Bharat Bandh: मेरठ और आसपास के जिलों में भारत बंद का दिखा मिला जुला असर, भाकियू कार्यकर्ताओं ने सौंपे ज्ञापन

Bharat Bandh सोमवार को भारत बंद का मिला जुला असर देखने को मिला। जगह-जगह धरना प्रदर्शन और रूट डायवर्जन के चलते लोगों को दिक्‍कतों का भी सामना करना पड़ा। धरना प्रदर्शन शाम चार बजे तक चला। बाद में अफसरों को ज्ञापन सौंपे गए।

Prem Dutt BhattMon, 27 Sep 2021 10:27 AM (IST)
वेस्‍ट यूपी के जिलोंं में सोमवार को भारत बंद का मिला जुला असर रहा।

मेरठ, जेएनएन। Bharat Bandh सयुंक्त किसान मोर्चे के आह्वान पर सोमवार को किए गए भारत बंद का मेरठ और आसपास के जिलों में मिला जुला असर दिखाई दिया। मेरठ, मुजफ्फरनगर, बिजनौर, शामली, सहारनपुर, बागपत, बुलंदशहर आदि जिलों में भाकियू कार्यकर्ताओं ने हाईवे पर निकलकर धरना प्रदर्शन किया। मेरठ और मुजफ्फरनगर में तो टोल प्‍लाजा पर धरना दिया गया। इसके अलावा बाजारों में बंद का मिला जुला असर दिखा। रूट डायवर्जन के चलते लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। मेरठ के दबथुवा व सरधना में बाजार बंद का मिला जुला असर दिखाई दिया। दबथुवा में समय के साथ कुछ व्यापारियों ने दुकानें खोली। वहीं, कुछ ने बंद रखी। इस दौरान लोगों की आवाजाही भी दिखाई दी। किसानों और भाकियू कार्यकर्ताओं का धरना प्रदर्शन शाम को चार बजे तक जारी रहा, इसके अधिकारियों को ज्ञापन सौंपा गया। धीरे-धीरे हालात सामान्‍य हो गए। टोल प्‍लाजा को भी शुरू कर दिया।

उधर, सरधना में भी अशोक की लाट व गंज बाजार में कुछ व्यापारियों ने दुकानें खोली। सरधना व्यापार मंडल के अध्यक्ष पंकज जैन ने बताया कि व्यापारी कोरोनाकाल में हुए नुकसान की भरपाई अभी तक नहीं कर पाया है। इसलिए कुछ व्यापारियों ने दुकान खोली है। हालांकि, बाजार में लोगों की आवाजाही कम दिखाई दी।

वहीं बागपत में संयुक्त किसान मोर्चा के भारत बंद के आह्वान पर जनपद में सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। जिले को चार जोन व 11 सेक्टरों में बांटा गया है। जगह-जगह पुलिस पीएसी तैनात है। जोनल व सेक्टर मजिस्ट्रेट और पुलिस अधिकारी सुरक्षा व्यवस्थाओं का जायजा ले रहे हैं। 

सड़कों पर किसान, लगा दिया जाम

बागपत: तीनों कृषि कानून के विरोध में संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर किसानों का सोमवार को मुख्य मार्गों पर अपना जमावड़ा लगा दिया। ट्रैक्टर-ट्रालियों लेकर किसान सड़कों पर खड़े हो गए। आड़े-तिरछे ट्रैक्टरों को खड़का करके मार्गों पर जाम लगा दिया है। विभिन्न स्थानों पर जाम लगाना निर्धारित है। जाम में सेना के वाहन, एंबुलेंस और स्कूल वाहनों को निकाला जाएगा। वहीं पुलिस-प्रशासन ने सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम कर दिए है। जिले को चार जोन व 11 सेक्टरों में बांटा गया है। जगह-जगह पुलिस पीएसी तैनात है। जोनल व सेक्टर मजिस्ट्रेट और पुलिस अधिकारी सुरक्षा व्यवस्थाओं का जायजा ले रहे हैं।

जिले में भाकियू ने लगाया 50 स्थानों पर जाम

बिजनौर : संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर भारतीय किसान यूनियन के पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं ने तीन कृषि कानूनों की वापसी समेत विभिन्न समस्याओं के समाधान की मांग को लेकर सोमवार को मेरठ-पौड़ी राष्ट्रीय राजमार्ग पर कान्हा फार्म के सामने, बालकिशनपुर एवं गोलबाग,चांदपुर में थाना चौक, जलीलपुर ब्लॉक मुख्यालय,रौनिया, कौशल्या में बास्टा रोड,बागड़पुर, लदूपुरा में समेत जिले में 50 स्थानों पर लगाना शुरू कर दिया। जाम के दौरान इमरजेंसी वाहनों की आवाजाही को छूट रही। सुरक्षा की दृष्टि से जाम स्थलों पर पुलिस तैनात रही। डीएम उमेश मिश्रा, एसपी डा. धर्मवीर सिंह पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ गश्त पर रहे।

