मथुरा-जयपुर पैसेंजर पर गोवर्धन में यात्रियों का हंगामा

मथुरा-जयपुर पैसेंजर पर गोवर्धन में यात्रियों का हंगामा

गोवर्धन रेलवे स्टेशन पर मथुरा से जयपुर जा रही ट्रेन में जगह न मिलने पर यात्रियों ने जमकर हंगामा काटा। यात्री गाड़ी के इंजन पर बैठ गए तो कुछ यात्री कोच से लटक गए। यह हंगामा करीब एक घंटे तक चला। सूचना पर पहुंची जीआरपी और थाना पुलिस ने यात्रियों को समझा बुझाकर शांत कर ट्रेन को रवाना किया।

JagranSun, 13 Oct 2019 11:29 PM (IST)

गोवर्धन : गोवर्धन रेलवे स्टेशन पर मथुरा से जयपुर जा रही पैसेंजर ट्रेन में जगह न मिलने पर यात्रियों ने जमकर हंगामा काटा। यात्री गाड़ी के इंजन पर बैठ गए और कुछ यात्री कोच से लटक गए। यह हंगामा करीब एक घंटे तक चला। यात्रियों का आक्रोश देख रेलवे अधिकारियों के पसीने छूट गए। सूचना पर पहुंची जीआरपी और थाना पुलिस ने यात्रियों को समझा-बुझाकर शांत कर, ट्रेन को रवाना किया।

रविवार को शरद पूर्णिमा के कारण गोवर्धन में श्रद्धा का सैलाब उमड़ रहा था। सुबह करीब 7.20 बजे गोवर्धन स्टेशन पर मथुरा से जयपुर जाने वाली पैसेंजर ट्रेन पहुंची। स्टेशन पर लोगों की भीड़ जमा थी। इस गाड़ी में सिर्फ छह कोच थे। जगह न मिलने पर यात्रियों ने रेल विभाग के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और इंजन पर जाकर बैठ गए। दरअसल मथुरा से जयपुर जाने वाली ट्रेन में 13 कोच होते हैं, जबकि आज सिर्फ 6 कोच थे। स्टेशन मास्टर राहुल पचौरी ने बताया कि शरद पूर्णिमा पर यात्रियों की संख्या अधिक और गाड़ी में कोच कम होने के कारण यात्रियों को असुविधा हुई। नियमानुसार टिकट वापसी ली गई हैं।

रेलवे अधिकारियों की लापरवाही के कारण हुई परेशानी

-शरद पूर्णिमा पर उमड़ने वाली भीड़ पर नहीं दिया ध्यान

संवाद सूत्र, गोवर्धन : यात्रियों को हुई परेशानी का कारण रेलवे अधिकारियों की लापरवाही ही माना जा सकता है। मथुरा में लगने वाले मेले और पूर्णिमा पर श्रद्धालुओं का रेला उमड़ता है। शरद पूर्णिमा पर गोवर्धन की परिक्रमा करने श्रद्धालु अच्छी-खासी संख्या में आते हैं। इस दिन मथुरा-जयपुर पैसेंजर ट्रेन को 13 कोच के स्थान पर केवल छह कोच के साथ ही रवाना करना रेलवे अधिकारियों की लापरवाही को प्रदर्शित करता है।

शरद पूर्णिमा पर ब्रज में श्रद्धा की अविरल धारा बहती है। गोवर्धन में महारास के आयोजन में शामिल होने और परिक्रमा करने के लिए रविवार को श्रद्धालुओं का रेला उमड़ा था। इस पर्व पर प्रशासन ने कई दिन से तैयारी कर रखी थीं, वहीं रेलवे अधिकारियों ने ढीला रवैया अपनाया। मथुरा-जयपुर पैसेंजर को केवल छह कोच के साथ रवाना किया गया, इस कारण श्रद्धालुओं को जगह नहीं मिल सकी। यात्रियों को ट्रेन में जगह न मिलने के कारण गुस्सा फूट गया। हालांकि रेलवे अधिकारी सफाई देने से भी बचते रहे। पीआरओ एसके श्रीवास्तव ने बताया कि कोचों की कमी के कारण पैसेंजर ट्रेन को छह कोच के साथ रवाना किया गया था।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.