भाप इंजन को फिर से पटरी पर दौड़ाकर बनाया था विश्व रिकॉर्ड, 20Yr से अपना हक पाने को काट रहे रेलवे अफसरों के चक्‍कर

1855 में बने विश्व के सबसे पुराने भाप इंजन 'फेयरी क्वीन' को फिर से रेल पटरी पर दौड़ाया था।

विश्व के सबसे पुराने भाप इंजन को सेवानिवृत्त रेलवे अधिकारी ने इंजन को दुरुस्त कर बनाया था विश्व रिकॉर्ड। पहले इंजन दौड़ाया अब 2001 से 5850 रुपये के लिए रेलवे के अधिकारी उनसे चक्कर लगवा रहे। मनमोहन शर्मा कहते हैं कि खैरात नहीं मुझे अपना हक चाहिए।

Publish Date:Thu, 28 Jan 2021 06:45 AM (IST) Author: Divyansh Rastogi

लखनऊ [जितेंद्र उपाध्याय]। दिल्ली के संग्रहालय में रखे 1855 में बने विश्व के सबसे पुराने भाप इंजन 'फेयरी क्वीन' को फिर से रेल पटरी पर दौड़ाने वाले तत्कालीन रेलवे अधिकारी मनमोहन शर्मा को अब सिस्टम दौड़ा रहा है। 2001 से 5850 रुपये के लिए रेलवे के अधिकारी उनसे चक्कर लगवा रहे हैं। मनमोहन शर्मा राजधानी लखनऊ से उत्तर पश्चिम रेलवे बीकानेर तक आने-जाने में फीस वापसी की रकम के एवज में दो लाख रुपये खर्च कर चुके हैं, लेकिन अभी तक उन्हें रकम नहीं मिली। थक हार कर अब वह उपभोक्ता फोरम में शिकायत करने की तैयारी कर रहे हैं।

विश्व के सबसे पुराने भाप इंजन को फिर से चलाकर विश्व रिकॉर्ड बनाने वाले कानपुर रोड एलडीए कॉलोनी सेक्टर-जी निवासी 76 वर्षीय मनमोहन सिंह ने सेवानिवृत्त होने से पहले 2001 में रेलवे बोर्ड के आजीवन सदस्य बनने के लिए बोर्ड को 6,500 रुपये फीस के रूप में जमा किया था। बोर्ड की ओर से आयोजित परीक्षा में पास होने पर जमा की गई फीस का 90 फीसद वापस होने पत्र भी दिया गया था। एडीएमई (पावर) के पद पर बीकानेर में तैनात रहे मनमोहन शर्मा ने न केवल परीक्षा पास की बल्कि उन्हें रेलवे बोर्ड ने आजीवन सदस्य बनने का प्रमाण पत्र और परिचय पत्र भी जारी कर दिया, लेकिन उन्हें फीस का 90 फीसद रकम 17 साल बाद भी वापस नहीं मिली। तब से अब तक वह दो हजार बार कागजात व रसीद की फोटो करा चुके हैं और 20 बार बीकानेर जा चुके हैं। बावजूद उन्हें आश्वासन के सिवा कुछ नहीं मिला।

 

पहले किया इन्कार, फिर किया स्वीकार: रेलवे बोर्ड ने पहले तो पैसा देने से इन्कार कर दिया, लेकिन जब मनमोहन शर्मा ने सूचना अधिकार अधिनियम-2005 के तहत इसकी सूचना मांगी तो बोर्ड ने पैसा देने की बात स्वीकार की। 29 सितंबर 2011 को कार्यालय मंडल रेलवे बीकानेर से पत्र आया कि आपको फीस की रकम का 90 फीसद वापस होनी है। आप फीस रसीद की मूल कॉपी भेजे जिससे रकम की वापसी सुनिश्चित की जाए। 29 सितंबर 2016 को डीआरएम बीकानेर कार्यालय से 5,850 रुपये वापसी की प्रक्रिया शुरू होने की जानकारी दी गई। पत्र आने के एक साल से ज्यादा समय होने के बावजूद अभी तक पैसा उन्हें नहीं मिला है।

 

खैरात नहीं अधिकार चाहिए: मनमोहन शर्मा से कई बार साथी रेलवे के अधिकारियों ने इस छोटी सी रकम को जेब से देने का प्रयास किया, लेकिन उन्होंने मना कर दिया। उनका कहना है कि रेलवे बोर्ड ने कहा था इसलिए पैसा अधिकार से मांग रहा हूं। मुझे खैरात नहीं चाहिए।

 

ऐसे बनाया था विश्व रिकॉर्ड: वर्ष 1997 में बीकानेर में एडीएमई के पद पर तैनात रहे मनमोहन शर्मा ने विश्व के सबसे पुराने भाप इंजन 'फेयरी क्वीन' को न केवल पटरी पर दौड़ाया बल्कि बनाने के लिए उनका नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ड रिकॉर्ड्स में भी दर्ज किया गया। 1905 में डैमेज घोषित किए गए इस इंजन को सात बार विदेशी इंजीनियरों ने बनाने का प्रयास किया। 1971 में इसे चंदौसी जोनल ट्रेनिंग स्कूल में रेलवे के मॉडल के रूप में स्थापित कर दिया गया। दिल्ली के संग्रहालय में स्थापित इस इंजन को मनमोहन शर्मा ने संग्रहालय से निकाल कर एक बार फिर फिर से चला दिया। भाप से चलने वाला इस इंजन की गति भी उन्होंने बढ़ाकर 10 किमी प्रति घंटे से 90 किमी प्रति घंटा कर दी। 1997 में दो महीने 27 दिन में तैयार किए इस इंजन को बनाने के लिए रेलवे ने भले ही आठ लाख रुपये का बजट दिया था, लेकिन मनमोहन शर्मा ने मात्र 97 हजार रुपये में इंजन को दौड़ा दिया। मुंबई से थाणे के बीच देश में पहली ट्रेन लेकर चलने वाला यह इंजन आज भी सप्ताह में दो दिन दिल्ली-अलवर के बीच 14 डिब्बों को लेकर दौड़ रहा है। तत्कालीन रेल मंत्री दिग्विजय सिंह ने न केवल उन्हें नकद पुरस्कार देकर सम्मानित किया था बल्कि रेलवे के अधिकारियों की ओर से भी कई अवार्ड दिए गए।

 

टेंशन में मस्ती की तलाश: मनमोहन शर्मा पैसे के लिए भले ही बीकानेर के चक्कर लगा रहे हों, लेकिन वह फिल्मों में काम करके मस्ती के पल भी तलाश लेते हैं। राजधानी में बनी फिल्म 'गदर' में मुस्लिम ट्रेन ड्राइवर की भूमिका निभाने वाले मनमोहन शर्मा अभिनेता संजीव कुमार, भारत भूषण व गोविंदा के साथ कई फिल्मों में अभिनय कर चुके हैं। वर्तमान में अभिनेत्री एश्वर्या राय की बन रही फिल्म 'रुठा साजन' में ढाबेवाले की भूमिका में एक बार फिर वह बड़े पर्दे पर नजर आएंगे। अक्षय कुमार के साथ बन रही इस फिल्म की शूटिंग के लिए वह लद्दाख भी गए थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.