संतान की दीर्घायु के लिए आज माताएं रहेंगी निराजल व्रत

महराजगंज के दुर्गा मंदिर सिचाई कालोनी टेढ़वा कुटी शिकारपुर भिटौली घुघली परतावल पनियरा कतरारी सहित ग्रामीण क्षेत्रों में भी महिलाओं ने जितिया और पूजन सामग्री की जमकर खरीदारी की। उत्थान ज्योतिष संस्थान के निदेशक ज्योतिर्विद पं. दिवाकर त्रिपाठी पूर्वांचली ने बताया कि यह व्रत पूजन अष्टमी श्राद्ध के दिन किया जाता है।

JagranWed, 29 Sep 2021 01:03 AM (IST)
संतान की दीर्घायु के लिए आज माताएं रहेंगी निराजल व्रत

महराजगंज: संतान की लंबी आयु के लिए जीउतिया व्रत बुधवार को श्रद्धा और उत्साह के साथ मनाया जाएगा। इस दिन माताएं निराजल व्रत रहेंगी। उपवास में ही संध्या समय राजा जीमूतवाहन और राजा परीक्षित की कथा सुनेंगी। इस पर्व को लेकर महिलाएं जीउतिया और पूर्जन सामग्री की जमकर खरीदारी की।

नगर के दुर्गा मंदिर, सिचाई कालोनी, टेढ़वा कुटी, शिकारपुर, भिटौली, घुघली, परतावल, पनियरा, कतरारी, सहित ग्रामीण क्षेत्रों में भी महिलाओं ने जितिया और पूजन सामग्री की जमकर खरीदारी की। उत्थान ज्योतिष संस्थान के निदेशक ज्योतिर्विद पं. दिवाकर त्रिपाठी पूर्वांचली ने बताया कि यह व्रत पूजन अष्टमी श्राद्ध के दिन किया जाता है, जो इस वर्ष 29 सितंबर को होगा। अष्टमी तिथि 28 सितंबर को ही दोपहर बाद तीन बजकर पांच मिनट से लग जाएगी जो 29 सितंबर को दोपहर बाद चार बजकर 54 मिनट तक व्याप्त रहेगी। अत: सूर्योदय के साथ ही अष्टमी तिथि लग जाएगी जो दिन में चार बजकर 54 मिनट तक रहेगी। इसी दिन व्रत किया जाएगा। व्रत का पारणा 30 सितंबर को प्रात: किया जाएगा। उन्होंने बताया कि इस पर्व में महिलाएं जीमूतवाहन नाम के राजा की मूर्ति बना कर उसका आह्वान करती हैं। धार्मिक ग्रंथों के अनुसार इस कथा व व्रत की शुरुआत द्वापरयुग के अंत व कलयुग के उदय के समय हुआ है।

राष्ट्रहित में कार्य करता है अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद

महराजगंज: अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (अभाविप) महराजगंज द्वारा चलाए जा रहे पंद्रह दिवसीय सदस्यता अभियान को अधिकतम सदस्यता दिवस के रूप में मनाया गया, जिसमें कुल छह कालेजों के दो हजार से अधिक छात्र-छात्राओं एवं शिक्षकों ने अभाविप के सदस्यता ली।

सदस्यता अभियान के दौरान जिला विस्तारक संदीप ने बताया कि अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद एक मात्र ऐसा संगठन है, जो छात्र हित के साथ-साथ समाज व राष्ट्र हित में भी कार्य करता है। मीडिया संयोजक शिवम शर्मा ने कहा कि अभाविप किसी व्यक्ति विशेष को अपना आदर्श न मानकर महापुरुषों को अपना आदर्श मानता है, तथा उनके विचारों और सिद्धांतों को चरितार्थ करता है। विभाग संयोजक अवधुतेश्वर, जिला संयोजक मयंक मणि त्रिपाठी, अमर देव उपाध्याय, शिवम, अभिजीत, सतीश मद्धेशिया, आकाश मणि, मोनू कुमार, अभय यादव, अक्षत कश्यप, शिव यादव, आदित्य आदि कार्यकर्ता मौजूद रहे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.