कोरोना संक्रमित को लेने गए स्वास्थ्य कर्मियों पर हमला

कोरोना संक्रमित को लेने गए स्वास्थ्य कर्मियों पर हमला

मेरठ जेनएन। मोहिउद्दीनपुर गाव में एक कोरोना संक्रमित को लेने गए स्वास्थ्यकíमयों को कुछ लोगों ने

Publish Date:Sun, 06 Dec 2020 03:30 AM (IST) Author: Jagran

मेरठ, जेनएन। मोहिउद्दीनपुर गाव में एक कोरोना संक्रमित को लेने गए स्वास्थ्यकíमयों को कुछ लोगों ने बंधक बना लिया। किसी तरह कर्मचारियों ने फोन कर अन्य स्टाफ को गाव में बुलाया। आरोप है कि स्वास्थ्यकíमयों से मारपीट भी की गई। कर्मचारियों ने गाव से भागकर किसी तरह अपनी जान बचाई। इस बीच कोरोना संक्रमित भी भाग निकला। इस मामले में पुलिस ने दो आरोपितों को गिरफ्तार किया है।

परतापुर थाना क्षेत्र के मोहिउद्दीनपुर रेलवे स्टेशन के समीप एक महिला कोरोना संक्रमित हो गई, गुरुवार को उपचार के दौरान उनकी मेडिकल कालेज में मौत हो गई थी। स्वास्थ्य विभाग ने शुक्रवार को महिला के पूरे परिवार की कोरोना जाच की। उनके बड़े बेटे की रिपोर्ट पाजिटिव आई। शनिवार दोपहर स्वास्थ्य केंद्र भूड़बराल की टीम स्वास्थ्य अधिकारी डा. मनीष कुमार के नेतृत्व में संक्रमित को अस्पताल में भर्ती कराने के लिए उन्हें लेने पहुंची। जैसे ही टीम मरीज के घर पहुंची, कुछ लोगों ने उन्हें बंधक बना लिया। डा. अंतेश वर्मा, एलटी पुष्पेंद्र, वार्डब्वाय राजू, आशा राजकुमारी, एंबुलेंस चालक सत्यवीर, ईएमटी शिवाचरण और सुधीर कुमार के साथ मारपीट की गई। इनके वाहनों को भी क्षतिग्रस्त कर दिया गया। शिकायत के बाद पुलिस ने पिंटू और अरुण को गिरफ्तार किया है। इनके साथ ही कई अज्ञात लोगों पर महामारी अधिनियम, सरकारी कर्मचारी पर हमला, जान से मारने की धमकी, सरकारी कार्य में बाधा डालने समेत अन्य धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की गई है।

डा. मनीष ने बताया कि कुछ उग्र लोगों ने उन्हें एक घर में बंद कर दिया। हंगामे के बीच कोरोना मरीज भाग निकला। टीम और परतापुर पुलिस ने उसकी काफी तलाश की, लेकिन उसका पता नहीं चला है। इससे गाव में दहशत है। दूसरी ओर सीओ ब्रह्मपुरी अमित राय ने बताया कि स्वास्थ्य अधिकारी की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम संक्रमित मरीज को तलाश रही है। उसे जल्द पकड़ कर अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा।

हाट स्पाट सील करने गई टीम का विरोध, हंगामा : कस्बा स्थित नगर पंचायत कार्यालय में एक सप्ताह पूर्व हुई कोरोना जाच में दो बहनों की रिपोर्ट पाजिटिव आई थी। इनको होम आइसोलेट कर दिया गया था। शनिवार को टीम क्षेत्र को हाट स्पाट घोषित कर बैरिकेडिंग करने पहुंची। यहा कुछ व्यापारियों ने 50 मीटर के दायरे में आने वाली दुकानों को बंद करने से साफ इंकार करते हुए हंगामा कर दिया। विरोध के चलते टीम ने 10-15 मीटर के स्थान को ही सील किया। स्थानीय लोगों के अनुसार युवतियों के पिता की बाजार में दुकान है। वह रोज दुकान खोलकर सामान बेच रहे हैं। क्षेत्रवासियों को डर है कि दुकानदार से संक्रमण फैल सकता है। लावड़ नगर पंचायत के अधिशासी अधिकारी सुधीर सिंह का कहना है कि कुछ व्यापारियों ने बैरिकेडिंग का विरोध किया। दुकानदार ने कहा है कि वह दूसरे घर में रहते हैं, पुराने घर में संक्रमित बेटिया रहती हैं।

कोरोना वैक्सीन को आमजन तक पहुंचाएगा डाक विभाग

मेरठ मंडल के प्रवर अधीक्षक डाकघर वीर सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि हालांकि, सरकार की ओर से प्रथम चरण में स्वास्थ्य कर्मचारियों को प्राथमिकता पर दवा पहुंचाने का कार्य होगा। स्वास्थ्य कर्मचारियों को दवा पहुंचाने के बाद गांवों में भी डाकिया इस व्यवस्था को संभालेंगे। उन्होंने बताया कि हालांकि इस संबंध में अभी कोई लिखित आदेश नहीं मिला है। जल्द ही इस दिशा में कार्य शुरू होगा।

112 मरीज मिले, 179 ठीक हो गए

नई दिल्ली में कोरोना कम हो रहा तो जिले में भी संक्रमण की दर कम हुई है। शनिवार को 6485 सैंपलों की जाच में 112 लोग पाजिटिव मिले। यह दिसंबर माह में सबसे कम संक्रमण दर रही है। 897 सैंपलों की रिपोर्ट पेंडिंग है, जबकि एक्टिव केस की संख्या दो हजार से ज्यादा बनी हुई है। 930 मरीज होम आइसोलेशन में रहकर इलाज ले रहे हैं। अब तक साढ़े पाच लाख सैंपलों की जाच की जा चुकी है। उधर, मेडिकल कालेज के कोविड वार्ड में 74 मरीज भर्ती हैं। एक की मौत हुई है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.