यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट परीक्षायें सात फरवरी से

इलाहाबाद (जेएनएन)।  उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षाएं सात फरवरी, 2019 से शुरू होंगी। उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने सोमवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग में इसके निर्देश दिए। उन्होंने 16 कार्यदिवसों में ही दोनों परीक्षाएं संपन्न कराने के लिए कहा है। यूपी बोर्ड की ओर से शुक्रवार तक पूरी परीक्षा का टाइम टेबिल घोषित किए जाने के आसार हैं।

गौरतलब है कि पिछली बार यूपी बोर्ड की परीक्षाएं छह फरवरी, 2018 से शुरू हुई थीं और दस मार्च तक चली थी। उप मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि इस बार परीक्षाएं फरवरी माह में ही संपन्न करा ली जाएं। चूंकि इस साल हाईस्कूल और इंटरमीडिएट में सभी विषयों के एक-एक ही प्रश्नपत्र हैं, इसलिए बोर्ड के लिए इसमें समस्या भी नहीं होगी।

योजना भवन में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये परीक्षा की तैयारियों की समीक्षा करते हुए डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा कि फरवरी, 2019 में त्योहार अवकाश और कुंभ पर्व भी है। परीक्षा तिथियों के निर्धारण में इनका भी ख्याल रखा जाए। उन्होंने कहा कि जिला विद्यालय निरीक्षक 15 सितंबर तक केंद्रों के निरीक्षण का काम पूरा कर लें। परीक्षा केंद्र निर्धारण में किसी भी प्रकार की अनियमितता पर जिला विद्यालय निरीक्षक को प्रथमत: दोषी माना जाएगा।
 

Today we have taken an important decision but we are yet to announce it. Both the Class 10 and Class 12 state board exams will begin on February 7 and will be completed within 16 working days: UP Deputy CM Dinesh Sharma pic.twitter.com/LpjoDGBziG

उप मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि वर्ष 2018 की उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन हेतु मानदेय का भुगतान तत्काल करा लिया जाए। उत्तर पुस्तिकाओं में डी कोडिंग प्रक्रिया अपनाई जाए। बालिकाओं हेतु यथासंभव स्वकेंद्र परीक्षा केंद्रों का निर्धारण किया जाए। केंद्र निर्धारित होने के उपरांत किसी भी दशा में परिवर्तन नहीं होगा। जनपद स्तर पर एक कंट्रोल रूम की स्थापना की जाए, जहां पर प्रत्येक केंद्र का पूर्ण विवरण उपलब्ध रहे।

प्रत्येक केंद्र जीपीएस से लिंक किया जाए। साथ ही केंद्र निर्धारण विसंगति की शिकायत केलिए एक अतिरिक्त ई-मेल आईडी बनाई जाए। समीक्षा बैठक में अपर मुख्य सचिव, माध्यमिक एवं उच्च शिक्षा संजय अग्रवाल, सचिव संध्या तिवारी, विशेष सचिव चंद्र विजय तिवारी और निदेशक माध्यकि शिक्षा विनय कुमार पांडेय मौजूद रहे।

योजना भवन,लखनऊ में वर्ष 2019 में आयोजित होने वाली बोर्ड परीक्षा की तैयारी के सम्बंध में विडियो कॉन्फ़्रेन्सिंग के माध्यम से अधिकारियों को नकल विहीन बोर्ड परीक्षा की तैयारी के निर्देश एवं तय समय मे कार्यों के प्रभावी क्रियान्वयन हेतु समीक्षा किया । pic.twitter.com/RX723Ifjwk

डिप्टी सीएम से वीडियो कांफ्रेंसिंग

यही नहीं कालेजों में परीक्षा में बायोमैट्रिक हाजिरी पर भी जोर दिया जा रहा है। एक साथ कई संसाधनों का इंतजाम करना मुश्किल हो रहा है। ये बात पिछले दिनों उप मुख्यमंत्री की समीक्षा बैठक में प्रमुखता में उठी। इसीलिए सोमवार को डिप्टी सीएम डा. दिनेश शर्मा और अपर मुख्य सचिव संजय अग्रवाल जिला विद्यालय निरीक्षकों से वीडियो कांफ्रेंसिंग करके बात की इसमें परीक्षा तैयारियों का जायजा लेने के साथ ही वायस रिकॉर्डर लगवाने का आदेश दिये गये। 

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.