पेड़ों पर कुल्हाड़ी चला रहे हरियाली के दुश्मन

महराजगंज: जलौनी की आड़ में मधवलिया व उत्तरी चौक रेंज के जंगल में पेड़ों की कटान काफी तेज हो गई है। कारोबारी जलौनी की लकड़ियों को क्षेत्र के चौक-चौराहों पर खुलेआम मंडी सजाकर बिक्री कर रहे हैं। फिर भी वन विभाग के जिम्मेदारों को कट रहे पेड़ों की तनिक भी फिक्र नहीं है। अभयारण्य घोषित सोहगीवरवा वन्यजीव प्रभाग के मधवलिया रेंज व चौक उत्तरी रेंज के जंगल में जलौनी के नाम पेड़ों की अवैध कटान नहीं थम रही है। आलम यह है कि विभागीय साठगांठ से हर रोज सैकड़ों क्विंटल लकड़ी जलौनी के नाम पर स्थानीय बाजारों में बेची जा रही है। इस काम में जंगल के समीप बसे गांवों के लकड़ी चोर विशेष भूमिका निभा रहे हैं। हालत यह है कि जंगल में हर ओर सुनाई दे रही आरे व कुल्हाड़ों की आवाज यह बता रही है कि आने वाले दिनों में पेड़ों का विनाश आसानी से थमने वाला नहीं है। हालत पर नजर डालें तो जो लकड़ी चोर चोरी छुपे पेड़ों की कटान करते थे, वह अब सीनाजोरी पर भी उतर आ रहे हैं। मधवलिया रेंजर जगरन्नाथ प्रसाद का कहना है कि जंगल में बिना अनुमति किसी का भी प्रवेश पूरी तरह प्रतिबंधित है। यदि जलौनी के नाम पर जंगल में प्रवेश करते कोई पकड़ा गया तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.