top menutop menutop menu

पंडित दीन दयाल उपाध्याय स्वरोजगार योजना, बैंक नहीं दे रहे लोन,सैकड़ों बेरोजगारों को झटका Meerut News

मेरठ, [राजेंद्र शर्मा]। पंडित दीन दयाल उपाध्याय स्वरोजगार योजना में स्वरोजगार शुरू करने के लिए ऋण लेने वाले सैकड़ों बेरोजगारों की राह में बैंक ही बाधक बन गए हैं। बैंक स्वरोजगार के लिए ऋण की हरी झंडी नहीं दे रहे हैं। इस कारण साढ़े तीन सौ से अधिक आवेदनकर्ता बैंक व विकास भवन में चक्कर काट रहे हैं।

15 लाख रुपये तक का ऋण देने की व्यवस्था

योजना के तहत एससी वर्ग के लोगों को 20 हजार से लेकर 15 लाख रुपये तक का ऋण देने की व्यवस्था है। लाभार्थियों का चयन एक समिति करती है। जिसमें उपायुक्त उद्योग, जिला अग्रणी बैंक अधिकारी, परियोजना निदेशक व सहायक प्रबंधक वित्त एवं विकास निगम आदि होते हैं। इस समिति ने चयन की पूरी कार्यवाही करके विभिन्न बैंकों को आवेदन भेज दिये हैं, लेकिन 377 आवेदन पत्र ऋण के लिए विभिन्न बैंकों में महीनों से अटके हुए हैं। जिसके चलते आवेदक अपना कोई स्वरोजगार नहीं कर पा रहे हैं।

रिमांइडर भी भेजा गया था

सहायक प्रबंधक उप्र अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम लिमिटेड मेरठ नरेश कुमार का कहना है कि बैंक अधिकारियों को बैठक में भी आला अधिकारियों ने निर्देश दिये थे। इसके साथ ही रिमांइडर भी भेजा गया था, लेकिन अभी तक कार्यवाही नहीं हुई है।

जिले के 11 बैंकों में अटके हैं 377 आवेदन

बैंक का नाम>>लक्ष्य>>लंबित >>आवेदन

स्टेट बैंक >>196 >>55

सेंट्रल बैंक >>34 >>06

यूपी ग्रामीण>>57>>02

पीएनबी बैंक>>412>>108

पंजाब एंड सिंध>>30>>05

केनरा बैंक>>418>>131

बैंक आफ बड़ौदा>>53>>20

बैंक आफ इंडिया>>05>>00

बैंक ऑफ महाराष्ट्र>>05>>00

इंडियन ओवरसीज>>32>>03

इंडियन बैंक>>151>>15

यूनियन बैंक>>87>>24

यूको बैंक>>30>>08

कुल योग>>1510>>377

वित्तीय वर्ष-20-21 में बैंकों में लंबित आवेदन

इनका कहना है

लंबित आवेदन पत्रों पर अतिशीघ्र कार्रवाई के लिए सभी संबंधित बैंक अधिकारियों को निर्देश दिये गए हैं।

- संजय कुमार, एलडीएम मेरठ

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.