यूपी : डिप्टी सीएम केशव मौर्य आज मेरठ आएंगे, 380 परियोजनाओं का करेंगे आगाज

डिप्‍टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य आज शहर में होंगे। सर्किट हाउस में कार्यक्रम में वह 201 परियोजनाओं का लोकार्पण व 179 परियोजनाओं का शिलान्यास करेंगे। लोक निर्माण विभाग के 196 कार्यों के लोकार्पण व 176 कार्यों का शिलान्यास शामिल किए गए हैं।

Prem Dutt BhattSat, 24 Jul 2021 09:00 PM (IST)
डीएम ने लोक निर्माण विभाग अधिकारियों के साथ सर्किट हाउस में लिया तैयारियों का जायजा।

मेरठ, जागरण संवाददाता। प्रदेश के डिप्टी सीएम व लोक निर्माण विभाग मंत्री केशव प्रसाद मौर्य रविवार को मेरठ में लोक निर्माण विभाग व सेतु निगम की लगभग 1203 करोड़ की 380 परियोजनाओं का शिलान्यास व लोकार्पण करेंगे। सर्किट हाउस में आयोजित कार्यक्रम में वह 201 परियोजनाओं का लोकार्पण व 179 परियोजनाओं का शिलान्यास करेंगे। इसमें लोक निर्माण विभाग के 196 कार्यों के लोकार्पण व 176 कार्यों का शिलान्यास शामिल किए गए हैं। शेष आठ कार्य सेतु निगम से संबंधित हैं। डीएम के. बालाजी ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों के साथ सर्किट हाउस में तैयारियों का जायजा लिया।

इन मुख्य परियोजनाओं का होगा शिलान्यास व लोकार्पण

कांवड़ गंगनहर मार्ग की बांयी पटरी पर (वर्तमान यातयात) लोक निर्माण विभाग ने सड़क सुरक्षा के लिए 30 करोड़ की लागत से क्रैश बैरियर व रिफ्लेक्टर स्थापित किए हैं। इसके अलावा मुजफ्फरनगर में 1.8 किमी अवशेष मार्ग का चौड़ीकरण व सुदृढ़ीकरण किया है। इन दोनों कार्य को गंगनहर पटरी मार्ग के लोकार्पण में शामिल किया गया है। इसके अलावा 737 किमी लंबाई की अन्य जिला मार्ग सड़कों का चौड़ीकरण व सुदृढीकरण, 36 लघु सेतुओं का निर्माण, ग्रामीण क्षेत्र में 246 किमी लंबाई के मार्गों का नव-निर्माण परियोजनाओं के कार्य शामिल है। सेतु निगम के चार और दीर्घ सेतुओं का लोकार्पण व चार सेतुओं का शिलान्यास भी कार्यक्रम में शामिल किया गया है।

बुलदंशहर में मेडिकल व बागपत में आइटीआइ कालेज

डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य द्वारा होने वाले कार्यक्रम में मेरठ मंडल के अंतर्गत बुलंदशहर में राजकीय मेडिकल कालेज, खुर्जा में राजकीय आइटीआइ व बागपत में राजकीय आइटीआइ का शिलान्यास किया जाएगा।

बारिश से बचाव के लिए लगाया गया जर्मन हैंगर

रविवार को सर्किट हाउस में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के कार्यक्रम को लेकर शनिवार को दिनभर लोक निर्माण विभाग के अधिकारी तैयारियों में जुटे रहे। बारिश की संभावना को देखते हुए पंडाल में उपर की तरफ से जर्मन हैंगर लगाया गया है। जर्मन हैंगर में बारिश का पानी आने की आशंका न्यूनतम होती है। जर्मन हैंगर को पूरी तरह से वाटर प्रूफ बताया जाता है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.