एमसीक्यू में रखनी होगी पूरी सावधानी.. विषय को रटें नहीं समझें

सीबीएसई की 10 वीं और 12वीं की पहले टर्म की बोर्ड परीक्षा 15 नवंबर के बाद से शुरू हो रही है। 18 अक्टूबर को सीबीएसई की बोर्ड परीक्षा का कार्यक्रम घोषित हो सकता है। पहली बार बोर्ड की ओर से एमसीक्यू (मल्टीपल च्वाइस बेस क्वेंश्चन) आधारित परीक्षा हो रही है।

JagranMon, 18 Oct 2021 08:35 AM (IST)
एमसीक्यू में रखनी होगी पूरी सावधानी.. विषय को रटें नहीं समझें

मेरठ, जेएनएन। सीबीएसई की 10 वीं और 12वीं की पहले टर्म की बोर्ड परीक्षा 15 नवंबर के बाद से शुरू हो रही है। 18 अक्टूबर को सीबीएसई की बोर्ड परीक्षा का कार्यक्रम घोषित हो सकता है। पहली बार बोर्ड की ओर से एमसीक्यू (मल्टीपल च्वाइस बेस क्वेंश्चन) आधारित परीक्षा हो रही है। इस तरह की परीक्षा में प्रश्नों को रटने की जगह परीक्षार्थियों को उसे गहराई से समझना जरूरी है।

सीबीएसई की ओर से 10वीं और 12 वीं की पहले टर्म की बोर्ड परीक्षा के बदले पैटर्न के अनुसार स्कूलों ने अपनी तैयारी की है। कई स्कूलों ने दो- दो टेस्ट कराकर बोर्ड परीक्षार्थियों की प्रैक्टिस कराई है। इससे टर्म वन की परीक्षा से पहले छात्र एमसीक्यू आधारित परीक्षा और ओएमआर को अच्छे से समझ सके। विशेषज्ञों की माने तो एमसीक्यू में छात्रों को और भी अधिक सावधानी बरतने की जरूरत है। क्योंकि इसमें सही उत्तर पर पूरे नंबर मिलेंगे। गलत होने पर एक भी नंबर नहीं आएंगे। इस पैटर्न में छात्रों को टापिक को गहराई से पढ़ना जरूरी है। टर्म वन से पहले प्रैक्टिकल

12वीं में टर्म वन की परीक्षा से पहले स्कूलों को प्रैक्टिकल कराना है। सीबीएसई की ओर से इस बार स्कूल के शिक्षक ही प्रैक्टिकल कराने के लिए अधिकृत किए गए हैं। इसे लेकर स्कूलों ने अपनी तैयारी शुरू कर दी है। हो सकता है सेल्फ सेंटर

सीबीएसई की बोर्ड परीक्षा में इस बार सेल्फ सेंटर की व्यवस्था हो सकती है। कोविड को ध्यान में रखते हुए सीबीएसई इस विषय में सोच रहा है। मंगलवार को सिटी कोआर्डिनेटर की आनलाइन बैठक में इस पर निर्णय हो सकता है। एप्लीकेशन आधारित होंगे सवाल

केएल इंटरनेशनल स्कूल के प्रिसिपल व सीबीएसई के सिटी कोआर्डिनेटर सुधांशु शेखर का कहना है कि एमसीक्यू में केस स्टडीज, एप्लीकेशन आधारित सवाल पूछे जाएंगे। ऐसे सवाल रटने से तैयार नहीं होंगे। इसके लिए सही से तैयारी जरूरी है। प्रश्नपपत्र 15 से 16 पेज का होगा। इसमें बच्चों को विकल्प अधिक मिलेगा। बोर्ड की ओर से सैंपल पेपर भी दिए गए हैं, बच्चों को अधिक से अधिक प्रैक्टिस करना चाहिए। एमसीक्यू आसान नहीं

सेंट जोंस सीनियर सेकेंडरी स्कूल की प्रिसिपल शिमोना जैन का कहना है कि स्कूल में सीबीएसई के नए पैटर्न से दो यूनिट टेस्ट लिए गए। जो बच्चे एमसीक्यू को आसान समझकर यह सोचते हैं कि इसमें लिखना नहीं है, तो यह आसान होगा। बच्चों को यह जरूर समझना चाहिए कि लांग क्वेंश्चन में वह कुछ भी लिख देते थे, कुछ नंबर मिल जाते थे। एमसीक्यू में तुक्केबाजी नहीं चलेगी। इसलिए सभी टापिक को अच्छे से पढ़ना होगा। बोर्ड से पहले दो प्री बोर्ड

सत्यकाम इंटरनेशनल स्कूल की प्रिसिपल रश्मि मिश्र का कहना है कि बोर्ड में पहली बार एमसीक्यू आधारित परीक्षा हो रही है। स्कूल में बोर्ड से पहले दो प्री बोर्ड कराया जा रहा है। जिसमें सीबीएसई के पैटर्न पर बच्चों को ओएमआर दिए जाएंगे। इससे उनकी प्रैक्टिस हो जाएगी। साथ ही बच्चों को पूरे टापिक को गहनता से तैयार करने के लिए भी कहा जा रहा है कि क्योंकि एमसीक्यू किसी भी तरह से पूछा जा सकता है। जिन बच्चों की अच्छी तैयारी रहेगी।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.