दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के भी तरकश से निकले राष्ट्रवादी तीर, भांपा मिजाज और साधा निशाना

अरविंद केजरीवाल ने किसान महापंचायत में राष्ट्रवादी एजेंडे को धार दी

सियासत में वक्त के साथ एजेंडा भी बदल जाता है। पश्चिम उप्र का सियासी मिजाज भांपते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने किसान महापंचायत में राष्ट्रवादी एजेंडे को धार दी। किसानों को देशभक्त बताते हुए भावनात्मक तार जोड़ने का प्रयास किया।

Himanshu DwivediMon, 01 Mar 2021 09:20 AM (IST)

मेरठ [संतोष शुक्ल]  सियासत में वक्त के साथ एजेंडा भी बदल जाता है। पश्चिम उप्र का सियासी मिजाज भांपते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने किसान महापंचायत में राष्ट्रवादी एजेंडे को धार दी। किसानों को देशभक्त बताते हुए भावनात्मक तार जोड़ने का प्रयास किया।

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि किसान का एक बेटा गाजीपुर बार्डर और दूसरा भारत-चीन और भारत पाकिस्तान बार्डर पर डटा है। पार्टी के मंच से कई बार भारत माता की जय, वंदेमातरम, जय जवान-जय किसान का नारा लगा। इस बहाने पार्टी भाजपा के राष्ट्रवादी एजेंडे का भी जवाब तलाशती नजर आई।

सीमा पर डटे जवानों का दिया वास्ता: आम आदमी पार्टी की किसान महापंचायत में सियासत नए अंदाज में तैरती नजर आई। पार्टी के प्रदेश प्रभारी संजय सिंह ने मंच पर पूरी तरह राष्ट्रवादी पटकथा तैयार कर लिया था। पाकिस्तान की सीमा पर सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर केंद्र सरकार से प्रमाण मांगने वाले केजरीवाल यहां नए अंदाज नजर में नजर आए। माइक संभालते ही भारत माता की जय, इंकलाब-जिंदाबाद और वंदेमातरम का नारा लगाया। किसानों को खांटी राष्ट्रभक्त बताते हुए उन्हें साधने का प्रयास किया। कहा कि केंद्र सरकार राष्ट्रभक्त किसानों को आतंकी बताते हुए उन राष्ट्रद्रोह के मुकदमे दर्ज कर रही है। केजरीवाल जानते हैं कि पश्चिम उप्र से बड़ी संख्या में किसानों के पुत्र सेना में हैं, इसीलिए उन्होंने नब्ज पर हाथ रखने का प्रयास किया। कहा कि एक ओर किसानों के बेटे सीमा पर देश की सुरक्षा कर रहे हैं, और यहां केंद्र सरकार धरने पर बैठे जवानों के घरवालों को आतंकी कह रही है।

किसान हैं बड़े देशभक्त:  दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल  ले ही किसानों के मुद्दे पर केंद्र सरकार को घेरते नजर आए, लेकिन संबोधन के दौरान वो राष्ट्रवादी पिच पर डटे रहे। किसानों के आंदोलन को देशभक्तों का आंदोलन बताया। भाकियू नेता राकेश टिकैत के आंसुओं की चर्चा करते हुए किसानों से अपनापन दिखाया, वहीं चौ. चरण सिंह एवं महेंद्र सिंह टिकैत का नाम लेकर उन्हें भावुक भी किया।

इन्हें आटा मिला तो उसे भी चुरा लेंगे: भगवंत मान- पंजाब से आए सांसद भगवंत मान ने कहा कि किसान मौसम से डरकर आंदोलन खत्म करने वाले नहीं हैं। अभी तक देश में मोबाइल का डेटा चोरी हो रहा है। डेटा चुराने वाले लोगों के हाथ में आटा आ गया तो वे उसे भी चुरा लेंगे। इन हालात में जनता भूखों मरेगी और उसकी जिम्मेदार सरकार होगी। कमल के फूल वाली पार्टी किसानों के रास्ते में कांटे लगा रही है। 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.