शरद पूर्णिमा आज, गोबर के दीपकों से होगी गोमती की आरती

शरद पूर्णिमा आज, गोबर के दीपकों से होगी गोमती की आरती
Publish Date:Fri, 30 Oct 2020 01:48 AM (IST) Author: Jagran

लखनऊ, जेएनएन।शरद पूर्णिमा पर आदि गंगा गोमती की आरती में निर्धन महिलाओं के घर समृद्धि का उजाला लाने के लिए उनके द्वारा बनाए गए गोबर के दीपकों से आरती होगी। इन दीयों से रोशन मनकामेश्वर उपवन घाट पर 30 अक्टूबर को होने वाली आरती के दौरान खीर का वितरण होगा।

मनकामेश्वर मंदिर की महंत देव्या गिरि के सानिध्य में होने वाली आरती में गोबर के दीपकों का प्रयोग करके महंत ने गोरक्षा के साथ ही महिलाओं को रोजगार से जोड़ने की पहल करेंगी। महिलाएं मंदिर में गोबर के दीपक बनाएंगी। आचार्य एसएस नागपाल ने बताया कि ऐसी मान्यता है कि इस दिन चंद्रदेव अमृत की बूंदों की बारिश करते हैं। छत पर लोग गाय के दूध से बनी खीर रखते हैं। इसे परिवार के बीच में बांटकर खाया जाता है। चंद्रमा की कृपा से मां लक्ष्मी का वास होगा, इस मान्यता से लोग चंद्रदेव की भी पूजा करते हैं।

बंगाली समाज करेगा कोजागरी पूजा

मां लक्ष्मी के घर में विराजमान रहें, इसकी कामना को लेकर बंगाली समाज मां लक्ष्मी के पूजन का पर्व कोजागरी 30 अक्टूबर को मनाएगा। मान्यता है कि शरद पूर्णिमा की रात ऐरावत पर बैठकर देवराज इंद्र महालक्ष्मी के साथ धरती पर आते हैं और पूछते हैं कि कौन जाग रहा है। जो जाग रहा होता है और उनका स्मरण कर रहा होता है, उसे ही मां लक्ष्मी और इंद्र की विशेष कृपा मिलती है। बंगाली समाज की प्रिया सिन्हा ने बताया कि मां दुर्गा की विदाई के साथ ही इस दिन मां लक्ष्मी की कामना की पूजा की जाती है। पूजा पंडालों में मां लक्ष्मी की प्रतिमा स्थापित कर उनकी पूजा होती है। कैंट के निहार डे ने बताया कि पुरानी प्रतिमा का विसर्जन होता है और मां लक्ष्मी की नई प्रतिमा की पूरे साल पूजा होती है। शाम सात बजे से पूजा होगी।

करवा चौथ चार को

सुहाग की दीर्घायु की कामना का पर्व करवा चौथ चार नवंबर को है। आचार्य शक्तिधर त्रिपाठी ने बताया कि चार को शाम 7:56 बजे चंद्रोदय होगा। सुहागिन पूजन कर निर्जला व्रत का पारण करती हैं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.