ओमिक्रोन से न हों परेशान, निपटने के हैं इंतजाम

आक्सीजन प्लांट के साथ जिला महिला अस्पताल और छह सीएचसी कोविड अस्पताल के रूप में तैयार

JagranSat, 04 Dec 2021 11:11 PM (IST)
ओमिक्रोन से न हों परेशान, निपटने के हैं इंतजाम

जागरण संवाददाता, महराजगंज: कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रोन के भारत में दस्तक देने के बाद महराजगंज का स्वास्थ्य विभाग भी अलर्ट हो गया है। कोरोना की दूसरी लहर के दौरान सरकार ने स्वास्थ्य सुविधाओं को मजबूत करने का जो कार्य किया है, उसे व्यवस्थित करने की तैयारी तेज हो गई है। इससे लोग राहत महसूस कर रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की मानें तो ओमिक्रोन से परेशान होने की जरूरत नहीं है, क्योंकि उससे निपटने के इंतजाम पर्याप्त हैं। सिर्फ कोविड नियमों का पालन करते हुए धैर्य रखना है।

100 बेड का जिला महिला अस्पताल कोविड एल टू के रूप में तैयार है, जबकि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर 30 से 60 बेड की व्यवस्था है। कोविड हास्पिटल और सीएचसी पर आक्सीजन प्लांट के साथ ही आक्सीजन कंसंट्रेटर पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हैं। सरकारी अस्पतालों में आक्सीजन प्लांट की व्यवस्था

- जिला संयुक्त चिकित्सालय- 550 लीटर प्रति मिनट

- एलटू- चिकित्सा इकाई एमसीएच विग- 330 लीटर प्रति मिनट

- एल टू- चिकित्सा इकाई एमसीएच विग- 250 लीटर प्रति मिनट

- सीएचसी परतावल- 250 लीटर प्रति मिनट

- सीएचसी फरेंदा- 250 लीटर प्रति मिनट

- सीएचसी घुघली- 300 लीटर प्रति मिनट

- सीएचसी गोपाल- 250 लीटर प्रति मिनट

--

बेड और आक्सीजन कंसंट्रेटर की उपलब्धता

अस्पताल बेड कंसंट्रेटर

- एमसीएच विग 100 100

- सीएचसी घुघली 30 20

- सीएचसी गोपाला 50 20

- सीएचसी नौतनवा 40 20

- सीएचसी धानी 60 20

- सीएचसी परतावल 50 20

- सीएचसी फरेंदा 30 20 - सीएचसी परतावल और फरेंदा को भी आवश्यकता पड़ने पर कोविड अस्पताल के रूप में उपयोग में लाया जाएगा।

-

कोविड से बचाव का टीका अवश्य लगवाएं मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा. एके राय ने बताया कि अस्पताल में आक्सीजन प्लांट होने से आक्सीजन की कमी नहीं होने पाएगी। ओमिक्रोन को लेकर आमजन को घबराने की जरूरत नहीं है। कोरोना से बचाव के टीके की दोनों डोज अवश्य लगवाएं। कोविड नियमों का पालन करें और घर से बाहर निकलने पर मास्क का प्रयोग अवश्य करें। स्वच्छता बरतें। कोविड अस्पतालों में बेड, आक्सीजन प्लांट और आक्सीजन कंसंट्रेटर की सुविधा उपलब्ध है। जिले के सभी सीएचसी पर 10-10 जंबो सिलेंडर भी है। इसके अलावा 150 जम्बो सिलेंडर और 150 आक्सीजन कंसंट्रेटर स्टोर में सुरक्षित है। निगरानी समितियों को सक्रिय रहने के निर्देश दिए गए हैं।

डा. एके श्रीवास्तव

मुख्य चिकित्सा अधिकारी नए वेरिएंट ओमिक्रोन को लेकर प्रशासन सतर्क है। जांच का दायरा बढ़ा दिया गया है। स्वास्थ्य विभाग को अलर्ट कर दिया गया है। अधिक से अधिक टीकाकरण कराने पर जोर है। स्टाफ, पैरामेडिकल को किसी भी स्थिति से निपटने के लिए एक बार फिर प्रशिक्षण कराने के निर्देश दिए गए हैं।

डा. सत्येन्द्र कुमार

जिलाधिकारी

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.