सहारनपुर में चक्का जाम शुरू

सहारनपुर : सोमवार को संयुक्त किसान मोर्चा के भारत बंद के आह्वान पर भारत बंद का जनपद में कोई असर नहीं नजर आ रहा है भारतीय किसान यूनियन ने अपनी रणनीति तैयार करते हुए जनपद में 5 स्थानों पर चक्का जाम का निर्णय लिया है। चक्का जाम के दौरान एंबुलेंस, सेना तथा स्कूली वाहनों को छूट रहेगी। भाकियू के निवर्तमान जिला प्रवक्ता मा. रघुबीर सिंह ने बताया कि सहारनपुर- मुजफ्फरनगर मार्ग पर नागल में, सहारनपुर-दिल्ली मार्ग पर रामपुर मनिहारान में, सहारनपुर-अंबाला मार्ग पर शाहजहांपुर में तथा सहारनपुर-देहरादून व हरिद्वार मार्ग पर चमारीखेड़ा में चक्का जाम रहेगा। तथा सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे तक चारों मार्ग पूरी तरह बंद रहेंगे। उन्होंने बताया कि संगठन द्वारा भारत बंद को सफल बनाने को सोशल मीडिया के माध्यम से तथा व्यक्तिगत तौर पर व्यापारियों, मजदूरों, रेहडी व फड वालों तथा ट्रांसपोर्टरों से किसानों के इस आंदोलन में सहयोग की अपील की जा चुकी है और जनसंपर्क के दौरान सभी वर्गों का पूरा सहयोग भी मिला है।

मवाना खुर्द में भाकियू ने मार्ग अवरूद्ध कर लगाया जाम

मवाना : संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर तीन कृषि कानून के विरोध में सोमवार को सुबह प्रस्तावित भारत बंद को सफल बनाने के लिये भाकियू कार्यकर्ताओं ने नगर के प्रमुख बाजारों में भ्रमण कर व्यापारियों से अपने प्रतिष्ठान बंद कर भारत को बंद को सफल बनाने में सहयोग की अपील की। हालांकि नगर के बाजार सुबह यथा समय खुल गए थे। नगर में भ्रमण के बाद कार्यकर्ता मवाना खुर्द पहुंचे और पुलिस चौकी के पास धरने देकर हाइवे पर चक्का जाम कर दिया। ट्रैक्टर-ट्राली आड़े-तिरछे खड़े कर मार्ग कर दिया गया। जिससे दोनों ओर वाहनों की कतार लगने लगी।

हाईवे पर किसानों ने डाला डेरा

मुजफ्फरनगर : संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर तीनों कृषि कानून के विरोध में किसानों ने हाईवे समेत मुख्य मार्गो पर जाम लगाया। भाकियू कार्यकर्ताओं ने मंसूरपुर, खतौली, मुजफ्फरनगर, रोहाना, भोपा, जानसठ, पुरकाजी आदि क्षेत्रों में धरना प्रदर्शन किया। रोहना और छपार टोल पर किसान नेता डटे रहे। इक्का-दुक्का वाहन ही यहां से निकले। वह भी बगैर टोल दिए निकाले गए। हाईवे पर जाम में यात्री फंसे रहे। मंसूरपुर में महिला यात्रियों के वाहन को रोका गया। काफी देर परेशानी झेलने के बाद किसी तरह वाहन को निकाला गया। भारत बंद में भाकियू और रालोद कार्यकर्ताओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। भारत बंद शहरी क्षेत्र में आंशिक रहा। अधिकांश दुकानें खुली रही, हालांकि खरीदारी करने वालों की संख्या काफी कम रही। गांव से बहुत कम लोग शहर में आए। मीरपुर में एक एंबुलेंस भी जाम में फंसी रही, जिसे बाद में किसानों ने निकाला। भारत बंद के चलते सरकारी कार्यालयों में कर्मचारियों की संख्या कम देखी गई। इसके साथ ही स्कूल कॉलेजों में भी छात्रों की संख्या कम रही।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.