शहर को मात दे रहा लखीमपुर का स्मार्ट रेवाना, सीसी कैमरों से लैस गांव को सरकार की हर योजना का लाभ

लखीमपुर खीरी के रेवाना ने सिद्ध किया है कि नीयत नीति और नियोजन बेहतर हो तो हर संकल्प पूरा होता है। यह गांव अपनी स्मार्टनेस के कारण चर्चा में है। गांव के प्रधान ने बहू-बेटियों की सुरक्षा की खातिर पूरा गांव ही सीसी कैमरों से लैस करवा दिया।

Anurag GuptaFri, 24 Sep 2021 07:05 AM (IST)
केंद्र तथा राज्य सरकारों की हर योजना का लाभ यहां के निवासियों को मिल रहा है।

लखीमपुर, [धर्मेश शुक्ला]। दिल्ली की जूही सिंह का ब्याह जब लखीमपुर के एक छोटे से गांव में तय हुआ तो वहां को लेकर मन में तमाम आशंकाएं थी। बिजली, पानी सड़क और सुरक्षा को लेकर उनकी सारी आशंकाएं रेवाना गांव में पांव धरते ही निर्मूल साबित हुईं। अकेले जूही ही नहीं गांव की सभी बहू-बेटियां खुश हैं कि उनका गांव भले ही छोटा हो लेकिन सुविधा और सुरक्षा में किसी शहर से कम नहीं। 

अब बात करते हैं गांव की, लखीमपुर खीरी के रेवाना ने सिद्ध किया है कि नीयत, नीति और नियोजन बेहतर हो तो हर संकल्प पूरा होता है। यह गांव अपनी स्मार्टनेस के कारण चर्चा में है। गांव के प्रधान ने बहू-बेटियों की सुरक्षा की खातिर पूरा गांव ही सीसी कैमरों से लैस करवा दिया। इसके साथ ही 2200 की आबादी वाले इस गांव में 87 फीसद आबादी को कोरोना का टीका लग चुका है। केंद्र तथा राज्य सरकारों की हर योजना का लाभ यहां के निवासियों को मिल रहा है।

गांव में ग्राम विकास निधि से 16 कैमरे लगवाए गए हैं। इन कैमरों को गांव के सभी रास्तों के अलावा सामुदायिक शौचालय, कोटे की दुकान, प्राइमरी स्कूल, व्यायाम शाला, वाटर स्टोरेज व ओवरहेड टैंक के पास लगवाया गया है। इस गांव में न केवल दस जरूरतमंदों को नए चमचमाते पीएम आवास मिलने जा रहे हैं बल्कि पार्क, ओपेन जिम, गोशाला, सामुदायिक शौचालय और पशु अस्पताल भी बन रहा है। रेवाना गांव की सड़कों और नालियों के दिन भी बहुर रहे हैं, साथ ही एक भव्य तालाब भी तैयार किया जा रहा है, जिसमें जल का संचय भी किया जाएगा। पूरे गांव की नालियों से निकला गंदा पानी भी फिल्टर कर साफ करने की दिशा में प्रयास जारी है। गांव की मिथलेश कुमारी कहती हैं प्रधान ने गांव की सुरक्षा के बंदोबस्त के साथ ही महिलाओं को रोजगार भी दिलाया है। रामदेवी और उमा देवी कहती हैं इस गांव के लिए प्रधान और बीडीओ के प्रयास से उनका जीवन सुखमय और सुरक्षित हुआ है।

शहर जैसी सुविधा दिलाना ही सपना : रेवाना गांव में दूसरी बार प्रधान बने वीरेंद्र वर्मा कहते हैं कि उनके गांव को स्मार्ट बनाने का चयन होने के साथ ही उनको पहली जरूरत सीसी कैमरों की नजर आई। गांव में जब पार्क, व्यायामशाला, स्कूल, अस्पताल, सामुदायिक शौचालय सब कुछ है तो इनकी सुरक्षा भी जरूरी है। इसके लिए ग्राम विकास निधि से कैमरे और आपातकाल या जरूरी सूचना गांव में प्रसारित करने के लिए साउंड सिस्टम लगवाए गए हैं। क्लस्टर कालोनी में बाकायदा कंट्रोल रूम बनवाया गया है। मितौली ब्लाक के बीडीओ चंदनदेव पांडेय कहते हैं कि रेवाना गांव के स्मार्ट बनाने में प्रधान वीरेंद्र वर्मा और उनकी टीम की भूमिका सराहनीय है। इसे क्लस्टर कम स्मार्ट विलेज का दर्जा दिया गया है। 13 विभागों को एक साथ जोड़ा गया है।

बोले जिलाधिकारी : रेवाना गांव में अच्छा काम हो रहा है। इस गांव को स्मार्ट विलेज के रूप में विकसित किया जा रहा है। गांव में सभी कार्य तेजी के साथ पूरे किए जा रहे हैं। स्मार्ट विलेज के मानकों के अनुरूप जल्दी ही यह गांव तैयार होगा। इसके लिए मितौली की टीम बधाई की पात्र है।    - डॉ. अरविंद चौरसिया, डीएम लखीमपुर खीरी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.