सटावटी वस्तुओं की बढ़ी मांग, कारोबार में बढ़ोतरी की आस

सटावटी वस्तुओं की बढ़ी मांग, कारोबार में बढ़ोतरी की आस
Publish Date:Sat, 31 Oct 2020 10:44 PM (IST) Author: Jagran

मेरठ, जेएनएन। ज्योति पर्व की रौनक से बाजार जगमगा उठा है, चारों ओर रंग-बिरंगे सजावटी सामान और खरीदारी के लिए लोगों की भीड़ नजर आने लगी है। कहीं लाल, पीले-नीले कृत्रिम फूलों की लड़ियां लगी हुई हैं। तो कहीं मोतियों से सजी झालर और झूमर लोगों को आकर्षित कर रहे हैं। कोरोना काल में पहली बार बाजारों में इतनी रौनक और चमक देखने को मिल रही हैं। ज्योति पर्व पर घर आंगन का सजाने के लिए लोग इन दिनों जमकर खरीदारी कर रहे हैं।

यदि त्योहारी सीजन में सजावटी व उपहार की वस्तुओं के कारोबार की बात की जाए तो व्यापारियों के अनुसार अभी तक 30 करोड़ रुपये का कारोबार हो गया है, और आने वाले दिनों में 150 करोड़ रुपये का कारोबार और होने का अनुमान है। वहीं पिछले साल त्योहारी सीजन के आंकड़ों के अनुसार 150 करोड़ का कारोबार हुआ था। त्योहारी सीजन के दौरान शहर के विभिन्न बाजारों में 800 स्थाई और 350 अस्थाई दुकानें लगती है। जिनमें दीपावली के लिए सजावटी वस्तुओं की बिक्री होती है।

लुभा रही हैं फूलों वाली लड़ियां

इस बार ज्योति पर्व के लिए खास है रंग-बिरंगी फूलों वाली लड़ियां जिन्हें आसानी से दरवाजे और खिड़की के अलावा कहीं भी लगाया जा सकता है। इस बार गुलाब और गेंदा के अलावा अन्य फूलों में भी लड़ियां उपलब्ध है। इसके अलावा मोतियों वाली लड़ी में भी इस बार काफी वैरायटी है।

तैरने वाली रंगोली की है मांग

ज्योति पर्व पर रंगोली का खास महत्व है। लोग रंग-बिरंगे रंगों की रंगोली बनाकर घर आंगन का सजाते हैं। कई बार रंगोली वाले स्टीकर भी लगाते हैं। लेकिन तैरने वाली रंगोली को आसानी से कहीं भी पानी के बड़े बर्तन में रखा जा सकता है, इसकी सबसे बड़ी खासियत है कि यह जल्दी खराब नहीं होती और इसे किसी भी खास आयोजन पर लगाया जा सकता है।

घंटियों से सजे हैं वंदनवार

बाजार में इस समय मन को लुभाने वाली एक से बढ़कर एक वंदनवार उपलब्ध है। लेकिन घंटियों वाली वंदनवार की मांग सबसे ज्यादा है। वंदनवार में जहां छोटी-छोटी सुनहरी घंटियां उन्हें और आकर्षक बना रही हैं। वहीं बड़ी घंटियों में भी काफी आकर्षक डिजाइन मौजूद है।

इन्होंने कहा-

लोगों ने ज्योति पर्व के लिए खरीदारी शुरू कर दी है। ग्राहक कलरफुल लड़ियां, झूमर और झालर खूब पसंद कर रहे हैं। कोरोना काल में त्योहारों की दस्तक ने बाजार की चाल बदल दी है।

-अंकित गुप्ता, श्रृंगार, शरदा रोड

इस समय सबसे ज्यादा सजावटी वस्तुओं की मांग है। फिर चाहे रंग-बिरंगी फूलों की लड़ियां हो या फिर वंदनवार। सभी में लोग पारंपरिक डिजाइन ही पसंद कर रहे हैं। जिससे घर का कोना-कोना सजाया जा सकें।

-प्रहलाद अग्रवाल, अग्रवाल लाइब्रेरी एंड डेकोरेशन, शास्त्रीनगर

त्योहारी सीजन में सजावटी समान की मांग को देखकर लगता है, कि जल्द ही बाजार की सूरत बदल जाएगी। लोगों ने अभी से सजावटी वस्तुओं की खरीदारी शुरू कर दी है।

-अंकुर अग्रवाल, एंग्लो टाइपसेटर्स, बच्चा पार्क

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.