मायके में रह रही विवाहिता को पति ने मार डाला

मायके में रह रही विवाहिता को पति ने मार डाला

विवाहिता को फोन कर घर से बाहर बुलाया फिर गोली मार दी। दहेज के लिए विवाहिता का उत्पीड़न होता था।

JagranFri, 19 Mar 2021 03:45 AM (IST)

संसू, किशनी, मैनपुरी : मायके में रह रही दहेज पीड़िता की पति ने गोली मारकर हत्या कर दी। घटना को अंजाम देकर आरोपित अपने साथियों के संग कार में सवार होकर फरार हो गया। पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपित की तलाश में दबिश दी, लेकिन उसका कोई पता नहीं चला।

थाना किशनी के गांव नगला राय निवासी कृष्ण अवतार ने अपनी पुत्री रूपाली उर्फ रंगोली का विवाह 18 जनवरी 2020 को इटावा के थाना फ्रेंड्स कालोनी क्षेत्र में गांव सुंदरपुर निवासी मोहित के साथ किया था। विवाह के बाद ही ससुरालियों ने दहेज की मांग को लेकर रूपाली का उत्पीड़न शुरू कर दिया। आए दिन उसके साथ मारपीट की जाती थी। कई बार पंचायत हुई, लेकिन रूपाली का उत्पीड़न बंद नहीं हुआ। करीब एक माह पहले कृष्ण अवतार पुत्री को अपने घर लिवा लाए। तब से वह मायके में ही रह रही थी।

बुधवार को रूपाली के मां और भाई बाहर गए हुए थे। वह घर में अकेली सो रही थी। पिता मकान के बाहरी हिस्से में लेटे हुए थे। रात करीब 11 बजे मोहित अपने तीन साथियों के संग कार से नगला राय पहुंचा और रूपाली को आवाज दी। रूपाली को लगा कि मोहित को अपने किए पर पछतावा हो रहा है, इसलिए वह मोहित से मिलने के लिए बाहर आ गई। दरवाजे के पास ही शौचालय है। बात करने से पहले रूपाली शौचालय की ओर जाने लगी, तभी मोहित ने उसके सीने में गोली मार दी, जिससे रूपाली घायल होकर गिर गई। मौके पर ही उसकी मौत हो गई। गोली चलने की आवाज सुनकर मृतका के पिता बाहर निकले, तब तक आरोपित फरार हो गए।

जानकारी मिलने पर पुलिस पहुंच गई। आरोपितों को पकड़ने के लिए जिले की नाकाबंदी की गई, लेकिन वे पकड़ में नहीं आए। घटना की रिपोर्ट कृष्ण अवतार ने मोहित और उसके तीन अज्ञात साथियों के खिलाफ दर्ज कराई है। आरोपित को पकड़ने के लिए पुलिस की एक टीम इटावा रवाना हो गई, लेकिन आरोपित के घर में ताला लगा मिला। इंस्पेक्टर किशनी अजीत सिंह ने बताया कि आरोपित को जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा। गुरुवार को थी केस में सुनवाई की तारीख

मायके आने के बाद रूपाली ने पति और अन्य ससुरालियों के खिलाफ कोर्ट में दहेज उत्पीड़न का केस दायर किया था। गुरुवार को इस मामले की सुनवाई होनी थी। बताया जा रहा है कि केस दायर होने से मोहित खिसिया गया था, इसलिए उसने तारीख से पहले ही रूपाली की हत्या कर दी।

मायके आने पर भी नहीं बच सकी जान

रूपाली के पिता ने बताया कि ससुरालियों ने रूपाली की हत्या की योजना बनाई थी। इस बात की जानकारी रूपाली ने उन्हें दी थी। बेटी के साथ कोई अनहोनी न हो सके, इसलिए वे उसे अपने साथ लिवा लाए थे। लेकिन, मायके में रहकर भी उसकी हत्या कर दी गई।

रूपाली के गिरते ही बोला, हो गया काम

मृतका के पिता ने बताया कि वे घटनास्थल के पास ही लेटे हुए थे। गोली लगने के बाद रूपाली जमीन पर गिर गई। वे मौके की ओर दौड़ पड़े। इसी बीच मोहित ने अपने साथियों से कहा कि चलो, हो गया काम। यह कहकर सभी हमलावर कार में सवार होकर फरार हो गए।

मोबाइल पर भी की थी रूपाली से बात

पुलिस ने रूपाली के मोबाइल को कब्जे में ले लिया है। काल डिटेल से पता चला है कि हत्या से पहले मोहित ने रूपाली से फोन पर भी बात की थी। अनुमान लगाया जा रहा है कि मोहित ने रूपाली से मिलकर बात करने को कहा होगा, इसीलिए वह घर से बाहर आ गई।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.