कृषि विभाग का कर्मचारी लूट-हत्या में निकला वांछित

लखनऊ में हुई थी वारदात एसपी ने डीएम को पत्र भेजकर विभागीय कार्रवाई पर विचार करने का किया अनुरोध

JagranWed, 26 May 2021 06:45 AM (IST)
कृषि विभाग का कर्मचारी लूट-हत्या में निकला वांछित

जासं, मैनपुरी: जिला कृषि रक्षा विभाग में तैनात एक कर्मचारी लखनऊ में हुई हत्या और लूट में वांछित निकला। एसपी ने डीएम को पत्र भेजकर आरोपित कर्मचारी के खिलाफ विभागीय कार्रवाई करने का अनुरोध किया है। यह कर्मचारी मैनपुरी राजकीय रेलवे पुलिस का भी आरोपित है। आरोपित मार्च माह से कार्यालय नहीं आ रहा है।

लखनऊ के थाना कैंट क्षेत्र अंतर्गत सर्वेट क्वाटर (द्वितीय फ्लोर) निवासी ब्रजमोहन की 26 मार्च को हत्या की गई थी। उसके आवास से लूट होना भी बताया गया। मुकदमा थाना कैंट में पंजीकृत हुआ था। इस मामले में मैनपुरी कृषि रक्षा विभाग में कार्यरत थाना कोतवाली क्षेत्र के गांव भोजपुरा निवासी अजय कुमार उर्फ रिकू पुत्र राजेश वांछित है।

लखनऊ पूर्वी के पुलिस उप आयुक्त ने मैनपुरी के एसपी को पत्र भेजकर वांछित अभियुक्त को पकड़ने के लिए सहयोग मांगा है। साथ ही गिरफ्तारी के लिए एक टीम का भी गठन कैंट थाना के प्रभारी निरीक्षक के नेतृत्व में किया गया है। इधर, पत्र के बाद एसपी अविनाश पांडे ने डीएम को पत्र भेजा है, जिसमें इस प्रकरण का उल्लेख करते हुए वांछित अजय कुमार उर्फ रिकू के खिलाफ विभागीय कार्रवाई किए जाने के औचित्य पर विचार करने का अनुरोध किया है। डीएम के निर्देश पर सीडीओ ने यह पत्र कृषि रक्षा अधिकारी को कार्रवाई के लिए भेजा है। मार्च से गायब चल रहा कर्मचारी

कृषि रक्षा विभाग में तैनात अजय कुमार मार्च के आखिरी सप्ताह से कार्यालय नहीं आ रहा है। कार्यालय के कर्मचारियों ने बताया कि उसके कार्यालय नहीं आने पर 26 मार्च को नोटिस भी दिया गया, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला है।

जीआरपी के मुकदमे में भी है वांछित: कृषि रक्षा विभाग का कर्मचारी अजय बीते साल थाना राजकीय रेलवे पुलिस मैनपुरी में दर्ज एक मुकदमे में भी आरोपित है। वह इस मामले में वांछित चल रहा है। यह मुकदमा हत्या के प्रयास आदि धाराओं में पंजीकृत है। चुनावी विवाद में 21 के खिलाफ एफआइआर, नौ गिरफ्तार

जासं, मैनपुरी: शहर कोतवाली क्षेत्र के गांव लहरा महुअन में चुनावी विवाद को लेकर नव निर्वाचित बीडीसी और गांव के ही पीएसी में एचसीपी के पद पर तैनात व्यक्ति के पक्ष के बीच विवाद के बाद जमकर मारपीट हो गई। इस घटना में दोनों पक्षों के कई लोग घायल हुए हैं। पुलिस ने दोनों पक्षों के 21 आरोपितों के खिलाफ एफआइआर दर्ज की है।

लहरा महुअन निवासी रामवीर सिंह पंचायत चुनाव में बीडीसी पद पर प्रत्याशी थे। गांव के निवासी पीएसी के एचसीपी श्याम सिंह ने चुनाव में रामवीर सिंह का विरोध किया था। मतगणना के बाद रामवीर सिंह को विजयी घोषित किया गया था। इसे लेकर दोनों पक्षों में तनाव चल रहा था। सोमवार को दोनों पक्ष आमने-सामने आ गए। इस दौरान जमकर मारपीट और पथराव हुआ। मारपीट और पथराव में दोनों पक्षों से कई लोग घायल हो गए। पुलिस ने तीन लोगों का मेडिकल परीक्षण कराया है। आरोपित एचसीपी फिलहाल गाजियाबाद में तैनात हैं। कुछ दिन पहले ही अवकाश लेकर गांव आए थे। घटना की रिपोर्ट कोतवाली के उपनिरीक्षक मनोज कुमार ने दोनों पक्षों के राजकुमार, योगेंद्र, शिवम, विनोद, पुनीत, प्रवीन, श्याम सिंह, मोनू, विवेक, नीरज, दीपक, अनमोल, प्रवीन कुमार, छोटे, शिवम कुमार, संजीव, ईशू, मदन, अभिषेक, ब्रिजेश, मनीष के खिलाफ दर्ज कराई है। पुलिस ने दोनों पक्षों से नौ से लोगों को गिरफ्तार किया है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.