मेट्रीमोनियल साइट पर पहले युवती ने की दोस्ती, फि‍र IAS का पति बनने का लालच देकर ऐंठे 10 लाख

लखनऊ: हजरतगंज कोतवाली में दर्ज हुआ मुकदमा, 10 लाख ऐंठ जालसाज युवती अपनी मौसी व अन्‍य समेत फरार। (प्रतीकात्मक फोटो)

लखनऊ मेट्रीमोनियल साइट पर युवक को भेजी फ्रेंड रिक्वेस्ट। दोनों में देर रात होने लगी चैटिंग। युवती बोली-आयकर विभाग की नौकरी छोड़ी है अब करूंगी आइएएस की तैयारी। युवक सजाने लगा शादी के सपने इमोशनल ड्रामा कर 10 लाख ऐंठ जालसाज युवती अपनी मौसी व अन्‍य समेत फरार।

Publish Date:Sat, 16 Jan 2021 08:50 PM (IST) Author: Divyansh Rastogi

लखनऊ, जेएनएन। खुद को करोड़पति बताकर एक युवती ने मेट्रीमोनियल साइट पर राजधानी निवासी एक युवक से दोस्ती की। शादी का झांसा देकर वाट्सएप पर मैसेज कर साथ जीने-मरने की कसमें खाई। इसके बाद जरूरत के नाम पर 10 लाख रुपये ऐंठे और फिर मोबाइल स्विच ऑफ कर चंपत हो गई। पीड़ित युवक ने हजरतगंज कोतवाली में युवती और उसके परिवारीजनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। मेट्रीमोनियल साइट पर आई फ्रेंड रिक्वेस्ट, लच्छेदार बातों में ऐसे फंसाया...

इंस्पेक्टर हजरतगंज श्यामबाबू शुक्ला ने बताया कि प्राग नारायाण रोड निवासी मनोज अग्रवाल ने जीवन साथी मेट्रीमोनियल साइट पर अपनी प्रोफाइल बना रखी थी। 15 अगस्त को उस पर प्रियंका सिंह की रिक्वेस्ट आयी। दोनों की बातचीत शुरू हुई। इस दौरान उसने युवक को आइएएस का पति बनने का लालच दिया। प्रियंका ने कहा कि उसने हाल में ही आयकर विभाग की नौकरी छोड़ी है, अब आइएएस की तैयारी कर रही है। जल्‍द ही तुम आइएएस के पति बनोगे। अपनी लच्छेदार बातों में प्रियंका ने मनोज को फंसा लिया। दोनों के बीच शादी की बात शुरू हो गई। घर वाले भी तैयार हो गए। दोनों ने नंबर का आदन-प्रदान किया और उनके बीच बातचीत और वाट्सएप चैटिंग शुरू हो गई।

तय हुई शादी की तिथि, 10 लाख ऐंठ चंपत: इंस्पेक्टर ने बताया कि वाट्सएप चैटिंग के दौरान प्रियंका ने साथ जीने मरने की कसमें खाईं। प्रिंयका ने बताया कि वह मूलरूप से नदवा बिहार की रहने वाली है। उसके माता-पिता की मृत्यु हो चुकी है। नदवा में उसकी करोड़ों की जमीन है। जिसकी वही वारिस है। इसके बाद प्रियंका ने अपनी मौसी से मनोज की मुलाकात कराई। 16 दिसंबर शादी की तिथि तय हो गई। शादी की तिथि तय होने के बाद प्रियंका ने कहा कि कहीं से उसे रुपये मिलना था नहीं मिल पाए हैं। इसलिए मनोज से उसने रुपयों की मांग की। मनोज ने प्रियंका के खाते में पहले छह लाख और फिर चार लाख डाल दिए। रुपये खाते में पहुंचते ही प्रियंका और उसकी मौसी ओर अन्य लोगों के नंबर स्विच ऑफ हो गए। कई दिन तक नंबर जब नहीं लगे तो मनोज ने तहरीर देकर मुकदमा दर्ज कराया। इंस्पेक्टर ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.