दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

हर माह 40 टन ऑक्सीजन अन्य जिलों में हो रही सप्लाई

हर माह 40 टन ऑक्सीजन अन्य जिलों में हो रही सप्लाई

अजय दीक्षित महोबा एक ओर जहां दूसरे जिलों व बड़े शहरों में ऑक्सीजन को लेकर मारामारी

JagranSat, 08 May 2021 07:42 PM (IST)

अजय दीक्षित, महोबा : एक ओर जहां दूसरे जिलों व बड़े शहरों में ऑक्सीजन को लेकर मारामारी मची है वहीं महोबा में मरीजों को ऑक्सीजन उपलब्ध कराने के साथ दूसरे शहरों को भी आपूर्ति भेजी जा रही है। समय रहते जिला प्रशासन के उचित निर्णय ने हालात बिगड़ने से पहले ही उस पर कंट्रोल पा लिया गया। ऑक्सीजन का स्टाक पूरा करने के लिए राउरकेला से टैंकर से ऑक्सीजन मंगाई जा रही है। ठेका कांट्रेक्टर को आपूर्ति में सक्रियता बरते के सख्त निर्देश हैं।

महोबा में कोरोना संक्रमितों के इलाज के लिए एक भी बेहतर प्राइवेट अस्पताल नहीं है। यहां एक मात्र जिला अस्पताल और सीएचसी-पीएचसी ही थे। इसके बाद भी संकटकाल से निपटने के लिए अलग से तीन कोविड सेटर बनाए गए हैं। हर बेड पर एक ऑक्सीजन सिलिडर, एक्सरे मशीन की व्यवस्था की गई। तीनों सेटर पर तीस से पचास बेड खाली हैं। साढ़े आठ सौ मरीज होम क्वारंटाइन हैं, जो मरीज होम क्वारंटाइन किए गए हैं। उन्हें भी मेडिकल किट, आवश्यकता पर ऑक्सीजन घर पर उपलब्ध कराई जा रही है। जिले में प्रति दिन तीन सौ ऑक्सीजन सिलिडर की खपत है। इसकी पूर्ति के लिए दूसरे प्रदेशों से टैंकरों में ऑक्सीजन सप्लाई चालू कर दी गई है। मदद को बढ़ाए हाथ

डीएम सत्येंद्र कुमार ने बताया कि जिले में इस समय 40 टन लिक्विड ऑक्सीजन हर माह दूसरे जनपदों को भेजी जा रही है। इसमें बांदा को पहले भी सौ सिलिडर भेजे जा रहे थे, अब सप्लाई और बढ़ा दी गई है। हाथरस, छतरपुर, चित्रकूट जनपद को भी ऑक्सीजन जरूरत के अनुसार सप्लाई की जा रही है।

सभी को मिल रही ऑक्सीजन

कबरई में बनाए गए सेंटर पर यदि कोई भी तीमारदार खाली सिलिडर लेकर पहुंच रहा है तो उसे ऑक्सीजन उपलब्ध कराई जा रही है। हर पर क्वारंटाइन लोगों से भी संपर्क कर उन्हें सिलिडर भेजे जा रहे हैं।

समिति कर रही देखरेख

ऑक्सीजन सप्लाई को लेकर डीएम ने दो सदस्यीय समिति का गठन किया है। एडीएम आरएस वर्मा, जिला खनन अधिकारी शैलेंद्र सिंह ने शनिवार को भी कबरई स्थित सप्लायर के प्लांट का निरीक्षण किया। यहीं पर ऑक्सीजन स्टोर होकर जिला के साथ दूसरे जिलों को आपूर्ति हो रही है। शैलेंद्र सिंह ने बताया कि जिले में यदि किसी को उपचार के लिए सिलिडर की आवश्यकता होती है तो उसे यहां से भी भरा कर दिया जा रहा है। दूसरे जिलों को भी सप्लाई में कोई दिक्कत नहीं है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.