UP Assembly Election 2022: एआइएमआइएम का उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी से गठबंधन का खंडन, सौ सीट पर अकेले लड़ेगी

UP Assembly Election 2022 ऑल इण्डिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-ए- मुस्लमीन (एआईएमआईएम) ने उत्तर प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी के साथ किसी भी प्रकार के गठबंधन की खबरों पर विराम लगा दिया है। गठबंधन की खबरों का सिरे से खंडन कर दिया है।

Dharmendra PandeySun, 25 Jul 2021 12:55 PM (IST)
हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी- समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव

लखनऊ, जेएनएन। हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआइएमआइएम ने उत्तर प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन से साफ इन्कार किया है। एआइएमआइएम के उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष शौकत अली ने कहा कि यह महज अफवाह है। हमारी पार्टी का समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन होने का सवाल ही नहीं है। हमारी पार्टी उत्तर प्रदेश में सौ सीट पर लड़ेगी। ï

ऑल इण्डिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-ए- मुस्लमीन (एआइएमआइएम) ने उत्तर प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी के साथ किसी भी प्रकार के गठबंधन की खबरों पर विराम लगा दिया है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष शौकत अली ने कहा कि एआइएमआइएम की तरफ से ऐसी कोई बात नहीं कही गई है। पार्टी के मुखिया असदुद्दीन ओवैसी ने आगामी उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों में समाजवादी पार्टी के साथ किसी भी प्रकार के गठबंधन की खबरों का सिरे से खंडन कर दिया है।

एआइएमआइएम उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष शौकत अली ने कहा कि हमने कभी यह नहीं कहा कि एआइएमआइएम तो समाजवादी पार्टी के साथ इस शर्त पर गठबंधन कर सकती है कि सत्ता में आने पर अखिलेश यादव किसी मुस्लिम नेता को उप-मुख्यमंत्री बनाएंगे। हम इससे स्पष्ट तौर पर इनकार करते हैं, क्योंकि ना तो मैंने और ना ही एआइएमआइएम प्रमुख ओवैसी ने यह बयान दिया है।

अभी तक यह सामने आया था कि औवैसी की पार्टी एआइएमआइएम ने समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन से पहले उप मुख्यमंत्री पद की शर्त रखी है। माना जा रहा था कि है कि सरकार बनने पर उप मुख्यमंत्री भागीदारी संकल्प मोर्चे के किसी सीनियर मुस्लिम विधायक को बनाया जाए. लेकिन आज शौकत अली ने इसे गलत बताया है। उनका कहना है कि उनकी पार्टी की तरफ से ऐसा कोई बयान नहीं दिया गया है।

शौकत अली ने कहा कि हमने तो केवल यह कहा था कि समाजवादी पार्टी तो 2017 चुनावों में 20 फीसदी मुस्लिम वोट पाकर सत्ता में आई थी, लेकिन उन्होंने किसी मुस्लिम को उपमुख्यमंत्री नहीं बनाया। इससे पहले एआइएमआइएम ने घोषणा की थी कि वह उत्तर प्रदेश में 2022 के विधानसभा चुनाव में सौ सीटों पर लड़ेगी। प्रदेश की 110 विधानसभा सीटें ऐसी हैं जहां करीब 30 से 39 फीसदी मतदाता मुस्लिम हैं। वहीं 44 सीटों पर यह प्रतिशत 40-49 और 11 सीटों पर 50-65 प्रतिशत है। ओवैसी उत्तर प्रदेश में कई क्षेत्रीय पार्टियों के साथ भी संपर्क में हैं। उनकी पार्टी ने 2017 के विधानसभा चुनाव में 38 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे लेकिन जीत एक भी सीट पर नहीं मिली थी। गौरतलब है कि ओवैसी ने सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (ओम प्रकाश राजभर की पार्टी ) के साथ मिलकर भागीदारी संकल्प मोर्चा बनाया है। भागीदारी मोर्चा 2022 के विधानसभा चुनाव में उतरने की जोरदार तैयारी में लगा है।  

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.