Facial yoga: जानिए चेहरे को शेप में रखने के साथ-साथ खूबसूरती बढ़ाने वाले ये फेस योगासन

चेहरे की खूबसूरती बढ़ाते फेस योगासन ।

Facial Yoga चेहरे पर प्राकृतिक ग्लो और चमक पाने के लिए यदि प्रतिदिन 10 से 15 मिनट फेस योगासन किया जाए तो चेहरे पर हमेशा निखार बना रहेगा । घर पर इसे करना बहुत ही आसान है ।

Publish Date:Mon, 25 Jan 2021 05:00 PM (IST) Author: Taruna Tayal

मेरठ, जेएनएन। चेहरे की खूबसूरती बढ़ाने के लिए लोग न जाने क्या कुछ कर गुजरते हैं, ग्लो बढ़ाने के लिए मंहगे से मंहगे प्रोडक्ट का प्रयोग करते है। महंगी क्रीम का इस्तेमाल करत हैं। लेकिन चेहरे पर प्राकृतिक ग्लो और चमक पाने के लिए यदि प्रतिदिन 10 से 15 मिनट फेस योगासन किया जाए तो चेहरे पर हमेशा निखार बना रहेगा। इसे करना बहुत ही आसान है। आजकल सेल्फी लेते समय सभी कई तरह के मुंह बनाते हैं, यह भी कुछ ऐसे ही है। चार से पांच बार फिश फेस बनाकर गालों को अंदर खींचे तो कभी बैलून पोज बनाना है। जिसमें मुंह में हवा भरकर 10 सेंकेंड के लिए रहने दें। कभी लायन पोज बनाना है तो बुद्धा पोज बनाकर ध्यान की मुद्रा में बैठना है। यहीं है फेस योगासन जिसे कुछ दिन करने के बाद ही चेहरे की चर्बी से छुटकारा मिल जाएगा। साथ ही चेहरे पर निखार भी बढ़ने लगेगा।

फिश फेस

इसमें दोनों गालों को अंदर की ओर खींचकर चेहरे को मछली की तरह बनाना है। इस योग से चेहरे की अतिरिक्त चर्बी घटने लगती है। साथ ही इसे करने से झुर्रियां भी नहीं होती है, क्योंकि इसे करने से मांसपेशियों में कसावट आती है।

बैलून पोज

इसमें मुंह में हवा भरकर 10 सेंकेंड तक चेहरे को ऐसे ही रहने देना है, और सांस रोक कर रखनी है। भरी हुई हवा को मुंह में दाए और बाए घुमाना है। ऐसा पांच बार जरूर करें। इससे मुंहासों की समस्या भी दूर होती है, और चेहरे की चर्बी तेजी से घटने लगती है।

लायन पोज

इस योग में जीभ को पूरी ताकत से बाहर निकाले और अपनी आंखों को तान लें। इससे चेहरे में कसाव आएगा और चेहरे का ग्लो बढऩे लगेगा।

बुद्धा पोज

इसमें आंखें बंद करके बैठकर ध्यान की मुद्रा में बैठ जाए। इसे सुबह शाम दोनों बार किया जा सकता है। यह मानसिक शांति के लिए भी जरूरी है।

इन्‍होंने बताया... 

चेहरे के आसपास चर्बी बढ़ने से खूबसूरती तो खत्म हो ही जाती है, साथ ही चेहरे का निखार भी चला जाता है। यदि नियमित कुछ समय फेस योगासन किया जाए तो इसके रिजल्ट जल्द ही देखने को मिलने लगते हैं।

-आशीष कुमार योगाचार्य मेरठ

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.