Delhi CM अरविंद केजरीवाल के भाषण के वो पांच बिंदु, जिससे यूपी विधानसभा चुनाव 2022 की तैयार कर गए पृ‍ष्‍ठभूमि

Mahapanchayat In Meerut: किसान महापंचायत को संबोधित करते दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल।

Mahapanchayat In Meerut महापंचायत में दिल्‍ली के सीएम अरविंद केजरीवाल शामिल हुए। उन्‍होंने अपने भाषणों से किसानों को आकर्षित किया। साथ ही मंहगाई और सरकार को घेरने वाले पांच बिदुओं को लेकर 2022 की चुनावी पृष्‍ठभूमि तैयार कर गए। जानिए क्‍या हैं वे पांच बिंदु।

Himanshu DwivediSun, 28 Feb 2021 05:55 PM (IST)

[हिमांशु द्विवेदी] मेरठ। Mahapanchayat In Meerut: उत्‍तर प्रदेश का विद्यानसभा चुनाव 2022 में होने वाला है। जिसे लेकर राजनैतिक पार्टियां अपनी तैयारियों में जुट गई हैं। खासकर आम आदमी पार्टी इस चुनाव को लेकर काफी जोर लगा रही है। इसी के मद्देनजर मेरठ में किसान महापंचायत बुलाई गई थी। इस पंचायत को सफल बनाने के लिए आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पूरी तैयारियां पहले से ही कर रखी थी। इस महापंचायत में दिल्‍ली के सीएम अरविंद केजरीवाल शामिल हुए। उन्‍होंने अपने भाषणों से किसानों को आकर्षित किया। साथ ही मंहगाई और सरकार को घेरने वाले पांच बिदुओं को लेकर 2022 की चुनावी पृष्‍ठभूमि तैयार कर गए। 

मंहगाई को लेकर सरकार को घेरा : सीएम अरविंद केजरीवाल ने यूपी व केंद्र सरकार पर मंहगाई को लेकर जमकर हमला बोला। उन्‍होंने गैस, पट्रोल व डीजल व आम जरुरत की चीजों की बढ़ रही महंगाई को लेकर सरकार से जवाब मांगा। उन्‍होंने महापंचायत में मौजूद लोगों से सवाल करते हुए कहा कि आखिर बताइए महंगाई क्‍यों कम हो रही है। यही सवाल उन्‍होंने यूपी के सीएम योगी आदित्‍यनाथ से भी पूछा और इस पर ऐलान करते हुए कहा कि अगर आम आदमी पार्टी की सरकार आएगी तो महंगाई खत्‍म कर देगी। लोगों की जरुरत की चीजें सस्‍ती हो जाएंगी। 

यूपी सरकार को गन्‍ने के भुगतान को लेकर घेरा : अरविंद केजरीवाल खास फोकस अपने भाषण में गन्‍ना पर रहा। उन्‍होंने इस मुद्दे से किसानों को अपनी ओर ध्‍यान केंद्रीत कराया। उन्‍होंने कहा कि सरकार एमएसपी की बात करती है, लेकिन यहां यूपी सरकार ने 1800 करोड़ गन्‍ना बकाया है। यह सरकार मील मालिकों की हितैषी हो गई है। उन्‍होंने आगे कहते हुए कहा कि दिल्‍ली में मैंन बिजली कंपनियों को ठीक कर दिया। यहां पर आप की सरकार आने के बाद मील मालिकों को ठीक कर दूंगा। 

एमएसपी को लेकर साधा निशाना: आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने एमएसपी को लेकर केंद्र सरकार पर हमलावर नजर आए। उन्‍होंने भाजपा की केंद्र सरकार पर कहा कि सरकार के जब एक नेता से मैंने पूछा कि एमएसपी क्‍यों नहीं दे रहे हैं तो उन्‍होंने क‍हा कि एमएसपी देने में करीब 17 हजार करोड़ का खर्च आएगा। आगे उन्‍होंने कहा कि ऐसा सरकार एमएसपी देना नहीं चाहती, इस कारण इसकी गारंटी भी नहीं दे रही है। कहा कि अगर आम आदमी पार्टी की सरकार रहती तो किसानों के लिए कितना भी खर्च कर देती। 

70 सालों से किसानों को सरकारों ने ठगा: सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि 70 साल में सभी पार्टी की सरकारों ने किसानों को धोखा दिया है। कहा कि किसान बस फसल का सही दाम मांग रहा है, लेकिन सरकारें कितनी आईं और गईं  लेकिन किसी ने किसानों की तरफ ध्‍यान तक नहीं दिया। यूपी के किसान खासकर पश्चिमी उत्‍तर प्रदेश की सरकार इस सरकार से परेशान है, वह बदलाव चाहती है।  

राकेश टिकैत के आंसूओं का लिया सहारा: अरविंद केजरीवाल ने अपने भाषण के दौरान किसानों को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए भाकियू के राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता और किसान आंदोलन के बड़े चेहरा बने राकेश टिकैत के आसुंओं का सहारा लिया। उन्‍होंने कहा कि जब केंद्र सरकार आंदोलन खत्‍म करवा रही थी तो राकेश टिकैत के आंसू निकल आए। इससे मन बड़ा ही दुखित हुआ। उन्‍होंने कहा कि वहां पर आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह गए और मेरी उनसे बात करवाई। जिसके बाद मैंने राकेश टिकैत से परेशानी पूछकर सभी जरुरत की चीजे किसानों के लिए भेजा था। उन्‍होंने अपनी भाषणों से महापंचायत में जमा हुए लोगों को बांधे रखा और इन बिंदुओं से विद्यानसभा चुनाव 2022 की पृ‍ष्‍ठभूमि तैयार कर गए।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.