Ayodhya Ram Mandir News: ट्रस्ट को मिले दो हजार चेक बाउंस, तकनीकी कमियों के कारण फंसे छह हजार चेक

करीब चार हजार चेक तकनीकी खामियों से हुए रिजेक्ट। छह हजार निधि समर्पणकर्ताओं से पुन: लिए जाएंगे चेक।

निधि समर्पण अभियान से जुड़े एक पदाधिकारी ने बताया कि बैंक ने इस बारे में ट्रस्ट के जिम्मेदारों को बताया है। ट्रस्ट महासचिव चंपतराय ने करीबियों से इसकी चर्चा भी की है। निधि समर्पण अभियान के अंतर्गत अब तक 21 सौ करोड़ रुपये ट्रस्ट को प्राप्त हुए हैं।

Anurag GuptaMon, 01 Mar 2021 10:32 PM (IST)

अयोध्या, [प्रवीण तिवारी]। रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के 44 दिनों तक चले निधि समर्पण अभियान में मिले करीब छह हजार चेक क्लियर नहीं हो पाए हैं। इन समर्पण कर्ताओं से दोबारा चेक लिए जाएंगे। ये चेक कुल कितनी राशि के हैं, इसका आकलन किया जा रहा है। अधिसंख्य चेक तकनीकी कमियों के कारण रिजेक्ट हुए हैं। इनमें हस्ताक्षर मिलान नहीं होने की समस्या और ओवरराइटिंंग भी मिली। दो हजार चेक ऐसे मिले, जो खाते में पर्याप्त राशि न होने की वजह से बाउंस हो गए। कुछ चेक के पीछे मोबाइल नंबर अंकित थे, तो उनसे बैंक प्रबंधन ने सीधे बात कर चेक क्लियर भी कराया। वहीं रिजेक्ट हुए चेक की जानकारी ट्रस्ट को दे दी गई है। ये चेक देश के भिन्न-भिन्न हिस्सों से आए थे। बैंक ऑफ बड़ौदा, भारतीय स्टेट बैंक व पीएनबी में श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के खाते में जमा किए गए थे।

निधि समर्पण अभियान से जुड़े एक पदाधिकारी ने बताया कि बैंक ने इस बारे में ट्रस्ट के जिम्मेदारों को बताया है। ट्रस्ट महासचिव चंपतराय ने करीबियों से इसकी चर्चा भी की है। मकर संक्रांति से शुरू हुए निधि समर्पण अभियान के अंतर्गत अब तक 21 सौ करोड़ रुपये ट्रस्ट को प्राप्त हुए हैं।

मार्च बाद साफ हो सकेगी प्राप्त राशि की तस्वीर

निधि समर्पण अभियान परिपूर्ण हो गया है। बैंक सूत्रों की मानें तो खातों में कितनी धनराशि आई है, यह तस्वीर मार्च के बाद ही साफ हो सकेगी। अभी बड़ी तादाद में बैंकों में चेक डंप हैं। बैंकों ने चेक क्लियर कराने की प्रक्रिया को और तेज कर दिया है। 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.