सपा मुखिया अखिलेश यादव बोले- यूपी में सरकार बनने पर मृत 700 किसानों के परिवार को देंगे मदद

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि लोकसभा में तो कृषि कानूनों की वापसी का बिल पारित हो गया लेकिन देश में किसानों के करीब एक वर्ष तक चले आंदोलन के दौरान जिन 700 किसानों की मौत हुई उनके परिवारों की मदद कौन करेगा।

Dharmendra PandeyPublish:Mon, 29 Nov 2021 05:31 PM (IST) Updated:Mon, 29 Nov 2021 05:31 PM (IST)
सपा मुखिया अखिलेश यादव बोले- यूपी में सरकार बनने पर मृत 700 किसानों के परिवार को देंगे मदद
सपा मुखिया अखिलेश यादव बोले- यूपी में सरकार बनने पर मृत 700 किसानों के परिवार को देंगे मदद

लखनऊ, जेएनएन। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सोमवार को किसानों को लेकर बड़ी घोषणा की है। लोकसभा में तीनों कृषि कानूनों की वापसी संबंधी बिल पारित होने के बाद आजमगढ़ से सांसद अखिलेश यादव ने 700 किसानों की मौत पर सवाल खड़ा करने के साथ ही उत्तर प्रदेश में समाजवादी की सरकार बनने पर इनके परिवारों को बड़ी मदद की घोषणा की।

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि लोकसभा में तो कृषि कानूनों की वापसी का बिल पारित हो गया, लेकिन देश में किसानों के करीब एक वर्ष तक चले आंदोलन के दौरान जिन 700 किसानों की मौत हुई उनके परिवारों की मदद कौन करेगा। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी ने तय किया है कि उत्तर प्रदेश में हमारी सरकार बनेगी तो इन सभी 700 किसानों के परिवारीजन का 25-25 लाख रुपए से सम्मान किया जाएगा। हम इनके परिवार की पीड़ा समझते हैं। इसी कारण हमने मदद करने की योजना बना ली है।

उन्होंने यह कहा कि किसानों की आय दोगुनी होगी। नरेन्द्र मोदी सरकार को यह बताना चाहिए कि जिस समय किसानों ने यह बड़ा आंदोलन छेड़ा था तब भाजपा का क्या रुख था और आज जब भाजपा ने कानून वापस ले लिया है तो यह फैसला किसानों के हक में कैसे हो गया। भाजपा तो दोहरी बात करती है। इनको दोहरा चरित्र सभी के सामने आ गया है।

उत्तर प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानभा चुनाव को लेकर अखिलेश यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश की जनता को प्रदेश में अब योगी सरकार नहीं योग्य सरकार चाहिए। हमको भरोसा है कि अगली बार यहां पर जनता योग्य सरकार चुनेगी। सपा प्रमुख ने कहा कि हम उत्तर प्रदेश में छोटे दलों के साथ गठबंधन और उनके सहयोग से बड़ा परिणाम जनता को देंगे। हमारा पूरा प्रयास भाजपा को उत्तर प्रदेश की सत्ता से बाहर करने का है। देश की सरकार का रास्ता उत्तर प्रदेश ही तय करता है और यहां की जनता ने भी इस बार भाजपा को बाहर करना तय ही कर लिया है।