यूपी में पुलिसिंग को रफ्तार देंगी महिला होमगार्ड, थामेंगी अफसरों के वाहनों की स्टीयरिंग

प्रशिक्षण कार्यक्रम एक से 31 दिसंबर तक चलेगा। इसके बाद महिला होमगार्ड को विभाग की ओर से ड्राइविंग लाइसेंंस और सर्टिफिकेट भी दिया जाएगा। प्रशिक्षण के बाद इन महिला होमगार्ड को डायल 112 के अलावा पिंक पुलिस और 1090 की महिला पुलिस अधिकारियों के साथ तैनात किया जाएगा।

Anurag GuptaMon, 29 Nov 2021 08:51 AM (IST)
150 महिला होमगार्ड को एक दिसंबर से दिया जाएगा एक माह का विशेष प्रशिक्षण।

लखनऊ, [सौरभ शुक्ला]। अब प्रदेश में जल्द ही महिला होमगार्ड भी सड़क पर पुलिस की गाड़ियां दौड़ाती नजर आएंगी। करीब 150 महिला होमगार्ड को केंद्रीय प्रशिक्षण संस्थान में विशेषज्ञों द्वारा विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रशिक्षण संस्थान पुरानी जेल रोड स्थित होमगार्ड मुख्यालय में है।

प्रशिक्षण कार्यक्रम एक से 31 दिसंबर तक चलेगा। इसके बाद महिला होमगार्ड को विभाग की ओर से ड्राइविंग लाइसेंंस और सर्टिफिकेट भी दिया जाएगा। प्रशिक्षण के बाद इन महिला होमगार्ड को डायल 112 के अलावा पिंक पुलिस और 1090 की महिला पुलिस अधिकारियों के साथ तैनात किया जाएगा। महिला होमगार्ड उनकी गाड़ियां चलाएंगी। बीते दिनों इस संबंध में शासन के निर्देश पर अपर मुख्य सचिव होमगार्ड अनिल कुमार द्वितीय, डीजी होमगार्ड विजय कुमार, डीआइजी मुख्यालय रणजीत सिंह, डीआइजी केंद्रीय प्रशिक्षण संस्थान विवेक कुमार सिंह की बैठक में पूरी कार्ययोजना तैयार की गई।

पुरुष चालकों के कारण अपराधियों से पूछताछ मेंं होती है दिक्कतें : पिंक पुलिस, 1090 समेत अन्य महिला पुलिस विंग में तैनात महिला पुलिस अधिकारियों द्वारा छेड़छाड़, महिला हिंसा से संबंधित मामलों में जब किसी अपराधी की गिरफ्तारी अथवा हिरासत में लिया जाता है। ऐसी स्थिति में पुरुष वाहन चालकों के साथ में होने के कारण उन्हें अपराधी से पूछताछ में दिक्कतें होती हैं। इसलिए महिला पुलिस अधिकारियों और महिला पुलिस विंग के साथ इन होमगार्ड महिला पुलिस चालकों की तैनाती की जाएगी। इसके साथ ही महिला होमगार्ड को और सशक्त बनाने की मंंशा शासन की है।

12 मंडलीय प्रशिक्षण केंद्र की महिला होमगार्ड का होगा प्रशिक्षण : पहले फेस में 12 मंडीलय प्रशिक्षण केंद्र की महिलाओं को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इसमें मंडलीय प्रशिक्षण केंद्र लखनऊ, कानपुर, झांसी, आगरा, मेरठ, मुरादाबाद, बरेली, अयोध्या, आजमगढ़, वाराणसी, गोरखपुर और प्रयागराज है। प्रदेश भर में महिला होमगार्ड की संख्या करीब चार हजार है। हालांकि स्वीकृत संख्या पांच हजार के आस पास है।

डीआइजी होमगार्ड मुख्यालय बोले : डीआइजी होमगार्ड मुख्यालय रणजीत सिंह ने बताया क‍ि शासन के निर्देश पर पहले फेस में करीब 150 महिला होमगार्ड को कार चलाने का प्रशिक्षण दिया जाएगा। हमारे यहां से डायल 112 में करीब 12 हजार होमगार्डों की तैनाती है। इसमें चालकों की बड़ी संख्या है। अब महिला होमगार्ड के प्रशिक्षित होने के बाद उनकी तैनाती 112, 1090 और अन्य महिला पुलिस विंग में की जाएगी।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.