लिम्का बुक आफ रिका‌र्ड्स में दर्ज हुआ मीनाक्षी का रिकार्ड

रसायन विज्ञान की आवर्त सारणी (पीरियोडिक टेबल आफ केमिस्ट्री) के सभी 118 रासायनिक तत्

JagranWed, 22 Sep 2021 10:02 AM (IST)
लिम्का बुक आफ रिका‌र्ड्स में दर्ज हुआ मीनाक्षी का रिकार्ड

मेरठ,जेएनएन। रसायन विज्ञान की आवर्त सारणी (पीरियोडिक टेबल आफ केमिस्ट्री) के सभी 118 रासायनिक तत्वों को सबसे तेज गति से सही क्रम में लगाने वाली विश्व की प्रथम महिला मीनाक्षी अग्रवाल का रिकार्ड लिम्का बुक आफ रिका‌र्ड्स में दर्ज हो चुका है। लिम्का बुक आफ रिका‌र्ड्स 2020-22 की पुस्तिका जारी कर दी गई है। 30 साल की उपलब्धियों को समेटे इस पुस्तिका के ह्यूमन स्टोरी में मीनाक्षी की उपलब्धि व रिकार्ड भी दर्शाया गया है। मोदीनगर की रहने वाली मीनाक्षी की यह उपलब्धि गिनीज बुक आफ व‌र्ल्ड रिका‌र्ड्स में भी दर्ज हो चुकी है और जल्द ही उनकी पुस्तिका में भी मीनाक्षी की उपलब्धि को प्रकाशित किया जा सकता है।

मीनाक्षी ने एक खाली आयताकार ग्रिड पर सभी 118 रासायनिक तत्वों को दो मिनट 49 सेकेंड में लगाकर विश्व रिकार्ड बनाया है। यूनेस्को ने वर्ष 2019 को इंटरनेशनल इयर आफ पीरियोडिक टेबल यानी अंतरराष्ट्रीय आवर्त सारणी वर्ष घोषित किया था। उसी में योगदान करने के लिए मीनाक्षी ने भारत से यह अनोखा और बेहद कठिन विश्व रिकार्ड बनाया था। मीनाक्षी के अनुसार इस रिकार्ड को बनाने के लिए अच्छी स्मरण शक्ति के साथ बुद्धिमता एवं तेजी से हाथों के संचालन की जरूरत होती है। मीनाक्षी की विज्ञान विषय में रुचि उनके पिता इलेक्ट्रिकल इंजीनियर एनके संघी से मिली प्रेरणा से बढ़ी। मीनाक्षी वर्तमान में नवी मुंबई में रहती हैं।

बसों के अनियमित संचालन पर जताया विरोध : महानगर बसों के बेतरतीब संचालन से यात्रियों को असुविधा हो रही है। बसों का स्टाफ भी परेशान है।

सैकड़ों की संख्या में मासिक पास धारक स्टाप पर बसों के इंतजार में घटों खड़े रहते हैं। उन्हें दूसरे साधनों से गंतव्य तक पहुंचना पड़ रहा है। मंगलवार को सोहराब गेट डिपो के चालक परिचालकों का कहना था कि जिस समय बसों को रूट पर होना चाहिए उस समय उन्हें रोक कर रखा जाता है जिससे आय भी प्रभावित हो रही है। मंगलवार को 30 से अधिक बसें दोपहर डेढ़ बजे तक सोहराब गेट डिपो पर खड़ी थी। मेरठ सिटी ट्रांसपोर्ट सर्विसेज लिमिटेड के एआरएम विवेक ने बताया कि बसों को इस तरह संचालित किया जाता है ताकि यात्रियों को हर पंद्रह मिनट में बस उपलब्ध हो। शाम के समय यात्रियों की डिमांड अधिक रहती है इसलिए बसों का शेड्यूल इस तरह निर्धारित किया गया है ताकि पीक आवर्स पर बसों की उपलब्धता रहे। बसों को बेवजह रोकने का आरोप गलत है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.