बागपत में कोविड प्रभावित बच्चों को पढ़ाई के लिए मिलेंगे लैपटाप, टास्क फोर्स की बैठक में डीएम ने दी स्वीकृति

कोरोना महामारी में माता-पिता या इनमें किसी एक को खो चुके बच्चों को सरकार से आर्थिक मदद दिलाने के लिए प्रशासन ने कवायद तेज कर दी। डीएम राज कमल यादव ने टास्क फोर्स की बैठक में 24 बच्चों के आवेदन स्वीकृत कर दिए।

Taruna TayalWed, 16 Jun 2021 05:47 PM (IST)
कोविड प्रभावित बच्चों को पढ़ाई के लिए मिलेंगे लैपटाप।

बागपत, जेएनएन। कोरोना महामारी में माता-पिता या इनमें किसी एक को खो चुके बच्चों को सरकार से आर्थिक मदद दिलाने के लिए प्रशासन ने कवायद तेज कर दी। डीएम राज कमल यादव ने टास्क फोर्स की बैठक में 24 बच्चों के आवेदन स्वीकृत कर दिए। कक्षा नौ या इससे ऊपर की क्लास में पढ़ रहे बच्चों को लैपटाटप या टेबलेट मिलेंगे। प्रदेश सरकार ने कोरोना काल में अभिभावकों की मौत के बाद बेसहारा हुए बच्चों के लिए बाल सेवा योजना शुरू की है। प्रति माह प्रति बालक चार हजार रुपये आर्थिक मदद मिलेगी। कक्षा 12वीं तक पढ़ाई-लिखाई मुफ्त होगी। बालिग होने पर बेटी की शादी को 101000 रुपये सरकार देगी। यदि माता-पिता मरने के बाद कोई बच्चा पूरी तरह अनाथ हो गया है तो उसके बालिग होने तक उनका संरक्षक डीएम रहेंगे।

बागपत में अब तक ऐसे 48 बच्चे चिन्हित किए गए जिनके माता-पिता में किसी एक की मौत हो चुकी है और घर की माली हालत बेहद खराब है। डीएम राज कमल यादव ने बाल सेवा योजना का लाभ दिलाने को 24 बच्चों के आवेदन स्वीकत कर दिए। बाकी छह बच्चों के आवेदन पत्रों को भी इस शर्त पर स्वीकृति दी कि तय समय तक आय प्रमाण पत्र जमा कराने होंगे।

जिला प्रोबेशन अधिकारी तूलिका शर्मा ने बताया कि 18 बच्चों के बाल सेवा योजना का लाभ नहीं मिलेगा, क्योंकि उनके मां या बाप की मौत कोरोना से नहीं हुई। इन बच्चों को दूसरी योजनाओं से लाभान्वित कराने का निर्देश डीएम ने दिया। सीडीओअभिराम त्रिवेदी, सीएमओ डा. आरके टंडन आदि मौजूद रहे।

बच्चों को मिलेंगे लैपटाप

-डीएम ने बताया कि कक्षा नौ या इससे ऊपर की क्लास में पढ़ रहे 18 साल तक के बच्चों को मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना से पढ़ाई के लिए लैपटाप या टेबलेट दिलाए जाएंगे।

बच्चों की एफडी कराएगा प्रशासन

-जिला प्रशासन के प्रयास से बागपत के सभी विभागों के अधिकारी और कर्मचारी एक-एक दिन का वेतन कोविड प्रभावित बच्चों की मदद को देंगे। बैंक में बाल सेवा योजना के नाम से खता खोलकर यह पैसा जमा कराएंगे। जो पैसा एकत्र होगा उससे प्रति बालक 11 हजार रुपये की एफडी कराई जाएगी तथा प्रत्येक बच्चों को गर्मी और सर्दी के चार जोड़ी कपड़े, जूते दिए जाएंगे। बाल सेवा योजना के नाम से खुले बैंक खाते में कोई बच्चों की मदद के जिए पैसा भेज सकता है। 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.