यूपी के गांवों में विशेष अभियान आसान करेगा COVID-19 से जंग, रैपिड रेस्पांस टीमों ने शुरू की जांच

उत्तर प्रदेश के सभी 97509 राजस्व गांवों में कोरोना जांच का विशेष अभियान शुरू किया है। (सांकेतिक तस्वीर)

योगी आदित्यनाथ सरकार ने बुधवार से उत्तर प्रदेश के सभी 97509 राजस्व गांवों में कोरोना जांच का विशेष अभियान शुरू किया है। रैपिड रेस्पांस टीमों को घर-घर जाकर लक्षणयुक्त मरीजों की तलाश की जिम्मेदारी दी गई है। टीमों को दस लाख एंटिजेन टेस्ट किट दी गई हैं।

Umesh TiwariThu, 06 May 2021 10:06 AM (IST)

लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। उत्तर प्रदेश में तेजी से बढ़ती कोरोना संक्रमित नए मरीजों की संख्या पर लगाम लगी है। स्वस्थ होते मरीजों की संख्या दिनों-दिन बढ़ रही है। ऐसे में पंचायत चुनाव और होली के चलते गांवों में संक्रमण फैलने की आशंका पर प्रदेश के सभी राजस्व गांवों में शुरू हुआ अभियान ऐसा चक्रव्यूह बन सकता है, जो कोरोना से लड़ाई जिताने में बड़ी भूमिका निभा सकता है।

योगी आदित्यनाथ सरकार ने बुधवार से उत्तर प्रदेश के सभी 97509 राजस्व गांवों में कोरोना जांच का विशेष अभियान शुरू किया है। रैपिड रेस्पांस टीमों को घर-घर जाकर लक्षणयुक्त मरीजों की तलाश की जिम्मेदारी दी गई है। टीमों को दस लाख एंटिजेन टेस्ट किट दी गई हैं। जिन मरीजों में लक्षण पाए जाएंगे, उन्हें निगरानी समितियां सरकार द्वारा मुहैया मेडिसिन किट उपलब्ध कराएंगी। उन सभी को आइसोलेट कर दिया जाएगा। जिन ग्रामीणों के घर में क्वारंटाइन करने की व्यवस्था नहीं होगी, उन्हें गांवों में बनाए गए क्वारंटाइन सेंटरों में रखा जाएगा। जिन्हें जरूरत होगी, उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा।

माना जा रहा है कि सरकार का यह अभियान कोरोना के खिलाफ चल रही लड़ाई को काफी हद तक आसान कर देगा। दरअसल, 2011 की जनगणना के मुताबिक, प्रदेश की कुल 77.73 आबादी ग्रामीण क्षेत्रों में रहती है। यदि जांच कर गांवों में लक्षणयुक्त मरीजों का तुरंत इलाज शुरू हो जाए तो कोरोना का प्रसार निश्चित रूप से रुकेगा। फिर सरकार सिर्फ शहरी क्षेत्र के लिए अपनी मजबूत रणनीति बना सकती है। 24 करोड़ आबादी के लिए संसाधन जुटाने का दबाव भी काफी हद तक कम हो जाएगा। ऐसे में इन पांच दिन की रिपोर्ट पर सरकार की नजर है।

सफाई में लगाए 68 हजार कर्मचारी : अपर मुख्य सचिव सूचना डॉ. नवनीत सहगल ने बताया कि सभी राजस्व गांवों के लिए कुल 68737 कर्मचारी सफाई के काम में लगाए गए हैं। इसके अलावा 19 हजार गांवों में हाइपोक्लोराइड का छिड़काव किया गया है और 9883 गांवों में फागिंग कराई जा रही है। उन्होंने बताया कि गांवों में जिन लक्षणयुक्त मरीजों को क्वारंटाइन किया जाएगा, उनके खाने-पीने आदि की व्यवस्था सरकार द्वारा की जा रही है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.