रैकिग के अगले ही दिन नगर पालिका बेपरवाह

हमारा शहर इंदौर क्यों नहीं दोपहर तक कई मुहल्लों में पड़ा रहा कूड़ा अफसर रहे मौन अभी सोच और सुविधा दोनों में सुधार की जरूरत

JagranMon, 22 Nov 2021 06:01 AM (IST)
रैकिग के अगले ही दिन नगर पालिका बेपरवाह

दृश्य एक : शहर की आवास विकास कालोनी में बीएसएनएल कार्यालय के सामने मुख्य सड़क को ही डंपिग जोन बनाया गया है। रविवार की दोपहर तक यहां कचरे का ढेर व्यवस्था को मुह चिढ़ाता रहा। बेसहारा गोवंश कचरे के ढेर से खाद्य सामग्री लेने के बाद कचरे को जहां-तहां बिखरा रहे थे।

दृश्य दो : कचहरी रोड पर आश्रम रोड तिराहा और जिला अस्पताल के दूसरे गेट पर भी कचरे का ढेर लगा रहा। दोपहर 12 बजे तक यहां भी कूडे का उठान नहीं हुआ। रास्ते से गुजरने वाले लोगों को दुर्गंध की वजह से मुह पर कपड़ा ढककर गुजरना पड़ रहा था। जासं, मैनपुरी : शनिवार को शहरों की स्वच्छता रैंकिग जारी की गई थी। इसमें जिले को 333 वां स्थान हासिल हुआ। पिछले साल के मुकाबले रैंकिग थोड़ी सुधरी है, पर टाप सूची में आने के लिए बहुत काम बाकी है। अभी चौबीस घंटे पहले ही रैंकिग में तरक्की की खबर मिली। पालिका ने अपने हाथों अपनी पीठ थपथपाई तो जरूर, लेकिन अगले ही पल आंखें मूंद लीं। शहर में दोपहर 12 बजे तक कूड़े का उठान ही नहीं कराया गया। असल में यह रोज की स्थिति हो चुकी है। अव्यवस्था को दूर कराने के लिए स्थानीय लोगों द्वारा कई बार सुझाव भी दिए गए, लेकिन उन पर अमल न हुआ। दोपहर में कूड़ा उठान कराने के बाद खुली गाड़ियों से भीड़ के बीच से गुजारा जाता है, जिससे लोगों को काफी परेशानी होती है। हमें भी बदलना होगा

इंदौर की तरह मैनपुरी को भी स्वच्छता की रैकिग में बेहतर किया जा सकता है, लेकिन इसके लिए स्थानीय लोगों को भी अपने स्तर से पहल करनी होगी। पहल कालोनियों से ही करनी होगी। सड़कों पर जो भी कचरा आता है वह कालोनियों से ही निकलता है। स्थानीय निवासियों द्वारा घरों से निकलने वाली गंदगी को सड़कों और खुले स्थानों पर फेंक दिया जाता है। प्लाटों में भी गंदगी के ढेर लगे हुए हैं। इसके लिए जरूरी है कि सभी लोग घरों से निकलने वाले कचरे को डस्टबिन में ही डालें और सुबह आने वाली गाड़ियों में उसे डंप कर दें।

-

भेजें विचार और सुझाव: स्वच्छता के लिए आप बेहतर काम कर रहे हैं, दूसरों के लिए प्रेरणा बन रहे हैं तो हमें बताएं, हम आपकी इस सीख को दैनिक जागरण के माध्यम से दूसरों के लिए प्रेरणा बनाएंगे। स्वच्छता के लिए क्या बेहतर हो सकता है, कैसे शहर, कस्बा और गांव को स्वच्छ बनाने में मदद की जा सकती है। आप के इन सुझाव और विचारों को दैनिक जागरण प्रस्तुत करेगा, जिससे यह दूसरों के लिए प्रेरणादाई बन सकें। हमें वाट्सएप नंबर 8429021039 और ईमेल आइडी पर फोटो समेत भेजें। आपके विचार और सुझावों का स्वागत। स्वच्छता के लिए शहर के प्रत्येक व्यक्ति को अपनी जवाबदेही निभानी होगी। हमारी अपील है कि सभी घर के कचरे को सड़क या प्लाट पर फेंकने की बजाय डस्टबिन में रखें। जिन कालोनियों में कूड़ा उठान को गाडि़यां न पहुंचे, वहां की सूचना तत्काल पालिका प्रशासन को दें। अब स्वच्छता के लिए सभी टीमों को सक्रिय कर प्रतिदिन उनके साथ समीक्षा की जाएगी। मनोरमा, पालिकाध्यक्ष स्वच्छता सर्वेक्षण में जिले में कुरावली नपं अव्वल

संसू, कुरावली: स्वच्छता सर्वेक्षण में नौ नगर पंचायतों में नगर पंचायत कुरावली को जिले में सर्वाधिक अंक मिले हैं। इस पंचायत को 2207.77 अंक मिले हैं। वहीं, नगर पंचायत घिरोर को 1293.91, नगर पंचायत किशनी को 1547.28, नगर पंचायत कुसमरा को 1430.06, नगर पंचायत करहल को 1534.82, नगर पंचायत भोगांव को 1810.87 और नगर पंचायत बेवर को 1864.37 अंक, नगर पंचायत ज्योति खुड़िया 1840.45 अंक प्राप्त हुए हैं।

नगर पंचायत कुरावली को स्वच्छ सर्वेक्षण में प्रथम स्थान प्राप्त होने पर नगर पंचायत चेयरमैन संगीता वर्मा, चेयरमैन प्रतिनिधि धर्मेंद्र वर्मा, डीसीबी चेयरमैन पूर्व विधायक नरेंद्र सिंह राठौर, जिला पंचायत सदस्य शिवम यादव, ब्लाक प्रमुख प्रतिनिधि गजेंद्र सिंह यादव, भाजपा जिला उपाध्यक्ष विनोद कुमार शर्मा, पूर्व ब्लाक प्रमुख शैलेंद्र सिंह राठौर, पूर्व ब्लाक प्रमुख सतीश यादव, पूर्व चेयरमैन अभिलाष सिंह राठौर, व्यापारी नेता रामलढ़ैते गुप्ता, समाज सेवी आलोक गुप्ता, रामदेव वाल्मीकि, रामअवतार वाल्मीकि, राजेश जैन, बंटू, सचिन चक्रवर्ती, रितिक राज भटनागर, ऋषभ गुप्ता, हरी किशन गुप्ता, मोहित गुप्ता आदि ने हर्ष प्रकट किया है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.