यूपी टीईटी 2021 कल, परीक्षा केंद्रों पर लाइव सीसीटीवी सर्विलांस; हर जिले में पर्यवेक्षक भी तैनात

UPTET 2021 उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा 2021 (यूपी टीईटी) रविवार को होनी है। इसकी निगरानी के लिए शिक्षा विभाग के अफसरों को पर्यवेक्षक के रूप में तैनात करके जिम्मेदारी दी गई है कि वे प्रश्नपत्रों के रखरखाव से लेकर परीक्षा केंद्रों का निरीक्षण करें।

Umesh TiwariSat, 27 Nov 2021 06:30 AM (IST)
उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा 2021 रविवार को है।

लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा 2021 (यूपी टीईटी) रविवार को होनी है। इसकी निगरानी के लिए शिक्षा विभाग के अफसरों को पर्यवेक्षक के रूप में तैनात करके जिम्मेदारी दी गई है कि वे प्रश्नपत्रों के रखरखाव से लेकर परीक्षा केंद्रों का निरीक्षण करें। परीक्षा को नकलमुक्त बनाने के लिए विशेष तैयारी की गई है। पहली बार परीक्षा केंद्रों पर लाइव सीसीटीवी सर्विलांस की व्यवस्था की गई है। इसके जरिए केंद्र की हर गतिविधि पर नजर रखी जाएगी। इसके लिए प्रदेश स्तर पर कंट्रोल रूम भी स्थापित किया गया है, जिससे किसी भी गड़बड़ी को रोका जा सके।

उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा दो पालियों में होगी, पहली पाली में प्राथमिक स्तर का इम्तिहान सुबह 10 बजे से 12.30 बजे तक होगा, द्वितीय पाली में उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा ढाई से पांच बजे तक चलेगी। इसके लिए कुल 21 लाख, 62 हजार, 287 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है। प्राथमिक स्तर पर 12,91,628 अभ्यर्थियों के लिए 2554 केंद्र बनाए गए है। वहीं, उच्च प्राथमिक स्तर में 8,73,553 अभ्यर्थियों के लिए कुल 1747 केंद्र बने हैं।

शिक्षा निदेशक बेसिक डा. सर्वेंद्र विक्रम बहादुर सिंह ने विभाग के ही अफसरों को दूसरे जिलों में पर्यवेक्षण के लिए तैनात किया है। निर्देश है कि पर्यवेक्षक संबंधित जिले के जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक के साथ ही जिला विद्यालय निरीक्षक को रिपोर्ट करेंगे और डीआइओएस को भ्रमण कार्यक्रम सौंपेंगे। परीक्षा के उत्तर पत्रक व प्रश्नपुस्तिका जहां रखी हो वहां का भी भ्रमण करेंगे। पर्यवेक्षक को आवंटित जिले में पहुंचने की सूचना परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय के कंट्रोल रूम को देनी होगी।

पर्यवेक्षक को सहयोग देने के लिए स्थानीय अधिकारी की ड्यूटी बेसिक शिक्षा अधिकारी लगाएंगे। आगरा में मनोज कुमार गिरि, मथुरा में महेशचंद्र, बरेली में अचल कुमार मिश्र, कानपुर नगर में शिवसेवक सिंह, मुरादाबाद में अशोक कुमार सिंह, लखनऊ में अजय सिंह, वाराणसी में अमरनाथ राय, प्रयागराज में रावेंद्र सिंह बघेल आदि को लगाया गया है।

समस्त अधिकारियों को परीक्षा को शुचितापूर्वक और नकलविहीन कराने का निर्देश दिया गया। स्पष्ट निर्देश दिया गया है कि प्रश्नपत्र व ओएमआर बंडल खोलते समय किसी भी अधिकारी के पास किसी भी प्रकार के इलेक्ट्रानिक उपकरण, कैमरा फोन नहीं होने चाहिए। केंद्रों पर पर्याप्त संख्या में पुलिस बल की ड्यूटी लगाने का निर्देश दिए गए हैं। इंटरनेट मीडिया के माध्यम से भ्रामक सूचना प्रसारित करने अथवा नकल का प्रयास करने वालों के विरुद्ध साइबर अपराध नियंत्रण कानून के सुसंगत प्रावधानों के अनुसार कठोर कार्रवाई के निर्देश दिए गए है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.