गांव में आएगा सफाईकर्मी, टीम लगाकर कराएंगे सफाई

गांव में आएगा सफाईकर्मी, टीम लगाकर कराएंगे सफाई

बुधवार को दैनिक जागरण कार्यालय में आयोजित प्रश्न पहर कार्यक्रम में जिला पंचायत राज अधिकारी ने पाठकों की समस्याओं का समाधान किया।

JagranThu, 25 Feb 2021 05:07 AM (IST)

जासं, मैनपुरी: गांव में सफाई होगी, सफाईकर्मी भी आएगा। अभी शौचालय के लिए इंतजार करना होगा। त्रिस्तरीय आरक्षण की सूची दो फरवरी को जारी की जाएगी। तत्कालीन प्रधान द्वारा किए गए घपले की जांच को तीन प्रतियों में शपथ पत्र पर शिकायत करनी होगी, टीम बनाकर जांच कराई जाएगी। कुछ ऐसे आश्वासन के साथ बुधवार को दैनिक जागरण कार्यालय में आयोजित प्रश्न पहर कार्यक्रम में जिला पंचायत राज अधिकारी स्वामीदीन ने समस्याओं का समाधान किया। इस दौरान पाठकों ने शौचालय का लाभ नहीं मिलने, गांव में गंदगी होने और पंचायत चुनाव आरक्षण को लेकर तमाम सवाल किए तो उन्होंने समाधान सुझाया। प्रस्तुत है पाठकों के सवाल और डीपीआरओ के जवाब। गांव के प्रवेश और दूसरे रास्ते पर नालियों का पानी भरा है, समस्या पुरानी है। -मोहित प्रताप, औंछा।

-मुख्य सड़क लोनिवि की है। पंचायत का गठन होने के बाद इस समस्या को कार्ययोजना में शामिल कराकर समाधान कराया जाएगा।

प्रधान के खिलाफ होने से पात्र होकर भी शौचालय योजना का लाभ नहीं मिला। -साबिर, महटोली।

-अब शौचालय का लाभ दिव्यांग और पीएम-सीएम आवास लाभार्थियों को मिल रहा है। सक्षम लोग खुद बनवाएं, सामुदायिक शौचालय का इस्तेमाल करें।

गांव में बनाए गए शौचालय बदहाल हैं, कोई विकास नहीं हुआ है। रामवीर सिंह, भाती।

-सरकार योजना का लाभ देती है, रखरखाव ग्रामीणों को करना होता है। बेहतर विकास को सही प्रधान चुनें।

शहर का निवासी हूं, जिला पंचायत का चुनाव लड़ सकते हैं। राजेश राजपूत, भरतवाल।

-गांव निवासी होने के साक्ष्य जरूरी हैं। विरोधी इसी आधार पर पर्चा निरस्त करा सकते हैं।

-

पूरे गांव में सीसी हुई, हमारे घरों की गली को उपेक्षित छोड़ दिया। नरेंद्र मिश्रा, अजीतगंज।

-नए प्रधान के बनने पर इसे कार्ययोजना में शामिल करवाना, काम होगा।

गांव में दो माह पहले नाला धंस गया है, घटिया सामान लगा है। सत्यम तिवारी, नुनारी।

-शिकायत कीजिए, जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी।

शौचालय की दूसरी किस्त नहीं मिली है। सुरजीत, कंजाहार।

-एडीओ पंचायत से मिलिए, उपभोग प्रमाण पत्र आते ही दूसरी किस्त जारी होगी।

गांव की नाली अधूरी पड़ी है, कोई नहीं सुनता। जितेंद्र चौहान, चितायन।

-कार्ययोजना में शामिल पुराने काम पूरे होंगे।

प्रधान पर विकास धन में गबन के आरोपों की जांच कब पूरी होगी। -इन्द्रेश सिंह चौहान।

-इस प्रकरण को दिखवाया जाएगा। मामला सही मिलने पर प्रधान से रिकवरी होगी।

सफाईकर्मी नहीं आता, गांव गंदा रहता है। -अंशुल-गोपालपुर, देवेंद्र नगला हीरा।

-टीम लगाकर गांव में सफाई होगी, कर्मचारियों पर कार्रवाई की जाएगी।

जागरण के पांच सवाल

पंचायत चुनाव आरक्षण की क्या प्रक्रिया चल रही है।

-आरक्षण को 2011 की जनसंख्या के आधार पर काम चल रहा है, दो फरवरी को इसका प्रकाशन होगा। पात्रों को शौचालय देने की क्या कार्रवाई हो रही है।

-अब सरकार व्यक्तिगत शौचालयों के बजाय सामुदायिक शौचालय को बढ़ावा दे रही है। केवल पीएम, सीएम आवास और दिव्यांगों के लिए ही अब यह दिए जा रहे हैं। प्रधानों ने घपले किए, वसूली नहीं हो सकी।

-ऐसे मामले कोर्ट में हैं, विभाग दमदारी से पैरोकारी कर रहा है। मामला सुलटते ही वसूली कराई जाएगी। पंचायत घर बनवाए जा रहे हैं, उद्देश्य क्या है।

-प्रधान पंचायत घर में कार्यालय बनाकर बैठे, ग्रामीणों की सुनें, यही उद्देश्य है। सफाईकर्मी नियमित गांव नहीं जाते।

-ऐसे कर्मचारियों पर लगातार कार्रवाई की जा रही है, कई निलंबित भी किए गए हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.