Contact Tracing Covid In Meerut: कांटेक्ट ट्रेसिंग की रफ्तार नहीं बढ़ाई तो महंगा पड़ेगा,बहुत आगे निकल जाएगा कोरोना

मेरठ में कांटेक्ट ट्रेसिंग में तेजी लाए जाने की आवश्‍यकता है।

मेरठ कांटेक्ट ट्रेसिंग में मंडल में सबसे फिसड्डी है। जबकि गौतमबुद्धनगर उससे थोड़ा ऊपर है। मेरठ में यह औसत मात्र 9.53 व्यक्ति प्रति मरीज है। जबकि यह मानक न्यूनतम 25 व्यक्ति प्रति मरीज है। संक्रमित के संपर्क में आए लोगों की जल्‍द जांच जरूरी है।

Prem Dutt BhattMon, 10 May 2021 06:00 PM (IST)

मेरठ, जेएनएन। Contact Tracing In Meerut मेरठ और गौतमबुद्धनगर जनपदों में कोरोना संक्रमण के तेजी से फैलाव तथा उसकी कड़ी न टूट पाने का सबसे बड़ा कारण यहां संक्रमित मरीजों की कांटेक्ट ट्रेसिंग न हो पाना है। मेरठ कांटेक्ट ट्रेसिंग में मंडल में सबसे फिसड्डी है। जबकि गौतमबुद्धनगर उससे थोड़ा ऊपर है। मेरठ में यह औसत मात्र 9.53 व्यक्ति प्रति मरीज है। जबकि यह मानक न्यूनतम 25 व्यक्ति प्रति मरीज है। यह बात अलग है कि मंडल का कोई भी जनपद इसके मानक को पूरा नहीं कर पा रही है लेकिन हापुड़ 21.78 व्यक्ति प्रति मरीज कांटेक्ट ट्रेसिंग की गति के साथ सबसे ऊपर है।

संपर्क में आने वालों की जांच

कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़कर उसकी गति को धीमा करने के लिए सबसे जरूरी काम कांटेक्ट ट्रेसिंग का है। जिसके तहत नया संक्रमित मरीज मिलते ही तत्काल उसके संपर्क में आने वाले कम से कम 25 लोगों का पता लगाकर उनकी जांच करनी होती है। उनमें से संदिग्ध लोगों को आइसोलेट कर दिया जाता है। जिससे कोरोना संक्रमण नहीं फैल पाता।

मेरठ में कांटेक्ट ट्रेसिंग अत्याधिक कम

मंडलीय समीक्षा के दौरान सामने आए आंकड़ों पर गौर किया जाए तो कांटेक्ट ट्रेसिंग के मामले में सबसे खराब स्थिति मेरठ जनपद की है। यहां प्रति मरीज केवल 9.53 व्यक्तियों की ही जांच की जा रही है। हापुड़ में 21.78 व्यक्ति प्रति मरीज का आंकड़ा मंडल में सबसे ज्यादा है। दूसरे स्थान पर 19.89 व्यक्ति प्रति मरीज के आंकड़े के साथ बागपत है। उसके बाद गाजियाबाद 16.98 तथा फिर बुलंदशहर 16.63 है। गौतमबुद्ध नगर में भी कांटेक्ट ट्रेङ्क्षसग का आंकड़ा काफी कम है। यहां यह संख्या 12.11 व्यक्ति प्रति मरीज है।

जनपद औसत कांटेक्ट ट्रेसिंग (प्रति मरीज)

मेरठ 9.53

गाजियाबाद 16.98

गौतमबुद्ध नगर 12.11

बुलंदशहर 16.63

हापुड़ 21.78

बागपत 19.89

मंडल का औसत 13.64

नोट : कोरोना प्रोटोकाल के तहत एक मरीज से जुड़े कम से कम 25 लोगों का परीक्षण जरूर किया जाना चाहिए।

इनका कहना है

यह लापरवाही है। जिसपर समीक्षा के दौरान नाराजगी जताई गई है। सभी जनपदों को कांटेक्ट ट्रेसिंग कम से कम 25 व्यक्ति प्रति मरीज करने का निर्देश दिया गया है।

- सुरेंद्र सिंह, कमिश्नर, मेरठ मंडल  

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.