीएड जैसे पाठ्यक्रमों में छात्रों को शारीरिक दक्षता परीक्षा का भी प्रावधान रखा गया है। जिस में सफल होने वाले छात्रों को ही बीपीएड,एमपीएड जैसे पाठ्यक्रमों में प्रवेश मिलता है।

कल जारी होगा परीक्षा कार्यक्रम

दो जुलाई से सीसीएसयू और संबद्ध डिग्री कालेजों की परीक्षा शुरू होने जा रही है। 15 जून को परीक्षा समिति की बैठक के बाद परीक्षा कार्यक्रम जारी किया जा सकता है। स्नातक और परास्नातक अंतिम वर्ष व अंतिम सेमेस्टर की परीक्षा 27 अगस्त तक चलेगी। कोरोना की वजह से पिछले साल की तरह इस साल भी स्नातक प्रथम वर्ष द्वितीय वर्ष के छात्रों की परीक्षा नहीं कराई जाएंगी। बगैर परीक्षा के ये छात्र प्रमोट किए जाएंगे। दूसरी ओर इस बार स्नातक और परास्नातक अंतिम वर्ष के साथ स्नातक द्वितीय वर्ष की भी परीक्षा कराई जाएंगी। हालांकि सभी के प्रश्नपत्रों में प्रश्नों की संख्या आधी की जा रही है।

बैठक में होगा तय

परीक्षा की अवधि भी तीन घंटे की जगह डेढ़ घंटे की रहेगी। स्नातक अंतिम वर्ष में बहुविकल्पीय आधारित प्रश्नों में भी प्रश्नों की संख्या कम की जा रही है। परीक्षा में हुए बदलाव और परीक्षा कार्यक्रम पर परीक्षा समिति की 15 जून को होने वाली बैठक में मुहर लगेगी। इसके बाद परीक्षा केंद्रों को भी परीक्षा में हुए बदलाव की जानकारी दी जाएगी। रजिस्ट्रार धीरेंद्र कुमार का कहना है कि सबसे पहले अंतिम वर्ष की परीक्षा होगी। फिर स्नातक दूसरे वर्ष की परीक्षा कराई जाएगी। सितंबर में बीएड अंतिम वर्ष की परीक्षा होगी। पहले से जो परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं, उन्हीं केंद्रों पर परीक्षा होगी। कोरोना प्रोटोकाल के तहत शारीरिक दूरी सभी केंद्रों पर रहेगी। अगर केंद्रों की संख्या कम होगी तो उसे बढ़ाया भी जा सकता है।