कायाकल्प में खरा उतरा 100 शैया अस्पताल, मिला पुरस्कार

शासन की टीम के सर्वे में मिले 77 फीसद अंक 2020-21 के तहत हुआ था सर्वे

JagranPublish:Thu, 02 Dec 2021 06:20 AM (IST) Updated:Thu, 02 Dec 2021 06:20 AM (IST)
कायाकल्प में खरा उतरा 100 शैया अस्पताल, मिला पुरस्कार
कायाकल्प में खरा उतरा 100 शैया अस्पताल, मिला पुरस्कार

फोटो-10

शासन की टीम के सर्वे में मिले 77 फीसद अंक, 2020-21 के तहत हुआ था सर्वे जासं, मैनपुरी : कायाकल्प अवार्ड योजना के तहत कराए गए सुविधाओं के सर्वे में 100 शैया अस्पताल उम्मीदों पर खरा उतरा है। 2020-21 के इस सर्वे में अस्पताल को 77 फीसद अंक दिए गए हैं। शासन द्वारा अस्पताल को पुरस्कार स्वरूप धनराशि उपलब्ध कराई गई है।

शासन द्वारा सभी जिलों में सरकारी अस्पतालों में सुविधाओं और व्यवस्थाओं को लेकर सर्वे कराया जाता है। कायाकल्प अवार्ड योजना के तहत जिला अस्पताल और 100 शैया अस्पताल का शासन की चार सदस्यीय टीम द्वारा सर्वे किया गया था। गोपनीय सर्वे में मौके पर मिली स्थिति की सूची सीधे शासन को सौंपी गई थी। अब शासन द्वारा रिपोर्ट के आधार पर 100 शैया अस्पताल को सुविधाओं में बेहतर पाया है। कायाकल्प अवार्ड योजना के तहत अस्पताल प्रशासन को शासन स्तर से तीन लाख रुपये की प्रोत्साहन धनराशि के अलावा प्रमाण पत्र भी उपलब्ध कराया गया है।

बुधवार को इस सफलता पर अस्पताल के सीएमओ डा. पीपी सिंह द्वारा सभी चिकित्सकों, पैरामेडिकल स्टाफ के अलावा 154 स्टाफ को इन सुविधाओं में सहयोग के लिए प्रमाण पत्र और उपहार भेंट किए। इस मौके पर सीएमएस डा. एके पचौरी, डा. संदीप कुमार, डा. अभिषेक दुबे, डा. निशिता यादव, डा. सपना चौहान, डा. शैलजा, डीपीएम संजीव वर्मा, अस्पताल प्रबंध नीटू कुमार, सुनील चौहान, प्रतीक यादव, कौशलेंद्र सिंह, उदय चौहान, मुकेश कुमार, अमन, ममता, दीप्ती, नीलम, शशि आदि उपस्थित थे। इन प्वाइंट पर हुआ था सर्वे

- अस्पताल की सफाई व्यवस्था और सैनिटाइजेशन।

- सिटीजन चार्टर के अनुसार मरीजों को दी जाने वाली सुविधाएं, मशीनों की क्रियाशीलता।

- मेडिकल वेस्ट का डिस्पोज, अस्पताल आने वाले मरीजों का फीडबैक।

- पेयजल की व्यवस्था और कोविड प्रोटोकाल का पालन। ये हैं 100 शैया में सुविधा

100 शैया अस्पताल में सामान्य प्रसव के अलावा एसएनसीयू, एमएनसीयू, अल्ट्रासाउंड, एक्स-रे, पैथोलाजी, इमरजेंसी, आइसीयू के अलावा वैक्सीनेशन और प्रसव के बाद महिलाओं को लिफ्ट की मदद से अस्पताल की दूसरी और तीसरी मंजिल तक पहुंचाने की सुविधा है।