top menutop menutop menu

लखनऊ दो सौ पुलिसकर्मियों की बजेगी शहनाई, नेग में साहब से छुट्टी पाई Lucknow news

लखनऊ, (निशांत यादव)। सहालग के इस महीने पुलिस विभाग में झूमकर बैैंड-बाजा-बरात के नजारे दिखेंगे। दस-बीस नहीं, जिले में दो सौ से ज्यादा पुलिस वालों की शहनाई गूंजेगी। उसमें भी खास यह कि विभाग में ही तैनात 24 जोड़े एक-दूजे के हाथ थामेंगे। कोई घोड़ी चढ़ेगा, किसी के हाथों पर मेंहदी सजेगी। जबकि 100 से ज्यादा पुलिसकर्मियों के बच्चों के सिर सजेगा सेहरा। खुशी के इन पलों का रंग तब और चटख हो गया, जब 'साहब' ने नेग के रूप में सारे के सारे कर्मियों को दिल खोलकर छुट्टी बांटी। वो भी महीने भर की। इस सोच से कि जिंदगी के इस खास अवसर को जमकर जी लें 'खाकी वाले...।

दरअसल, पिछले एक सप्ताह के दौरान एसएसपी कार्यालय में पुलिसकर्मियों की छुट्टी के आवेदन काफी बढ़ गए हैैं। आवेदनों के साथ पुलिसकर्मियों की शादी के कार्ड भी लगाए गए हैं। जब एसएसपी कार्यालय ने उनकी लिस्ट बनाई तो पता चला कि तमाम थानों पर तैनात 200 पुलिसकर्मी शादी का सपना संजोए हैैं। अयोध्या पर फैसला आया है। सुरक्षा बड़ा सवाल है। इन तमाम चिंताओं के बीच मामला एसएसपी कलानिधि नैथानी तक पहुंचा तो फैसले में देर नहीं लगाई।

अर्जी में काट-छांट के बजाए, अपने कर्मचारियों के जिंदगी के खास पलों को यादगार बनाने का फैसला उन्होंने किया। हर थाने पर दो से तीन पुलिसकर्मियों को शादी के लिए छुट्टी दे दी। एवज में रिजर्व लाइन्स से उनकी जगह दूसरे पुलिसकर्मियों की तैनाती की व्यवस्था कराई। इसके अलावा 100 पुलिसकर्मियों के अवकाश उनके बच्चों की शादी के लिए स्वीकृत किए गए। पुलिसकर्मियों को विभाग ने शादी की सौगात के रूप में 30 दिन के अवकाश प्रदान किए हैं।

इनकी शादी होगी खास

एक दूसरे से शादी करने वाले 48 पुलिसकर्मियों की शादी खास होगी। यहां पुलिस के अधिकारी भी शादी में शामिल होंगे।

शादी जीवन का खास मौका

एसएसपी कलानिधि नैथानी ने कहा, सुरक्षा व्यवस्था को लेकर दबाव है लेकिन, शादी जीवन का खास मौका होता है। 300 पुलिसकर्मियों को छुट्टी देना चुनौती बेशक है मगर मुश्किल नहीं है। इसीलिए सभी को अवकाश दिया गया है। इतना ही नहीं, तैयारी में पर्याप्त समय मिले, शादी कर लोग घूम-फिर सकें इसलिए महीने भर का अवकाश दिया गया है। वैकल्पिक व्यवस्था के लिए पुलिस लाइन्स से पुलिसकर्मियों को बुलाया गया है ताकि कानून व्यवस्था में दिक्कत न आए। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.