दूध में यूरिया, हल्दी में डाई और मिर्च में ईंट का चूरा खाते हैं हम, जानिए किस तरह हो रही मिलावट Meerut News

मेरठ, जेएनएन। Adulteration शहर में खाने- पीने की चीजों में जमकर मिलावट हो रही है। मुनाफाखोर जहर बेच रहे हैं। दूध में यूरिया डाला जा रहा है। हल्दी में डाई तो लाल मिर्च पाउडर में ईंट का चूरा मिलाया जा रहा है। ऐसे में सभी को सावधान रहने की जरूरत है। मंगलवार को डीएन डिग्री कॉलेज के रसायन विज्ञान विभाग में खाद्य पदार्थ परीक्षण प्रयोगशाला का उद्घाटन किया गया। इसमें शहर के अलग- अलग हिस्सों से मंगाए गए खाद्य पदार्थो के सैंपल जांचे गए, इनमें कई सैंपल फेल मिले।

दूध व मसालों के दो-दो सैंपल फेल

लैब के उद्घाटन के समय शहर के विभिन्न क्षेत्रों से छात्र- छात्राओं ने दूध, तेल, मसाले आदि के सैंपल लिए थे। इसमें दूध के पांच में से दो में यूरिया, सोडियम बाई काबरेनेट, डिटर्जेट मिला। मसालों में तीन सैंपल में से दो फेल मिले। लाल मिर्च में ईंट का चूरा मिला, हल्दी पाउडर में डाई का कलर पाया गया। नमक और तेल का सैंपल सही पाया गया। प्राचार्य डा. बीएस यादव ने बताया कि लैब में आधुनिक उपकरण फोटोफलेममीटर, स्पेक्ट्रोमीटर, सेंटरीफ्यूज मशीन, लेक्टोमीटर आदि उपलब्ध हैं। लैब से कोई भी मसाले, दूध आदि का परीक्षण करा सकता है।

उद्घाटन इन्होंने किया

प्रयोगशाला का उद्घाटन राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रो. दर्शनलाल अरोड़ा, अवैतनिक मंत्री दयानंद गुप्ता ने किया। प्रयोगशाला की समन्वयक सुजाता मलिक, सह समन्वयक दीपक कुमार, डीन डा. एसके अग्रवाल, डा. मनोज सिंह, डा. शिरोमणि, डा. जयसिंह, डा. एमके अग्रवाल, डा. तनुज, डा. विकास, नेहा आदि का सहयोग रहा।

छात्र-छात्राओं ने बनाए मॉडल

रे- केमिकल सोसाइटी के तहत छात्रों ने खाद्य परीक्षण का सजीव मॉडल भी प्रदर्शित किया। लिथिराम आयन, बैट्री, नैनो टेक्नोलॉजी पर भी मॉडल बनाया।

मिलावट ने रंग बदला

रसायन विज्ञान के विभागाध्यक्ष डा. विश्रुत चौधरी ने बताया कि देसी घी में आयोडीन विलयन डालने से यदि रंग नीला होता है तो घी में स्टार्च की मिलावट होती है। हल्दी के सैंपल में हाइड्रोकाबरेनेट डालने पर अगर रंग लाल होता है तो उसमें ईंट का चूरा है, जबकि रंग अगर पीला है तो वह शुद्ध है।

इस तरह हो रही मिलावट

दूध में यूरिया, साबुन व एसिड

काली मिर्च में पपीते के बीज

नमक में चॉक पाउडर

हल्दी में डाई वाला कलर

सरसों के तेल में कटैया/तरा का तेल

देसी घी में वनस्पति तेल, स्टार्च

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.