जिला समन्वयक के निरीक्षण में गायब मिले शिक्षक, कार्रवाई

जिला समन्वयक के निरीक्षण में गायब मिले शिक्षक, कार्रवाई

महानिदेशक स्कूली शिक्षा के निर्देश के अनुपालन के क्रम में जिला समन्वयक प्रशिक्षण सूर्य बहादुर सिंह ने शनिवार को धानी क्षेत्र के प्राथमिक व पूर्व माध्यमिक विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्थिति की जांच की।

Publish Date:Sun, 17 Jan 2021 12:10 AM (IST) Author: Jagran

महराजगंज: महानिदेशक स्कूली शिक्षा के निर्देश के अनुपालन के क्रम में जिला समन्वयक प्रशिक्षण सूर्य बहादुर सिंह ने शनिवार को धानी क्षेत्र के प्राथमिक व पूर्व माध्यमिक विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्थिति की जांच की। उन्होंने प्राथमिक विधालय बरगदवा, झागपार, कोइलाडाड़, धानी गांव प्रथम व पूर्व माध्यमिक विद्यालय महदेवा का निरीक्षण किया। निरीक्षण में प्राथमिक विद्यालय कोइलाडाड़ में शिक्षक अखिलेश कुमार पांडेय, पूजा वैश्य, प्रा. विद्यालय बरगदवा में मनोज कुमार सिंह व पूर्व माध्यमिक विद्यालय महदेवा में अनुदेशक सूर्य प्रसाद नागर व प्रवीण कुमार अनुपस्थित मिले। जिला समन्वयक सूर्य बहादुर सिंह ने बताया कि निरीक्षण को प्रेरणा पोर्टल पर दर्ज किया गया है। अनुपस्थित शिक्षको से स्पष्टीकरण मांगी जाएगी।

स्कूल के लिए निकला छात्र लापता

महराजगंज: सदर कोतवाली थाना क्षेत्र नरायनपुर में शुक्रवार की सुबह घर से विद्यालय के लिए निकला कक्षा नौ का छात्र घर नहीं पहुंचा । स्वजन की सूचना पर कोतवाली पुलिस ने गुमशुदगी दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। सदर कोतवाल मनीष कुमार यादव ने बताया कि छात्र अमित शर्मा जिला मुख्यालय के एक विद्यालय में कक्षा नौवीं का छात्र है। छात्र के मामा अशोक कुमार शर्मा के अनुसार शुक्रवार अमित स्कूल फीस जमा करने 15 हजार रुपये लेकर बाइक से निकला था। देर शाम तक विद्यालय से घर न पहुंचने पर खोजबीन शुरू हो गई। मामले में छात्र के मामा की तहरीर पर गुमशुदगी दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है। प्रदेश में शीघ्र लागू होगी संस्कृति नीति

महराजगंज: उत्तर- प्रदेश संस्कृति नीति लागू करने वाला पहला प्रदेश होगा जिससे जल्द ही हम अपनी संस्कृति धरोहर को संजोने और संवारने वाले अग्रणी प्रदेश का हिस्सा होंगे। उक्त बातें संगीत नाट्य अकादमी उत्तर-प्रदेश के सदस्य अमित अंजन जायसवाल ने सिसवा कस्बा स्थित अपने आवास पर शनिवार को कही। उन्होंने बताया कि संस्कृति मंत्रालय के तत्वावधान में लखनऊ में हुई बैठक में यह बात उठाई गई कि हर जिले में कापीराइट केंद्र खोले जाएं। जिसमें जिले के हर कलाकार अपनी रचनाएं कापीराइट कर सके। जिससे उसकी रचनाएं चोरी न हो सके। डिजिटल प्लेटफार्म को रेगुलेट करने के लिए एक बोर्ड की स्थापना हो जिसमे यह तय हो कि कौन सी प्रस्तुति साफ-सुथरी है। इससे कलाकार माफियाओं के वर्चस्व खत्म होगा। इसके अलावा भी कई बातें की गई जो संस्कृति क्षेत्र में उपयोगी होंगी। इस बैठक में संगीत नाटक अकादमी, कथक केंद्र, ललित कला व भारतेंदु नाटक अकादमी के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष व सदस्यों समेत संस्कृति मंत्री नीलकंठ तिवारी उपस्थित रहे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.