जनसंख्या नियंत्रण के लिए गणतंत्र दिवस से माहौल बनाएगी योगी सरकार, दिशा-निर्देश जारी

योगी सरकार ने गणतंत्र दिवस पर हर शहर और गांव तक जनसंख्या नियंत्रण का संदेश पहुंचाने का फैसला किया है।

यूपी में गणतंत्र दिवस को लेकर सभी जिलाधिकारियों को दिशा-निर्देश जारी किया गया है। समारोह कोविड-19 प्रोटोकॉल के पालन के साथ ही सादगी से मनाने पर जोर है। कहा गया है कि सुबह 8.30 बजे सरकारी भवनों जबकि सुबह 10 बजे शिक्षण संस्थाओं में राष्ट्रध्वज फहराया जाएगा।

Publish Date:Thu, 21 Jan 2021 09:15 PM (IST) Author: Umesh Kumar Tiwari

लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने गणतंत्र दिवस पर सभी जिलों के शहरों और गांवों तक जनसंख्या नियंत्रण का संदेश पहुंचाने का फैसला किया है। 26 जनवरी के कार्यक्रमों को लेकर शासन स्तर से जो दिशा-निर्देश जारी हुए हैं, उसमें इसका उल्लेख किया गया है। साथ ही सामाजिक समरसता, राष्ट्रप्रेम और पर्यावरण संरक्षण का संदेश भी जनता तक पहुंचाया जाएगा।

गणतंत्र दिवस को लेकर मुख्य सचिव आरके तिवारी ने गुरुवार को सभी जिलाधिकारियों को दिशा-निर्देश जारी किए। समारोह कोविड-19 प्रोटोकॉल के पालन के साथ ही सादगी से मनाने पर जोर है। जारी निर्देश में कहा गया है कि सुबह 8.30 बजे सरकारी भवनों, जबकि सुबह 10 बजे शिक्षण संस्थाओं में राष्ट्रध्वज फहराया जाएगा। इस दौरान राष्ट्रीय एकता, अखंडता, धर्मनिरपेक्षता और सांप्रदायिक सौहार्द की भावना को मजबूत बनाने पर बल दिया जाएगा।

बढ़ती जनसंख्या से विकास यात्रा प्रभावित : दिशा-निर्देश में कहा गया है कि 26 जनवरी के कार्यक्रमों में राष्ट्रगान के साथ ही विद्यार्थियों को संक्षेप में स्वतंत्रता संग्राम का इतिहास बताया जाए और सशस्त्र सैन्यबलों के बलिदान को नमन करते हुए देशभक्तों के जीवन के प्रेरक प्रसंग दोहराए जाएं। परेड की सलामी, स्वतंत्रता सेनानियों के सम्मान आदि निर्देशों के साथ ही कहा गया है कि बढ़ते प्रदूषण और बढ़ती जनसंख्या से हमारी विकास यात्रा प्रभावित हो रही है। कार्यक्रमों से सुखी भविष्य के लिए स्वच्छ पर्यावरण और सीमित परिवार की जरूरत को रेखांकित किया जाए।

सरकार की योजनाओं का भी प्रचार : दिशा-निर्देशों में यह भी कहा गया कि प्रदेश की वर्तमान सरकार का लक्ष्य है, जन आकांक्षाओं की पूर्ति और सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास। राज्य सरकार सभी वर्गों की उन्नति, कल्याण और सर्वांगीण विकास के लिए कृत संकल्पित है। शासनादेश के साथ किसान, गरीब, उद्योग आदि के लिए सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं से संबंधित परिशिष्ट भी भेजा गया है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.