top menutop menutop menu

State Warehouse Rice Scam: राज्य भंडार गृह के कर्मियों पर बड़ी कार्रवाई, दो चौकीदार भी सस्पेंड

बहराइच [प्रदीप तिवारी]। State Warehouse Rice Scam: उत्तर प्रदेश के बहराइच के बसंतापुर स्थित राज्य भंडार गृह से सरकारी चावल बेचने के मामले में कार्रवाई का दौर लगातार चल रहा है। एसडब्ल्यूसी ने गोदाम की चौकीदारी व देखभाल की जिम्मेदारी संभालने वाले दो चौकीदार को शुक्रवार देर रात सस्पेंड कर दिया। 

एसडब्ल्यूसी के बाद अब भारतीय खाद्य निगम के अधिकारियों पर कार्रवाई तय मानी जा रही है, क्योंकि अपर मुख्य सचिव की रिपोर्ट पर एफसीआइ ने भी जांच टीम गठित कर दी है। यह टीम सोमवार को बहराइच पहुंच सकती है। इसके साथ ही गोदामों का नए सिरे से सत्यापन भी कराया जाएगा। 

दैनिक जागरण के बसंतापुर राज्य भंडार गृह से सरकारी चावल बेचने के खुलासे ने शासन स्तर तक खलबली मचा दी है। अपर मुख्य सचिव ने इस पर कड़ा रुख अपनाया है। भंडार गृह में भंडारित अनाज की देखरेख की जिम्मेदारी को देखते हुए पहले एसडब्ल्यूसी के प्रबंधक आशाराम, भंडार अधीक्षक चंद्रभूषण को निलंबित किया गया। देर रात चावल निकासी के समय ड्यूटी पर रहने वाले चपरासी/ चौकीदार सत्यप्रकाश व नरेंद्र कुमार पांडेय को सस्पेंड कर दिया गया। एमडी के मुताबिक भारतीय खाद्य निगम के प्रबंधक व कर्मियों की संलिप्तता की जांच के लिए अपर मुख्य सचिव एमवीएस रामी रेड्डी ने एफसीआइ को रिपोर्ट भेज दी है। पूर्व में इस तरह के मामले में एफसीआइ के अधिकारियों की मिलीभगत का खुलासा हो चुका है। 

सहकारिता मंत्री ने भी लिया संज्ञान

दैनिक जागरण के खुलासे को राज्य के सहकारिता मंत्री ने भी संज्ञान लिया है। यह भंडार क्षेत्र प्रदेश के सहकारिता मंत्री मुकटबिहारी वर्मा के विधानसभा क्षेत्र में आता है। एमडी ने बताया कि कई बिंदुओं पर जांच हो रही है। इसमें एक भी आरोपित कार्रवाई से नहीं बचेंगे। 

सिक्योरिटी गार्ड का बयान दर्ज 

भंडार गृह से सरकारी चावल बेचने की कोशिशों को विफल करने वाले सिक्योरिटी गार्ड का बयान दर्ज किया गया है। गार्ड ने कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। उसने मारपीट करने का भी आरोप लगाया है। 

क्या कहते हैं एसडब्ल्यूसी एमडी ?

एसडब्ल्यूसी एमडी श्रीकांत गोस्वामी के मुताबिक, दो और कर्मियों को सस्पेंड किया गया है। एफसीआइ को रिपोर्ट भेजी गई है। सभी गोदामों में डंप अनाज की नए सिरे जांच कराने को कहा गया है। इसमें अभी और कार्रवाई होगी। 

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.